स्वास्थ्यकर्मी

योरोप व मध्य एशिया में क़रीब 40 करोड़ लोगों को पुनर्वास देखभाल सेवाओं की आवश्यकता है.
© WHO

योरोपीय क्षेत्र: बड़ी ज़रूरतमन्द आबादी के लिए पुनर्वास स्वास्थ्य देखभाल का अभाव

योरोपीय क्षेत्र के लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के कार्यालय ने चेतावनी जारी की है कि योरोपीय क्षेत्र में 39 करोड़ से अधिक लोगों, यानि क़रीब आधी आबादी को, स्वास्थ्य अवस्थाओं के कारण पुनर्वास देखभाल की आवश्यकता है, मगर अधिकाँश लोगों को यह उपलब्ध नहीं हो पा रही है.

ब्राज़ील में एक स्वास्थ्यकर्मी कोविड-19 से बचाव के लिये टीका लगाने की तैयारी कर रही है.
PAHO/Karina Zambrana

कोविड-19 महामारी का अन्त अब नज़र आने लगा है: WHO

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने बुधवार को कहा कि कोविड-19 संक्रमण के कारण किसी एक सप्ताह में मृतकों की संख्या, मार्च 2020 के बाद से अब तक अपने निम्नतम स्तर तक पहुँच गई है, जिससे वैश्विक महामारी का अन्त अब नज़र आने लगा है.
 

बांग्लादेश के ढाका शहर में मलिन बस्तियों में रहने वाले परिवारों को कोविड-19 महामारी के दौरान आपातकालीन सहायता प्रदान की जा रही है.
UNDP/Fahad Kaizer

महामारी 'अभी ख़त्म नहीं हुई', स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने में सहयोग पर बल

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने जिनीवा में 'विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली' के 75वें वार्षिक सत्र को सम्बोधित करते हुए चेतावनी जारी की है कि कोविड-19 संक्रमण मामलों और मृतक संख्या में गिरावट के बावजूद अभी वैश्विक महामारी का अन्त नहीं हुआ है. उन्होंने वैश्विक स्वास्थ्य चुनौतियों से निपटने के लिये देशों के बीच पारस्परिक सहयोग को अहम बताया है.

घाना की एक प्रयोगशाला में एक शोधकर्ता, पौधों से प्राप्त अर्क़ की जाँच करते हुए.
WHO/Ernest Ankomah

पारम्परिक औषधि के लिये वैश्विक केंद्र की स्थापना, भारत और WHO में समझौता

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और भारत सरकार ने आधुनिक विज्ञान एवं टैक्नॉलॉजी के ज़रिये, पारम्परिक औषधि में निहित सम्भावनाओं को साकार करने के इरादे से एक वैश्विक केंद्र स्थापित किये जाने के समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं. भारत के गुजरात राज्य के जामनगर शहर में बनाए जाने वाले इस केंद्र की मदद से आमजन की सेहत में बेहतरी लाने और विश्व के हर क्षेत्र में सम्पर्क व लाभ सुनिश्चित किये जाने की योजना है. 

अफ़ग़ानिस्तान के दक्षिणी प्रान्त कन्दाहार में, एक बच्चे को पोलियो वैक्सीन की ख़ुराक देने की तैयारी. (फ़ाइल फ़ोटो)
© UNICEF/Frank Dejongh

अफ़ग़ानिस्तान: आठ पोलियो स्वास्थ्यकर्मियों की 'निर्दयतापूर्ण' हत्याओं की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र ने उत्तरी अफ़ग़ानिस्तान में चार स्थानों पर पोलियो टीकाकरण में जुटे आठ कर्मचारियों की हत्याओं की कड़े शब्दों में निन्दा की है. पिछले वर्ष नवम्बर में देशव्यापी प्रतिरक्षण अभियान शुरू होने के बाद से पहली बार ये हमले हुए हैं.

