नॉवल कोरोनावायरस

कोविड-19 से मृत्यु संख्या 20 लाख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने कहा कि हमारी दुनिया एक हृदय विदारक पड़ाव पर पहुँच गई है: कोविड19 महामारी ने अब 20 लाख ज़िन्दगियाँ ख़त्म कर दी हैं.इस दहला देने वाली संख्या के पीछे नाम और चेहरे हैं: एक ऐसी मुस्कान, जो अब केवल यादें बनकर रह गई है, खाने की मेज़ पर अब कोई कुर्सी हमेशा के लिये ख़ाली हो गई है, एक ऐसी जगह जहाँ प्रियजनों की ख़ामोशियाँ गूँजती हैं...

क़ाबिज़ फ़लस्तीनी इलाक़ों में न्यायसंगत टीकाकरण सुनिश्चित किये जाने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र के स्वतन्त्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने इसराइल से आग्रह किया है कि क़ाबिज़ फ़लस्तीनी इलाक़ों में रह रहे फ़लस्तीनियों के लिये कोविड-19 वैक्सीन के त्वरित और न्यायसंगत वितरण को सुनिश्चित किया जाना होगा. ग़ाज़ा और पश्चिमी तट में कोविड-19 महामारी के कारण संक्रमणों और मौतों की संख्या बढ़ रही है जिससे चिन्ता गहरा रही है.    

अन्तिम उपाय के तौर पर ही हो स्कूलों में तालाबन्दी - यूनीसेफ़

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने मंगलवार को ज़ोर देकर कहा है कि बच्चों की स्कूली शिक्षा जारी रखने के लिये कोई भी कसर नहीं छोड़ी जानी चाहिये. ग़ौरतलब है कि कोरोनावायरस संकट के कारण अनेक देशों में ऐहतियाती उपायों के तौर पर स्कूलों को बन्द किया है जिससे करोड़ों बच्चों की पढ़ाई-लिखाई पर असर हुआ है. 

ज़्यादा जोखिम वाले जनसमूहों के लिये जल्द से जल्द टीकाकरण की अपील

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि कोविड-19 संक्रमण का जोखिम झेल रहे स्वास्थ्यकर्मियों और अग्रिम मोर्चों पर जुटे अन्य लोगों को अगले 100 दिनों के भीतर टीका लगाये जाने के लिये सामूहिक संकल्प की आवश्यकता है.  
 

'न्यायसंगत टीकाकरण' से ज़िन्दगियों की रक्षा और स्वास्थ्य प्रणालियों को सहारा सम्भव

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि कोविड-19 महामारी से बचाव के लिये, अन्तरराष्ट्रीय वैक्सीन अलायन्स COVAX के तहत सुरक्षित और असरदार वैक्सीन की दो अरब खुराकों का इन्तज़ाम किया गया है, और जैसे ही वे तैयार होंगी उनका वितरण सुनिश्चित किया जाएगा. स्वास्थ्य संगठन के प्रमुख टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने शुक्रवार को इस आशय की जानकारी देते हुए कहा कि न्यायोचित टीकाकरण से लोगों की ज़िन्दगियाँ बचाने और स्वास्थ्य प्रणालियों को स्थायित्व प्रदान करने में मदद मिलेगी. 

कोविड-19: योरोप में बढ़ते संक्रमणों से WHO चिन्तित, चेतावनी जारी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने योरोपीय देशों में कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण और वायरस के एक नए रूप (प्रकार) के फैलाव के मद्देनज़र चेतावनी जारी की है कि महामारी के ख़िलाफ़ लड़ाई एक अहम पड़ाव पर पहुँच रही है. यूएन एजेंसी ने वायरस पर क़ाबू पाने के लिये ऐहतियाती उपाय सख़्ती से लागू किये जाने और साझा मोर्चा बनाने की पुकार लगाई है.     

घर और समुद्र में फँसे समुद्री नाविकों के लिये एक ‘अनचाहा कारावास’

वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण यात्रा और आवाजाही सम्बन्धी पाबन्दियों के कारण लाखों समुद्री नाविकों को अनुमान से कहीं लम्बे समय तक जहाज़ों पर रहने के लिये मजबूर होना पड़ा. छह महीने पहले इस समस्या के पहली बार सामने आने के बाद बड़ी संख्या में समुद्री नाविक अब भी अनिश्चितता भरे हालात में रहने के लिये मजबूर हैं. 

स्वास्थ्य मामलों पर राजनैतिक रस्साकशी से बचने का आग्रह

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि कोविड-19 से ज़िंदगियों व आजीविकाओं की रक्षा और महामारी का अन्त करने के दौरान यह ध्यान रखा जाना होगा कि वैश्विक समुदाय के समक्ष अन्य बीमारियों की चुनौतियाँ भी हैं. उन्होंने वैश्विक एकजुटता की अपील करते हुए आगाह किया है कि स्वास्थ्य से जुड़े मुद्दों पर राजनीति से बचा जाना होगा. 

मानवाधिकार दिवस: महामारी पर जवाबी कार्रवाई में मानवाधिकारों पर बल 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने गुरुवार को 'मानवाधिकार दिवस' के अवसर पर अपने सन्देश में एक अपील जारी करते हुए कहा है कि कोविड-19 पर जवाबी कार्रवाई और महामारी से उबरने के प्रयासों के केन्द्र में मानवाधिकारों को रखना होगा. महासचिव गुटेरेश के मुताबिक हर जगह, हर एक व्यक्ति के लिये, एक बेहतर भविष्य हासिल करने के लिये यह बेहद अहम है. 

विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली से पहले एकजुटता व पुख़्ता तैयारियों पर बल

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कोरोनावायरस संकट के दौरान अपने बुनियादी सन्देश को फिर ध्यान दिलाते हुए कहा है कि कोविड-19 महामारी को विज्ञान, समाधान और एकजुटता के ज़रिये हराया जा सकता है. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी की ओर से यह सन्देश उसकी निर्णय-निर्धारण संस्था ‘विश्व स्वास्थ्य ऐसेम्बली’ की वार्षिक बैठक से ठीक पहले आया है.