संयुक्त राष्ट्र

यूएन की भूमिका की कुछ झलकियाँ

संयुक्त राष्ट्र हर साल एक छोटे आकार का कार्ड प्रकाशित करता है, जिसमें दस सरल उदाहरणों के ज़रिये ये बताया जाता है कि इस वैश्विक संगठन ने दुनिया को एक बेहतर स्थान बनाने में कैसे मदद की. संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगाँठ के अवसर पर इस वर्ष, इसमें एक ग्यारहवीं वजह भी जोड़ी गई यानि कोविड-19 महामारी से मुक़ाबला.

 

देखें वीडियो फ़ीचर...

यूएन में भारत के कुछ ऐतिहासिक पल...

26 जून 1945 को संयुक्त राष्ट्र चार्टर पर हस्ताक्षर करने वाले 50 देशों में से एक भारत भी था. दूसरे विश्व युद्ध के बाद, सभी राष्ट्र पहली बार एकजुट हुए. सभी राष्ट्र, आने वाली पीढ़ियों को युद्ध की विभीषिका से बचाने, मानवाधिकारों और पुरुषों व महिलाओं के समान अधिकारों के प्रति दोबारा विश्वास क़ायम करने व बड़े और छोटे राष्ट्रों के लिए समान रूप से, न्यायसंगत शर्तें स्थापित कर तथा स्वतन्त्र रूप से सामाजिक प्रगति को बढ़ावा देने के लिये प्रतिबद्ध थे.


ऐतिहासिक सैन फ्रांसिस्को सम्मेलन में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व, रामास्वाराई मुदालियर ने किया, जिन्होंने चार्टर पर हस्ताक्षर भी किए. फिर 15 अगस्त, 1947 को, संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में आज़ाद भारत का झंडा फहराया गया और 54 देशों के बीच भारत ने संयुक्त राष्ट्र में अपना यथोचित स्थान हासिल किया. 
 

यूएन चार्टर: रहनुमा

 विश्व में मौजूद चुनौतियों के सामने डटकर खड़ा होना तो ज़रूरी है, मगर समस्याओं का हल निकलाना भी उतना ही ज़रूरी है. और ये रहनुमाई मुहैया कराता है संयुक्त राष्ट्र चार्टर जिस पर 75 वर्ष पहले दस्तख़त किये गए थे. यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने 26 जून को यूएन चार्टर दिवस के मौक़े पर वीडियो सन्देश में कहा है कि चार्टर के सिद्धान्त आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं...

वोल्कान बोज़किर नए महासभा अध्यक्ष, भारत पहुँचा सुरक्षा परिषद में

संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सत्र के अध्यक्ष पद  के साथ-साथ सुरक्षा परिषद के पाँच अस्थाई सदस्यों के लिए चुनाव सम्पन्न हो गया. तुर्की के राजदूत वोल्कान बोज़किर को नया महासभा अध्यक्ष चुना गया है. आर्थिक व सामाजिक परिषद के भी 18 सदस्यों का चुनाव हुआ है. सुरक्षा परिषद की अस्थाई सदस्यता के लिए निर्वाचित होने वाले देशों में भारत भी शामिल है. 

यूएन के वरिष्ठ अधिकारियों की नस्लभेद के ख़िलाफ़ ऐतिहासिक पुकार

संयुक्त राष्ट्र के अफ्रीकी या अफ्रीकी मूल के लगभग 20 बहुत वरिष्ठ पदाधिकारियों के एक समूह ने एक ऐसे वक्तव्य पर अपनी निजी हैसियत में हस्ताक्षर किए हैं जिसमें लम्बे समय से और बहुत गहराई से जारी नस्लभेद पर अपनी हताशा ज़ाहिर करते हुए निन्दा करने से भर से कहीं आगे बढ़कर और ज़्यादा कार्रवाई किए जाने की ज़रूरत पर ज़ोर दिया गया है. शुक्रवार को जारी इस वक्तव्य पर दस्तख़त करने वाले ये वरिष्ठ पदाधिकारी सीधे तौर पर संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश को रिपोर्ट करते हैं.

