पोषण

मध्य अफ़्रीकी गणराज्य में विस्थापितों के लिये बनाये गए एक शिविर में एक बच्चा उच्च-पोषण वाले बिस्किट खा रहा है.
© WFP/Bruno Djoyo

मध्य अफ़्रीकी गणराज्य: खाद्य असुरक्षा गहराने की आशंका, 6.84 करोड़ डॉलर की दरकार

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने मध्य अफ़्रीकी गणराज्य (Central African Republic) के लिये चेतावनी जारी की है कि अगस्त महीने तक देश में, 22 लाख लोगों के समक्ष खाद्य असुरक्षा का संकट गहरा सकता है. हिंसक संघर्ष, जनसंख्या विस्थापन और खाद्य व बुनियादी वस्तुओं की क़ीमतों में तेज़ उछाल के कारण पहले से ही गम्भीर मानवीय हालात पर विनाशकारी असर होने की आशंका है.

माँ ने अपने नवजात शिशु को गोद में लिया हुआ है.
© UNSPLASH/Holie Santos

शिशु फ़ॉर्मूला मार्केटिंग है आक्रामक व भ्रामक, यूएन रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र की दो एजेंसियों ने एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा है कि दुनिया भर में माता-पिता, अभिभावक और गर्भवती महिलाएँ, बेबी फ़ॉर्मूला दुग्ध पदार्थों की आक्रामक मार्केटिंग का आसान निशाना बनने के दायरे में हैं.

कम्बोडिया एक स्कूल में एक बच्ची, कक्षा शुरू होने से पहले भोजन कर रही है.
© UNICEF/Bona Khoy

स्कूली आहार के पोषण मानकों में सुधार के लिये नई पहल

संयुक्त राष्ट्र की दो एजेंसियों ने एक नई परियोजना शुरू की है, जिसके तहत, स्कूली भोजन कार्यक्रमों में पोषण मानक विकसित करने में सहायता के ज़रिये, बच्चों के आहार में बेहतरी लाने के प्रयास किये जाएंगे.
 

पाकिस्तान के कराची शहर के एक इलाक़े में, एक महिला, दालों का जायज़ा लेते हुए.
© FAO/Asif Hassan

टिकाऊ खाद्य प्रणालियों के लिये, युवाओं को सशक्त बनाती हैं 'दालें'

संयुक्त राष्ट्र हर वर्ष 10 फ़रवरी को विश्व दाल दिवस मनाता है और इस वर्ष इस दिवस का विषय है कि ये पौष्टिक खाद्य पदार्थ, टिकाऊ व्यावसायिक खेतीबाड़ी (कृषि भोज्य) प्रणालियाँ प्राप्ति में, युवाओं को सशक्त बनाने में किस तरह मदद कर सकते हैं. दालें, दुनिया भर में अपार व्यंजन श्रृंखलाओं के लिये तो अहम हैं ही.

सोमाली महिलाएँ और बच्चे केनया-सोमालिया सीमा के पास एक अस्थाई शरणार्थी शिविर में रह रहे हैं.
© UNICEF/Kate Holt

हॉर्न ऑफ़ अफ़्रीका: सूखे से बर्बाद फ़सलें, मरते मवेशी, बढ़ती भूख की मार

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने चेतावनी जारी की है कि 'हॉर्न ऑफ़ अफ़्रीका' क्षेत्र में एक करोड़ से अधिक लोगों को हर दिन गम्भीर भूख की मार झेलनी पड़ रही है. इथियोपिया, केनया और सोमालिया में लगातार कुछ वर्षों में पर्याप्त बारिश ना होने के कारण फ़सलें तबाह हो गई हैं और बड़ी संख्या में मवेशियों की मौतें हुई हैं.  

