नफ़रत प्रेरित हिंसा

मनोरंजन व स्वास्थ्य के लिये शारीरिक गतिविधियों का सहारा लेने के बजाय, बच्चे डिजिटल उपकरणों का इस्तेमाल ज़्यादा कर रहे हैं.
© UNICEF/UN014974/Estey

ग़लत व झूठी जानकारियों के उभार से, दरक रहा है आम लोगों का भरोसा

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट ने सचेत किया है कि विश्व भर में समाजों को व्यवस्थागत विषमता समेत अनेक वैश्विक व्याधियों का सामना करना पड़ रहा है, जिनके कारण जानबूझकर ग़लत जानकारी व झूठ फैलाए जाने की प्रवृत्ति भी उभर रही है.

यह पहली बार है जब अन्तरराष्ट्रीय मानव बन्धुत्व दिवस को मनाया जा रहा है.
© UNICEF/Giovanni Diffidenti

अन्तरराष्ट्रीय मानव बन्धुत्व दिवस – सहिष्णुता को बढ़ावा देने पर बल 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सांस्कृतिक और धार्मिक सहिष्णुता को बढ़ावा देने के लिये, मज़बूत संकल्प दर्शाए जाने का आहवान किया है. गुरूवार को पहली बार मनाए जा रहे अन्तरराष्ट्रीय मानव बन्धुत्व दिवस पर महासचिव ने यह बात कही है.  

दक्षिणी पोलैण्ड में स्थित आउशवित्ज़-बर्केनाउ यातना शिविर.
Unsplash/Jean Carlo Emer

हॉलोकॉस्ट स्मरण दिवस: यहूदीवाद-विरोध से मुक़ाबले में 'दृढ़ संकल्प' की दरकार

जर्मनी की चाँसलर अंगेला मैर्केल ने यहूदी जनसंहार (हॉलोकॉस्ट) के पीड़ितों की स्मृति में बुधवार को आयोजित एक कार्यक्रम मे सचेत किया है कि दुनिया को यहूदीवाद-विरोध के ख़िलाफ़ पूर्ण संकल्प के साथ खड़ा होना होगा. उन्होंने दूसरे विश्व युद्ध के दौरान नात्सियों द्वारा 60 लाख से ज़्यादा यहूदियों और अन्य लोगों की हत्याओं को सभ्य मूल्यों के साथ विश्वासघात क़रार दिया है.

अमेरिका में हॉलोकॉस्ट स्मारक संग्रहालय में पीड़ितों की तस्वीरें.
U.S. Holocaust Memorial Museum

हॉलोकॉस्ट स्मरण दिवस: नव-नात्सियों के ख़िलाफ़ तत्काल कार्रवाई की पुकार

नव-नात्सी और श्वेत वर्चस्ववादी समूह वैश्विक महामारी कोविड-19 का इस्तेमाल अल्पसंख्यकों को निशाना बनाने, अपनी ताक़त बढ़ाने और इतिहास को नए सिरे से लिखने में कर रहे हैं जिन्हें रोकने के लिये और ज़्यादा प्रयास किये जाने होंगे. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बुधवार, 27 जनवरी, को यहूदी जनसंहार (हॉलोकॉस्ट) स्मरण दिवस पर अपने वीडियो सन्देश में यह भावुक अपील जारी की है. 

यूक्रेन में बच्चे एक विभिन्न नस्लों के बच्चों को दर्शाते एक एसडीजी पोस्टर के साथ खेल रहे हैं.
UNDP Ukraine/Oleksandr Ratushnyak

'विविधता एक संपदा है, नाकि विभाजन की वजह'

एक ऐसे दौर में जब चरमपंथ और कट्टरता के मामले ज़्यादा दिखाई दे रहे हैं, जब “नफ़रता का विष” मानवता के एक हिस्से में ज़हर घोल रहा है, उस समय में सहिष्णुता की भूमिका बेहद आवश्यक हो गई है. संयुक्त राष्ट्र की सांस्कृतिक संस्था - यूनेस्को की प्रमुख ने ‘अंतरराष्ट्रीय सहिष्णुता दिवस’ पर जारी अपने संदेश में यह बात कही है.

यूएन महासचिव फ्रांस की राजधानी पेरिस में पीस फ़ोरम को संबोधित करते हुए.
UNESCO/Christelle Alix

बहुपक्षवाद को 'मौजूदा व भविष्य की चुनौतियों' से लड़ना होगा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है दुनिया में चुनौतियों का स्वरूप बदल रहा है और नए संकट उभर रहे हैं. ऐसी स्थिति में बहुपक्षवादी व्यवस्था की सफलता के लिए यह ज़रूरी है कि उसमें मौजूदा चुनौतियों के अनुरूप बदलाव किए जाएं. 1918 में पहले विश्व युद्ध की समाप्ति की स्मृति में विश्व भर में समारोह आयोजित हो रहे हैं और इसी सिलसिले में महासचिव ने सोमवार को ‘पेरिस पीस फ़ोरम’ को संबोधित किया. 

ऑनलाइन हेट स्पीच से निपटने में अब तक सरकारे सफल नहीं हो पाई हैं.
Unsplash/Priscilla du Preez

ऑनलाइन नफ़रत के ऑफ़लाइन दुष्परिणामों को रोकने में 'देश व कंपनियां नाकाम'

अभिव्यक्ति की आज़ादी पर संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ (विशेष रैपोर्टेयर) डेविड काए ने कहा है कि ऑनलाइन माध्यमों पर फैल रही नफ़रत पर रोक लगाने में देश और कंपनियां विफल साबित हो रही हैं. सोमवार को एक रिपोर्ट भी जारी की गई है जिसमें इस विकराल चुनौती से निपटने के लिए इंटरनेट पर क़ानूनी मानकों का सहारा लेने की बात कही गई है.

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश और न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा अर्डन.
UN Photo/Mark Garten

क्राइस्टचर्च हमले के बाद न्यूज़ीलैंड की प्रधानमंत्री का नेतृत्व 'सराहनीय'

न्यूज़ीलैंड की राजधानी ऑकलैंड में रविवार को संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इस साल मार्च महीने में क्राइस्टचर्च हमले में मारे गए लोगों और उनके परिजनों के प्रति एकजुटता का प्रदर्शन किया है. दो मस्जिदों में हुई गोलीबारी में 51 लोगों की मौत हुई थी. यूएन प्रमुख ने इस घटना के बाद निर्णायक नेतृत्व देने के लिए  प्रधानमंत्री जेसिन्डा अर्डन की सराहना की है. 

संयुक्त राष्ट्र विशेष सलाहकार एडमा डिआंग.
UN Photo/Amanda Voisard

“विद्वेषपूर्ण अभिव्यक्तियों को बल देने वाला राजनैतिक अवसरवाद समाप्त हो”

धार्मिक संस्थाओं के खिलाफ जानलेवा हमलों के मद्देनजर विश्व के नेताओं को उस ‘राजनैतिक अवसरवाद’ और नीतियों को समाप्त करने की आवश्यकता है जिनके कारण नफरत भरी अभिव्यक्तियों और हिंसक अतिवाद को बढ़ावा मिलता है. नरसंहार की रोकथाम पर संयुक्त राष्ट्र विशेष सलाहकार एडमा डिआंग ने यह वक्तव्य दिया है.