फ़लस्तीन

फ़लस्तीनी घरों को ढहाना 'अंतरराष्ट्रीय मानवीय क़ानूनों के अनुरूप नहीं'

इसराइल द्वारा फ़लस्तीन के पश्चिमी तट में सुर बाहीर इलाक़े में घर ढहाए जाने की घटना पर संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों के तीन वरिष्ठ अधिकारियों ने दुख जताया है. संयुक्त रूप से जारी एक बयान में कहा गया है कि इसराइल की कार्रवाई अंतरराष्ट्रीय मानवीय क़ानूनों के तहत तय किए गए दायित्वों के अनुरूप नहीं है.  

बेथलहेम चर्च संकटग्रस्त विरासत स्थलों की सूची से बाहर

संयुक्त राष्ट्र की सांस्कृतिक एजेंसी ने ईसा मसीह की जन्मस्थली के रूप में मान्यता प्राप्त बेथलहम चर्च को संकटग्रस्त विरासत स्थलों की विश्व सूची से हटाने की घोषणा की है. एजेंसी ने बताया कि इसका श्रेय फिलीस्तीन के बेथलेहेम नेटिविटी चर्च को जाता है जिसने व्यापक सुधार कार्यक्रम के तहत इसकी पूरी मरम्मत कर दी है.

फ़लस्तीनी शरणार्थी एजेंसी की उपलब्धियां 'हमारी साझा सफलता'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि यह सुनिश्चित किया जाना ज़रूरी है कि फ़लस्तीनी शरणार्थियों को राहत पहुंचाने में जुटी यूएन एजेंसी (UNRWA) को अपना काम लगातार जारी रखने के लिए मदद मिलती रहे. उन्होंने कहा कि एजेंसी के प्रयासों को सभी के लिए साझा दायित्व और साझा सफलता के तौर पर देखा जाना चाहिए.

ग़ाज़ा की नाकाबंदी से राहत सामग्री पर निर्भरता दस गुना बढ़ी

दुनिया भर में मुस्लिम समुदाय के लिए पवित्र रमज़ान के महीने के दौरान ग़ाज़ा में आधे से ज़्यादा संख्या ऐसे लोगों की है जो भोजन के लिए अंतरराष्ट्रीय सहायता पर निर्भर हैं. फ़लीस्तीनी शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र राहत एवं कार्य एजेंसी (UNRWA) का कहना है कि नाकाबंदी के बाद से भोजन सामग्री पर निर्भरता में लगभग दस गुना बढ़ोत्तरी देखने को मिली है.

'अवसरों से भरा क्षेत्र' है मध्य पूर्व

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि मध्य पूर्व में टिकाऊ विकास और निवेश के लिए प्रचुर अवसर उपलब्ध हैं. जॉर्डन में मध्य पूर्व और उत्तर अफ़्रीका पर विश्व आर्थिक मंच की बैठक के दौरान यूएन प्रमुख ने संघर्ष और अस्थिरता से जूझते क्षेत्र की मदद के लिए हरसंभव कूटनीतिक प्रयासों के लिए प्रतिबद्धता जताई.

उकसावेपूर्ण कार्रवाई से मध्य पूर्व की स्थिरता को ख़तरा

इसराइल और फ़लस्तीन में बढ़ते तनाव के बीच, मध्य पूर्व में संयुक्त राष्ट्र के विशेष समन्वयक ने सुरक्षा परिषद को मौजूदा स्थिति की जानकारी देते हुए क्षेत्र में कायम स्थिति पर चिंता जताई है. आतंकवादी हमलों, आम नागरिकों को निशाना बनाए जाने और प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ बदले की भावना से कार्रवाई के चलते पहले से ही संवेदनशील क्षेत्र में फिर से गंभीर संकट पैदा हो सकता है.

जी-77 की अध्यक्षता फ़लस्तीन को मिलना 'ऐतिहासिक क्षण'

संयुक्त राष्ट्र में विकासशील देशों के समूह जी-77 और चीन की बागडोर अब फ़लस्तीन के हाथों में आ गई है. इस अवसर पर आयोजित समारोह में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश और महासभा की अध्यक्ष मारिया फ़र्नान्डा एस्पिनोसा ने जी-77 की अध्यक्षता फ़लस्तीन को मिलना एक ऐतिहासिक पल करार दिया है.