शरणार्थी

मानव तस्करों ने, अदन की खाड़ी में, प्रवासियों को समुन्दर में फेंका, कम से कम 20 की मौत

संयुक्त राष्ट्र की प्रवासन मामलों सम्बन्धी एजेंसी -IOM ने गुरूवार को कहा है कि जिबूती से यमन को जाने वाले रास्ते में, मानव तस्करों ने, नाव में सवार अनेक प्रवासियों को समुन्दर में फेंक दिया जिसके कारण, कम से कम 20 लोगों की डूबकर मौत हो गई.

ब्रिटिश अभिनेत्री गूगू म्बाथा-रॉ, नई यूएन शरणार्थी सदभावना दूत

ब्रिटिश अभिनेत्री गूगू म्बाथा-रॉ को यूएन शरणार्थी एजेंसी – UNHCR की सदभावना दूत नियुक्त किया गया है. गूगू म्बाथा-रॉ ने कोविड-19 महामारी के दौरान शरणार्थियों को समर्थन की ज़रूरत रेखांकित की है.

अंडमान समुद्र में मुसीबत में फँसे रोहिंज्या शरणार्थियों की तुरन्त मदद की अपील

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) ने उन रोहिंज्या शरणार्थियों के समूह की खोजबीन करने का आहवान किया है जो अंडमान समुद्र में, लगभग एक सप्ताह से फँसे हुए हैं यानि वो सुरक्षित ठिकाने की तलाश में भटक रहे हैं.

डिजिटल प्रवासन: शरणार्थियों व प्रवासियों के लिये आर्थिक जीवनरेखा

कोविड-19 महामारी के कारण, एक तरफ़ तो वैश्विक अर्थव्यवस्था को भीषण झटका लगा है, वहीं ऑनलाइन वाणिज्य में कुछ उछाल देखा गया है. संयुक्त राष्ट्र के समर्थन से, दुनिया भर में एक ऐसा ऑनलाइन कार्यक्रम चलाया गया है जिसमें, शरणार्थियों और प्रवासियों को ऐसे उपकरण और ग्राहक मुहैया कराने में मदद की जा रही है जिनकी उन्हें, अपने कारोबार शुरू करने और अपनी आजीविकाएँ बेहतर बनाने के लिये, ज़रूरत है.

वेनेज़ुएला के 17 लाख लोगों को कोलम्बिया द्वारा अस्थाई संरक्षा प्रदान किये जाने का स्वागत

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सोमवार को कोलम्बिया के राष्ट्रपति की उस घोषणा की सराहना की है जिसके अनुसार देश में रह रहे वेनेज़ुएला के सभी प्रवासियों व शरणार्थियों को अस्थाई संरक्षा प्रदान की जाएगी. राष्ट्रपति इवान डुके मार्केज़ द्वारा उठाए गए इस क़दम से वेनेज़ुएला के लगभग 17 लाख विस्थापितों को लाभ पहुँचेगा और स्वास्थ्य सहित अन्य बुनियादी व आवश्यक सेवाओं तक उनकी पहुँच सम्भव हो सकेगी. 

टिगरे में संकट दूर करने के लिये तत्काल प्रयासों की ज़रूरत, यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इथियोपिया के टिगरे क्षेत्र में जारी संकट पर गम्भीर चिन्ताएँ व्यक्त की हैं और जोखिम का सामना कर रही आबादी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिये तत्काल प्रयासों की आवश्यकता पर बल दिया है. 

भुखमरी और कोविड-19: ताकि कोई भी पीछे न छूट जाए

भारत और मालदीव के लिये यूएन शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) मिशन के प्रमुख, ऑस्कर मुंडिया और भारत में विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) के प्रतिनिधि और देश निदेशक, बिशोउ पराजुली का मानना है कि कोविड-19 महामारी से सबक़ सीखकर, खाद्य सुरक्षा का दायरा बढ़ाना चाहिये, ताकि भविष्य में भुखमरी की महामारी से बचा जा सके. 

2020: प्रवासियों और शरणार्थियों पर, कोरोनावायरस की घातक मार

वर्ष 2020 के दौरान, कोविड-19 महामारी का प्रभाव शरणार्थियों और प्रवासियों पर भी बहुत व्यापक रूप में पड़ा; भीड़ भरे शिविरों में, वायरस की चपेट में आने के बहुत बड़े जोखिम से लेकर, यात्राओं पर लगी पाबन्दियों के कारण फँस जाने, और आपराधिक गुटों का निशाना बनने तक... 

बोसनिया हरज़ेगोविना: 'प्रवासियों के जीवन को तत्काल ख़तरा'

संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियों और मानवीय सहायता साझीदार संगठनों ने बोसनिया हरज़ेगोविना में, बर्फ़ीले तापमान और कड़ाके की सर्दी के मौसम में फँसे और आश्रय हीन सैकड़ों प्रवासियों की मदद करने के लिये, देश के प्रशासन से तुरन्त कार्रवाई करने का आहवान किया है.

टिगरे: तोप हमलों में, सैकड़ों आम लोगों के मारे जाने की ख़बरों पर चिन्ता

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने कहा है कि इथियोपिया के टिगरे क्षेत्र में, आम लोगों पर तोपों के हमलों और ग़ैर-लड़ाकों की सामूहिक हत्या किये जाने की ख़बरों की जाँच किया जाना ज़रूरी है, और स्वतन्त्र जाँचकर्ताओं को पूरी सुविधा मिलनी चाहिये.