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) फ़लस्तीनी परिवारों को, ग़रीबी और कठिन परिस्थितियों के बीच, अपने बच्चों के स्वस्थ पालन-पोषण में मदद मुहैया कराता है.
WFP

फ़लस्तीन: महिलाओं में पोषण बेहतरी के लिये अभियान

संयुक्त राष्ट्र की खाद्य एजेंसी - विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने फ़लस्तीनी क्षेत्र ग़ाज़ा और पश्चिमी तट में, कुपोषण और आयरन की कमी की समस्या का सामना करने के प्रयासों के तहत, सैकड़ों गर्भवती महिलाओं और महिलाओं की देखभाल करने वाली दाइयों को समर्थन मुहैया कराने के लिये, शुक्रवार को एक अभियान शुरू किया है.

इथियोपिया के अफ़ार में एक विस्थापित महिला अपने परिवार के लिये खाना पका रही है.
© WFP/Claire Nevill

इथियोपिया: 90 लाख लोगों को खाद्य सहायता की आवश्यकता

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने शुक्रवार को नए आँकड़े जारी किये हैं जिनके मुताबिक़, इथियोपिया में 15 महीने से चले आ रहे हिंसक संघर्ष के बाद, उत्तरी क्षेत्र टीगरे क्षेत्र में क़रीब 40 फ़ीसदी लोग, भोजन की गम्भीर क़िल्लत से जूझ रहे हैं. 

कोविड-19 महामारी के दौरान, एशिया-प्रशान्त क्षेत्र में भुखमरी से पीड़ित लोगों की संख्या में वृद्धि हुई है.
© FAO/Saikat Mojumder

कोविड-19: एशिया-प्रशान्त क्षेत्र में, भुखमरी से पीड़ितों की संख्या में, पाँच करोड़ की वृद्धि 

एशिया व प्रशान्त क्षेत्र में खाद्य सुरक्षा व पोषण की स्थिति बद से बदतर हुई है, और 37 करोड़ से अधिक लोग, वर्ष 2020 में भुखमरी का सामना कर रहे थे. खाद्य एवं कृषि संगठन (FAO) और संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) की एक साझा रिपोर्ट के अनुसार, 2019 की तुलना में भूख से पीड़ितों की संख्या में पाँच करोड़ 40 लाख की वृद्धि हुई है.   

किर्गिज़स्तान में एक माँ अपनी तीन वर्ष की बेटी को खाना खिला रही है.
© UNICEF/Bektur Zhanibekov

विश्व खाद्य दिवस: खाद्य प्रणालियों में जीवनरक्षक, रूपान्तरकारी बदलावों की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शनिवार, 16 अक्टूबर, को ‘विश्व खाद्य दिवस’ के अवसर पर जारी अपने सन्देश में, टिकाऊ विकास लक्ष्यों की प्राप्ति के लिये, खाद्य प्रणालियों में परिवर्तनशील कार्रवाई की पुकार लगाई है. उन्होंने कहा है कि इन बदलावों के ज़रिये सर्वजन के लिये बेहतर पोषण, बेहतर पर्यावरण और हर इनसान के लिये एक बेहतर ज़िन्दगी सुनिश्चित किये जा सकते हैं.

UNIC India

बेहतर उत्पादन, बेहतर पोषण, बेहतर वातावरण और बेहतर जीवन

दुनिया आज के दौर में, जलवायु संकट और जैव विविधता की हानि के कारण, बढ़ती भुखमरी का सामना कर रही है. ऐसे में, खाद्य व पोषण सुरक्षा एवं आजीविका की रक्षा के लिये तत्काल कार्रवाई की आवश्यकता है, विशेष रूप से हाशिये पर धकेले गए समुदायों के लोगों के लिये.

यूएन न्यूज़ की अंशु शर्मा ने विश्व खाद्य दिवस, 2021 पर भारत में संयुक्त राष्ट्र के कृषि संगठन (एफ़एओ) में राष्ट्रीय सलाहकार, शालिनी भूटानी से खाद्य सुरक्षा के विभिन्न आयामों पर चर्चा की.
 

ऑडियो
12'32"