सांख्यिकी

यूएन प्रमुख का आग्रह - आर्थिक नीतियों में परिलक्षित हो 'प्रकृति का वास्तविक मूल्य'

सयुंक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ज़ोर देकर कहा है कि एक टिकाऊ भविष्य के लिये यह ज़रूरी है कि आर्थिक प्रगति से पर्यावरण को होने वाली क्षति का भी आकलन किया जाए और अर्थव्यवस्था में प्राकृतिक संसाधनों के मूल्य की पहचान की जाए. यूएन प्रमुख ने मंगलवार को एक अपील जारी कर, प्रकृति के प्रति नज़रिये में बदलाव लाने और नीतियों व आर्थिक प्रणालियों में उसके योगदान को पहचाने जाने की बात कही है.

कृषि में आँकड़ों की महत्ता

टिकाऊ कृषि विकास और सतत खाद्य सुरक्षा व पोषण के लिए अच्छे निर्णय लिया जाना बहुत ज़रूरी हैं. लेकिन कृषि संबंधित फ़ैसलों के लिए प्रामाणिक आंकड़े होना आवश्यक है. छोटे कृषि उत्पादकों सहित सरकारें और व्यवसाय महत्वपूर्ण नीति और निवेश निर्णय अक्सर गुणवत्ता वाले कृषि आंकड़ों के लाभ के बिना ही अक्सर लेते हैं. डेटा के अभाव का परिणाम अक्सर उत्पादकता, कृषि आय में कमी और भुखमरी और ग़रीबी के रूप में होता है.