प्रेस स्वतंत्रता

म्यांमार: जेल में बंद पत्रकारों की रिहाई का यूएन ने स्वागत किया

म्यांमार में रॉयटर्स न्यूज़ एजेंसी के दो पुलित्ज़र पुरस्कार विजेता पत्रकारों को जेल से रिहा किए जाने के निर्णय का संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय (OHCHR) ने स्वागत किया है लेकिन प्रेस आज़ादी पर मंडराते संकट पर चिंता भी जताई है. 500 दिनों तक जेल में बंद रहने वाले इन दो पत्रकारों ने रोहिंज्या मुस्लिमों पर सुरक्षा बलों की कार्रवाई की रिपोर्टिंग की थी.  

सत्ता की जवाबदेही तय करने की 'आधारशिला' है स्वतंत्र प्रेस

एक ऐसे समय जब झूठी सूचनाओं का जाल फैल रहा है और समाचार मीडिया के प्रति अविश्वास बढ़ रहा है, एक स्वतंत्र प्रेस का होना शांति, न्याय, टिकाऊ विकास और मानवाधिकारों के लिए बेहद ज़रूरी है. विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस 2019 के लिए अपने संदेश में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मीडिया की अहमियत को रेखांकित किया है.