पेरिस समझौता

WHO: पथभ्रष्ट राष्ट्रवाद को नकारने और घावों पर मरहम लगाने का लम्हा 

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने सदस्य देशों को आगाह किया है पाँच वर्ष पहले जलवायु परिवर्तन और ग़रीबी से निपटने के जिन समझौतों पर महत्वपूर्ण समझौते हुए थे, उन पर कार्रवाई वैश्विक एकजुटता के अभाव में अवरुद्ध हो गई है. उन्होंने सोमवार को विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली के सत्र को सम्बोधित करते हुए अमेरिका में निर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडन को बधाई देते हुए उनके साथ काम करने के अवसर का स्वागत किया है. 

वातावरण में ग्रीनहाउस गैसों की मात्रा में रिकॉर्ड बढ़ोत्तरी

संयुक्त राष्ट्र मौसम विज्ञान संगठन (WMO) ने चेतावनी जारी की है कि वातावरण में तीन प्रमुख ग्रीनहाउस गैसों – कार्बन डाय ऑक्साइड, मीथेन और नाइट्रस ऑक्साइड - का स्तर लगातार बढ़ रहा है जिससे मानवता के भविष्य के लिए ख़तरा पैदा हो रहा है. यूएन एजेंसी ने सरकारों से अपील की है कि जीवाश्म ईंधनों पर निर्भरता कम करने के लिए तत्काल प्रयास करने होंगे जिनकी पुकार वर्ष 2015 के पेरिस समझौते में भी लगाई गई है.

जलवायु संकट से निपटने के प्रयासों को मज़बूती देगी नई रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र उपमहासचिव आमिना जे. मोहम्मद ने 23 सितंबर को जलवायु शिखर वार्ता के लिए न्यूयॉर्क में विश्व नेताओं के आगमन से पहले एक रिपोर्ट जारी की है जो बताती है कि जलवायु परिवर्तन की गति कम करने के लिए दुनिया किस तरह सार्थक और त्वरित क़दम उठा सकती है. बताया गया है कि इस रिपोर्ट से यह समझने में मदद मिलेगी कि जलवायु शिखर वार्ता में नेता ठोस समाधान साथ लाए हैं या फिर सिर्फ़ भाषणों के साथ यहां एकत्र हुए हैं.

जलवायु संकल्पों को पूरा करने के कितने पास है दुनिया?

न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में सितंबर में होने वाली जलवायु शिखर वार्ता की तैयारी ज़ोरों पर है जिसे हाल के दशको में होने वाले सबसे बड़े जलवायु सम्मेलनों में माना जा रहा है. जलवायु आपात स्थिति और उससे उपजती चुनौतियों के बीच इस संकट से निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर कार्रवाई भी की जा रही है, लेकिन क्या मौजूदा कार्रवाई पर्याप्त है?

टिकाऊ विकास लक्ष्यों के लिए और धन की ज़रूरत

असमान वृद्धि, बढ़ता कर्ज़, वित्तीय बाज़ारों में उतार-चढ़ाव, और वैश्विक व्यापार पर कायम तनाव जैसी वैश्विक चुनौतियां, टिकाऊ विकास लक्ष्यों को पाने के रास्ते में बाधाएं खड़ी कर रही हैं. 2030 एजेंडा लागू करने के लिए वित्तीय संसाधन जुटाने पर न्यूयॉर्क में बैठक हो रही है जिसे संबोधित करते हुए संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा कि इन महत्वाकांक्षी लक्ष्यों को हासिल करने के लिए और धन की आवश्यकता होगी.

'नींद से जगाने वाली' घंटी है जलवायु परिवर्तन पर नई यूएन रिपोर्ट

जलवायु परिवर्तन से संबंधित ख़तरों और प्राकृतिक आपदाओं की लगातार बढ़ती संख्या दुनिया के लिए एक चेतावनी भरी घंटी है. संयुक्त राष्ट्र के मौसम विज्ञान संगठन (WMO) की 'स्टेट ऑफ़ द ग्लोबल क्लाइमेट' या 'वैश्विक जलवायु की स्थिति' रिपोर्ट को जारी करते हुए यूएन महासचिव ने जलवायु कार्रवाई की महत्वाकांक्षा बढ़ाने और टिकाऊ समाधानों को तलाशने की अपील की है.

जलवायु कार्रवाई के पक्ष में 'युवा आवाज़ों ने बंधाई उम्मीद'

जलवायु परिवर्तन पर ठोस कार्रवाई न हो पाने के विरोध में दुनिया भर में शुक्रवार को स्कूली बच्चों ने प्रदर्शन किए. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि वह विरोध प्रदर्शन कर रहे बच्चों के डर को समझते हैं लेकिन भविष्य के लिए आशावान हैं.