प्रवासी

मुश्किल समय में आशा की उजली किरण:यूएन महासचिव

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने नववर्ष की पूर्व संध्या पर अपने संदेश में कहा है कि दुनिया कई खतरों से जूझते हुए एक मुश्किल दौर से गुजर रही है .  पिछले साल 2018 के आगमन पर दिए अपने संदेश में जारी एक रेड अलर्ट की याद दिलाते हुए उन्होंने कहा कि उस समय की कई चुनौतियां आज भी बनी हुई हैं लेकिन आशा का दामन थामे रखने के भी कई कारण हैं. 

प्रवासियों से जुड़ी समस्याओं और चुनौतियों पर विमर्श की दरकार

  • दुनिया भर में प्रवासियों के हालात और स्थानीय लोगों की चिंताओं को समझने की पुकार
  • लीबिया में प्रवासियों का हो रहा है बड़े पैमाने पर शोषण, सरकार की नाकामी के सबूत
  • अंतरराष्ट्रीय सहायता राशि में कटौती की वजह से फ़लस्तीन में खाद्य असुरक्षा के हालात
ऑडियो -
12'10"

प्रवासियों की बेहतरी के वैश्विक प्रवासन संधि का अनुमोदन

164 देशों के प्रतिनिधियों ने सोमवार को ग्‍लोबल कम्‍पैक्‍ट फॉर माइग्रेशन नामक संधि का अनुमोदन कर दिया है. संयुक्‍त राष्‍ट्र महासचिव एंतॉनियो गुटेरेश ने इस ऐतिहासिक क़दम को पीड़ा और उथल-पुथल से बचने की राह का निर्माण क़रार दिया. इस सम्मेलन में मुख्य रूप से सरकारों के प्रतिनिधियों ने शिरकत की.