विश्व स्वास्थ्य संगठन कुछ देशों में टैस्टिंग क्षमता को पुख़्ता बनाने में मदद कर रहा है.
WHO/Nana Kofi Acquah

ओमिक्रॉन: संक्रमण में वृद्धि बरक़रार, कुछ देशों में 'लहर का सबसे बुरा दौर गुज़रा'

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कुछ देशों में कोरोनावायरस के ओमिक्रॉन वैरीएण्ट के कारण संक्रमण मामलों में भीषण बढ़ोत्तरी के बाद, अब ये अपने चरम बिन्दु को पार कर चुके हैं, जिससे यह उम्मीद उपजी है कि इन देशों में नई संक्रमण लहरों का सबसे ख़राब दौर बीत चुका है. मगर यूएन एजेंसी ने आगाह करते हुए ये भी कहा है कि अभी कोई भी देश, इस संकट से पूरी तरह बाहर नहीं निकल पाया है. 

सूडान में एक स्वास्थ्य केंद्र पर गम्भीर कुपोषण के बारे में जानकारी दी जा रही है.
© UNICEF/Shehzad Noorani

सूडान: दो महीनों में स्वास्थ्यकर्मियों व केन्द्रों पर 15 हमलों से गहराई चिन्ता

सूडान में बढ़ते संकट के बीच, स्वास्थ्यकर्मियों और स्वास्थ्य केन्द्रों पर हमलों की घटनाएँ बढ़ने से चिन्ता व्याप्त है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO EMRO) ने बुधवार को बताया कि पिछले दो महीनों में ऐसी 15 घटनाओं की पुष्टि हुई है. 

अफ़ग़ानिस्तान के कन्दहार में एक अफ़ग़ान महिला की स्वास्थ्य जाँच की जा रही है.
© UNFPA Afghanistan

अफ़ग़ानिस्तान: अति-महत्वपूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं की सुलभता व निरन्तरता के लिये समझौता

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) और वैश्विक कोष (Global Fund) ने विकट हालात का सामना कर रहे अफ़ग़ान लोगों के लिये अति-आवश्यक स्वास्थ्य सेवाएँ जारी रखने के लिये एक समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं. इसके तहत दो हज़ार से अधिक स्वास्थ्य केन्द्रों में महत्वपूर्ण स्वास्थ्य सेवाओं के लिये डेढ़ करोड़ डॉलर की अन्तरिम व आपात सहायता धनराशि मुहैया कराई जाएगी.

कुन्दूज़, सर-ए-पोल और टकहर प्रान्तों के 400 से अधिक परिवारों ने दक्षिणी काबुल के एक स्कूल में शरण ली है.
© UNICEF Afghanistan

आपबीती: जोखिमों के बावजूद बीमारों के उपचार के लिये अफ़ग़ान स्वास्थ्यकर्मी ने जताई प्रतिबद्धता

अफ़ग़ानिस्तान के एक डॉक्टर ने यूएन न्यूज़ से बातचीत में, हिंसा के कारण अपना घर छोड़कर भागने के लिये मजबूर अफ़ग़ानों की सहायता के लिये बुनियादी स्वास्थ्य सेवाएँ जारी रखने की प्रतिबद्धता ज़ाहिर की है. साथ ही, उन्होंने आगाह किया है कि मौजूदा सुरक्षा परिस्थितियों के कारण उनका व उनके साथियो विशेष रूप से महिला सहकर्मियों का भविष्य अनिश्चित है.  

अफ़ग़ानिस्तान के दक्षिणी-पश्चिमी इलाक़े - कन्दाहार में, विस्थापितों के लिये बनाए गए एक शिविर में कुछ लड़कियाँ. तालेबान द्वारा महिलाओं व लड़कियों पर पाबन्दियाँ बढ़ाए जाने की ख़बरें हैं.
© UNICEF Afghanistan

अफ़ग़ानिस्तान: दो वर्षों में साढ़े पाँच हज़ार से ज़्यादा बच्चे हुए हताहत

'बच्चे और सशस्त्र संघर्ष' के मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि अफ़ग़ानिस्तान में पिछले दो वर्षों के दौरान, हज़ारों लड़के-लड़कियाँ हताहत हुए हैं. यह रिपोर्ट सोमवार को ऐसे समय में जारी की गई है जब एक ही दिन पहले तालेबान ने देश में फिर से अपना प्रभुत्व स्थापित किया है.