शान्तिरक्षा में महिलाओं का बढ़ता योगदान

संयुक्त राष्ट्र की शान्तिरक्षा सुरक्षा कार्यों की आधारशिला है और महिला शान्तिरक्षक इसकी सफलता की कुन्जी हैं. आज के दौर में संयुक्त राष्ट्र शान्तिरक्षा में नेतृत्व के पदों पर पहले से कहीं ज़्यादा महिलाएँ आसीन हैं. इसमें महिलाएँ सेना, पुलिस और नागरिक समाज का अंग बनकर संयुक्त राष्ट्र में कार्यरत हैं. संयुक्त राष्ट्र शान्ति व्यवस्था, “महिला, शान्ति और सुरक्षा” पर सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव 1325 के पूर्ण कार्यान्वयन के लिए प्रतिबद्ध है. इसके तहत महिला अधिकारों को पूर्ण रूप से पाने के लिए महिलाओं को निर्णायक भूमिका में रहना होगा और अपने देशों में शान्तिरक्षकों की भूमिका भी निभानी होगी. निर्णय लेने में महिलाओं का सार्थक समावेश प्रभावशीलता को बढ़ाता है व नए दृष्टिकोण और समाधान उत्पन्न करता है, अधिक संसाधन पैदा करता है और हमारे प्रयासों को मज़बूत करता है.

 

देखें ये वीडियो फ़ीचर...

मध्य पूर्व: इसराइली एकतरफ़ा कार्रवाई के ख़िलाफ़ चेतावनी

मध्य पूर्व के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष शान्ति दूत निकोलाय म्लादेनॉफ़ ने पश्चिमी तट के कुछ हिस्सों को इसराइल द्वारा फिर से छीने जाने की कार्रवाई सहित किसी भी प्रकार की एकतरफ़ा कार्रवाई के ख़िलाफ़ बुधवार को कड़ी चेतावनी जारी की है. उन्होंने सुरक्षा परिषद को जानकारी देते बताया कि ऐसी किसी भी कार्रवाई से फ़लस्तीन और इसराइल को वार्ता की मेज़ पर वापिस लाने के कूटनैतिक प्रयास कमज़ोर होंगे.  

कोविड-19: यूएन ने न्यूयॉर्क सिटी को दिए ढाई लाख फ़ेस मास्क

संयुक्त राष्ट्र ने न्यूयॉर्क सिटी में काम कर रहे स्वास्थ्यकर्मियों को कोविड-19 के संकट का मुक़ाबला करने के प्रयासों के तहत सुरक्षा के लिए ढाई लाख फ़ेस मास्क दान किए हैं.  न्यूयॉर्क सिटी में ही संयुक्त राष्ट्र का मुख्यालय स्थित है. महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शनिवार को ये घोषणा की और ये फ़ेस मास्क शनिवार को ही न्यूयॉर्क के मेयर को सौंप दिए गए हैं. 

कोविड-19 संकट के बावजूद संयुक्त राष्ट्र का मुख्य कामकाज जारी

संयुक्त राष्ट्र के चार प्रमुख अंगों के अध्यक्षों ने सदस्य देशों को भरोसा दिलाते हुए कह है कि कि कोविड-19 महामारी ने संयुक्त राष्ट्र को भी काम करने के नए तरीक़े अपनाने पर मजबूर कर दिया है, इसके बावजूद दुनिया भर में संगठन के महत्वपूर्ण कार्य बिना रुके जारी हैं. इन अध्यक्षों ने शुक्रवार को ऑनलाइन के ज़रिए सदस्य देशों के प्रतिनिधियों से बातचीत के दौरान ये बात कही.

विश्व पर गहरी छाप छोड़ने वाले पूर्व महासचिव हावियर पेरेज़ डि कुएयर के निधन पर शोक

संयुक्त राष्ट्र के पाँचवें महासचिव रहे हावियर पेरेज़ डि कुएयर का 100 वर्ष की आयु में निधन हो गया है. दो बार महासचिव रहे पेरेज़ डी कुएयर को शांतिवार्ता के रास्ते निकालने और कठिन दौर में विश्व संगठन का नेतृत्व करने के लिए याद किया जाता है.