स्वास्थ्य संगठन

बांग्लादेश के एक स्वास्थ्य केंद्र में एक लड़की को कोविड-19 वैक्सीन की दूसरी ख़ुराक लगाई जा रही है.
© UNICEF/Iffath Yeasmine

अति-आवश्यक टीकों की सुलभता में वैश्विक विषमता, WHO रिपोर्ट

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की नवीनतम ‘वैश्विक वैक्सीन बाज़ार’ रिपोर्ट बताती है कि विश्व भर में वैक्सीन का असमान वितरण, केवल कोविड-19 टीकों तक ही सीमित नहीं है. सम्पन्न देशों में जिन वैक्सीन की मांग अधिक है, उन्हें प्राप्त करने के लिये निर्धन देशों को निरन्तर जूझना पड़ता है.

रूस के मॉस्को में एक महिला ने अपने शिशु को गोद में लिया हुआ है.
© WHO/Sergey Volkov

शिशु दुग्ध पदार्थों की छलपूर्ण ऑनलाइन मार्केटिंग पर रोक की माँग

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के एक नए अध्ययन के अनुसार, शिशुओं के लिये फ़ॉर्मूला दुग्ध पदार्थ बनाने वाली कम्पनियाँ, गर्भवती महिलाओं व माताओं तक सीधी पहुँच बनाने के लिये, सोशल मीडिया प्लैटफ़ॉर्म व प्रभावशाली हस्तियों को धन का भुगतान कर रही है. इसके तहत, लक्षित ऑनलाइन सामग्री तैयार की व भेजी जाती है, जिसे विज्ञापन के तौर पर पहचान पाना अक्सर कठिन होता है. 

यूक्रेन में कोरोनावायरस से संक्रमित एक बुज़ुर्ग मरीज़, ऑक्सीजन मास्क के सहारे साँस लेते हुए.
© UNICEF/Evgeniy Maloletka

कोविड-19: योरोप बना फैलाव का नया केन्द्र, सतर्कता में कोताही ना बरतने की सलाह

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि योरोपीय क्षेत्र, कोविड-19 महामारी के फैलाव का नया केन्द्र बन गया है, मगर ये ध्यान रखना होगा कि कोई भी देश या क्षेत्र अभी इस चुनौती से पूरी तरह नहीं निपट पाया है. उन्होंने कुछ देशों में टीकाकरण के बाद, महामारी का अन्त होने और 'झूठी सुरक्षा' का भाव पनपने पर चिन्ता जताई है.

दक्षिण सूडान में कोविड-19 टीकाकरण अभियान.
© UNICEF/Bullen Cho Mayak

कोविड-19: वैक्सीन की 'बूस्टर ख़ुराक' पर स्वैच्छिक रोक का आहवान

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कोविड-19 टीकों की बूस्टर ख़ुराक पर स्वैच्छिक रोक लगाए जाने का आग्रह किया है, ताकि इस वर्ष सितम्बर के अन्त तक, विश्व के सबसे निर्बल समुदायों का टीकाकरण सुनिश्चित किया जा सके.