सूडान

सूडान के दारफ़ूर में विस्थापितों के लिए बनाए गए एक में नक़दी सहायता के वितरण के लिए, क़तार में खड़ी महिलाएँ.
© WFP/Leni Kinzli

सूडान: लोकतांत्रिक भविष्य की दिशा में 'साहसी' सैन्य-सिविल समझौते का स्वागत

संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ अधिकारियों ने सूडान में सैन्य और नागरिक नेताओं के बीच हुए समझौते का स्वागत किया है. इस पहल को देश में लोकतांत्रिक शासन की स्थापना की दिशा में एक "साहसी" क़दम बताया गया है.

सूडान में अपने मवेशियों के साथ एक पशुपालक.
© FAO/Raphy Favre

FAO: सूडान में किसानों को मदद में तेज़ी, पूर्वी अफ़्रीका में भुखमरी का जोखिम

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (FAO) ने सोमवार को कहा है कि वो सूडान में अपने सहायता अभियान तेज़ कर रहा है जहाँ लगभग एक करोड़ 9 लाख लोगों, यानि कुल आबादी के क़रीब 30 प्रतिशत हिस्से को, इस वर्ष जीवनरक्षक सहायता की ज़रूरत होगी. ये संख्या पिछले एक दशक में सबसे ज़्यादा है.

सूडान में एक स्वास्थ्य केंद्र पर गम्भीर कुपोषण के बारे में जानकारी दी जा रही है.
© UNICEF/Shehzad Noorani

सूडान: दो महीनों में स्वास्थ्यकर्मियों व केन्द्रों पर 15 हमलों से गहराई चिन्ता

सूडान में बढ़ते संकट के बीच, स्वास्थ्यकर्मियों और स्वास्थ्य केन्द्रों पर हमलों की घटनाएँ बढ़ने से चिन्ता व्याप्त है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO EMRO) ने बुधवार को बताया कि पिछले दो महीनों में ऐसी 15 घटनाओं की पुष्टि हुई है. 

सूडान की राजधानी ख़ारतूम की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन. यह तस्वीर 11 अप्रैल 2019 की है.
UN Sudan/Ayman Suliman

सूडान: प्रधानमंत्री के इस्तीफ़े के बाद, प्रदर्शनकारियों के विरुद्ध हिंसा की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने सूडान में, 25 अक्टूबर 2021 को सैनिक तख़्तापलट के बाद से, प्रदर्शनकारियों के विरुद्ध लगातार जारी हिंसा की निन्दा की है.

सूडान की राजधानी खारतूम की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन. यह तस्वीर 11 अप्रैल 2019 की है.
UN Sudan/Ayman Suliman

सूडान: सुरक्षा बलों की 'शर्मनाक' कार्रवाई में प्रदर्शनकारियों की मौत की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने सूडान में 25 अक्टूबर को सैन्य तख़्तापलट के बाद से, सुरक्षा बलों के हाथों कम से कम 39 लोगों के मारे जाने की निन्दा की है. इनमें से 15 लोगों की मौत बुधवार को ख़ारतूम, ख़ारतूम-बाहरी और ओमदुरमान में हुए विरोध-प्रदर्शनों के दौरान हुई है.

सूडान की राजधानी खार्तूम की सड़कों पर विरोध प्रदर्शन. यह तस्वीर 11 अप्रैल 2019 की है.
UN Sudan/Ayman Suliman

सूडान संकट के समाधान के लिये मध्यस्थता प्रयास - यूएन दूत

सूडान के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष प्रतिनिधि वोल्कर पैर्थेस ने कहा है कि देश में सैन्य तख़्तापलट के एक सप्ताह बाद, राजनैतिक संकट के निपटारे के लिये, अनेक स्तरों पर मध्यस्थता प्रयास जारी हैं.

सूडान की राजधानी ख़ार्तूम में, जन प्रदर्शनों का एक दृश्य (11 अप्रैल 2019)
UN Sudan/Ayman Suliman

सूडान: 'सैन्य तख़्तापलट' की निन्दा, नेताओं की रिहाई की माँग

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सूडान में सैन्य तख़्तापलट की निन्दा करते हुए प्रधानमंत्री अब्दल्ला हमदोक और अन्य अधिकारियों को जल्द से जल्द रिहा किये जाने की माँग की है. 

केनयाई शान्तिरक्षक स्टैपलिन न्याबोगा, दार्फ़ूर में पाकिस्तान के सैन्यकर्मियों को बुनियादी लैंगिक मुद्दों पर जानकारी दे रही हैं.
UNAMID

केनयाई शान्तिरक्षक ‘जैण्डर एडवोकेट ऑफ़ द ईयर’ पुरस्कार से सम्मानित

केनया की संयुक्त राष्ट्र शान्तिरक्षक स्टैपलिन न्याबोगा को लैंगिक अधिकारों की पैरोकारी के लिये, वर्ष 2020 के संयुक्त राष्ट्र पुरस्कार (UN Military Gender Advocate of the Year) से सम्मानित किये जाने की घोषणा की गई है. 32 वर्षीया केनयाई शान्तिरक्षक ने हाल ही में सूडान के दार्फ़ूर में यूएन मिशन (UNAMID) में अपना कार्यकाल पूरा किया है, जहाँ लैंगिक मुद्दों पर उत्कृष्ट योगदान देने के लिये उन्हें चुना गया है.

सूडान की राजधानी ख़ार्तूम में, जन प्रदर्शनों का एक दृश्य (11 अप्रैल 2019)
UN Sudan/Ayman Suliman

सूडान के शान्तिपूर्ण और टिकाऊ भविष्य में निवेश करने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सोमवार को पेरिस में हुए एक प्रमुख निवेश सम्मेलन में कहा है कि सूडान के लिये अन्तरराष्ट्रीय सहायता जारी रहना बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि देश, ऐतिहासिक राजनैतिक और आर्थिक परिवर्तन के दौर से गुज़र रहा है.

सूडान के पश्चिमी दारफ़ूर इलाक़े का एक विहंगम दृश्य. इस इलाक़े में, अनेक वर्षों से समुदायों के बीच लड़ाR और हिंसा होती रही है.
UNAMID/Hamid Abdulsalam

सूडान: पश्चिमी दारफ़ूर में हाल की हिंसा की जाँच व मानवाधिकार संरक्षण का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय ने सूडान के पश्चिमी दारफ़ूर इलाक़े में, हाल ही में भीषण हिंसा फिर से भड़कने के सन्दर्भ में, सरकार से आग्रह किया है कि उसे, बिना कोई भेदभाव किये, सभी नागरिकों की सुरक्षा सुनिश्चित करनी होगी.