महिला

भारत: महिला सफ़ाई कर्मियों के लिये एक नई शुरुआत

भारत के पूर्वी प्रदेश बिहार के पटना शहर में संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष - UNFPA की एक मुहिम के तहत, ऐसी महिला सफ़ाई कर्मचारियों को सशक्त बनाकर, मशीनी उपकरणों के ज़रिये सफ़ाई करने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है, जिन्हें हाथ से मैला सफ़ाई करनी पड़ती है. इससे उन्हें सामाजिक कलंक से छुटकारा मिलने के साथ-साथ, आर्थिक स्वतन्त्रता भी हासिल हो रही है. 

अफ़ग़ानिस्तान: बढ़ते मानवीय संकट के बीच सहायता धनराशि का अभाव

संयुक्त राष्ट्र के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आगाह किया है कि अफ़ग़ानिस्तान से विदेशी सैनिकों की वापसी, बढ़ती हिंसा और सूखे की समस्या जैसे कारणों से, बड़ी संख्या में आम लोग विस्थापन हो रहे हैं, जिससे एक बड़ा मानवीय संकट पैदा हो रहा है.

लैंगिक समानता, 'इस सदी का अधूरा मानवाधिकार संघर्ष' - यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सोमवार को, पीढ़ी समानता फ़ोरम (Generation Equality Forum) में कहा कि महिलाओं के लिये समान अधिकार प्राप्ति का कार्य – “सदी का ऐसा मानवाधिकार संघर्ष है जो अभी अधूरा है”. ये फ़ोरम, मैक्सिको सिटी में सोमवार को शुरू हुआ.

कोविड-19: महिलाओं पर दोहरी गाज, अग्रिम मोर्चों पर मुस्तैद मगर निर्णय-प्रक्रिया से बाहर

महिला अधिकारों व सशक्तिकरण के लिये काम करने वाले यूएन संगठन – यूएन वीमैन की अध्यक्षा ने कहा है कि निसन्देह दुनिया भर में, स्वास्थ्यकर्मियों में 70 प्रतिशत संख्या महिलाओं की है, और कोविड-19 महामारी से सबसे ज़्यादा और बुरी तरह महिलाएँ ही प्रभावित हुई हैं, फिर भी, महामारी का मुक़ाबला करने से सम्बन्धित निर्णय प्रक्रिया से, महिलाओं को ही, व्यवस्थागत तरीक़े से बाहर रखा जा रहा है. इनमें दुनिया भर में, सरकारों द्वारा संचालित कार्यबल (टास्क फ़ोर्स) भी हैं.

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन 19 मार्च 2021

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

ऑडियो -
19'44"

CSW: कॉर्पोरेट हस्तियों को यूएन प्रमुख का सन्देश - लैंगिक समानता समय की ज़रूरत

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने तमाम कॉर्पोरेट हस्तियों से लैंगिक समानता हासिल करने का आग्रह करते हुए, निजी क्षेत्र और पूरे समाज के लिये, इसके लाभों को भी रेखांकित किया है. यूएन प्रमुख ने, मंगलवार को, महिला स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र के आयोग (CSW) के 65वें सत्र के दौरान आयोजित 'लक्ष्य लैंगिक समानता' कार्यक्रम को दिये वीडियो सन्देश में, ये अपील की.

महिला नेतृत्व की ज़रूरत

अन्तर-संसदीय संघ यानि आईपीयू की ताज़ा रिपोर्ट में बताया गया था कि दुनिया भर की संसदों में, महिला सांसदों की हिस्सेदारी 25 प्रतिशत से अधिक हो गई है. यह आँकड़ा ऐतिहासिक है, लेकिन संसदों में लैंगिक समानता हासिल करने का लक्ष्य अब भी दूर है. एशिया में, और ख़ासतौर पर भारत में भी, नेतृत्व की भूमिकाओं में महिलाओं की हिस्सेदारी बढ़ी है, लेकिन अभी और अधिक साहसिक क़दम उठाए जाने की ज़रूरत है. संसद में, व नेतृत्व पदों पर महिलाओं के प्रतिनिधित्व के बारे में, भारत में नेतृत्व के तीन स्तरों पर आसीन महिलाओं के विचार प्रस्तुत करता एक वीडियो फ़ीचर...

यूएन महिला आयोग: पूर्ण लैंगिक समानता के लिये रोडमैप पर रहेगा ध्यान

महिलाओं की स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र आयोग के 65वें सत्र का एक मुख्य ध्यान - दुनिया भर में पूर्ण लैंगिक समानता हासिल करने और निर्णय प्रक्रिया में, महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिये एक रौडमैप तैयार करने पर रहेगा. ये सत्र सोमवार को, न्यूयॉर्क स्थित संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में शुरू हो रहा है.

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन 12 मार्च 2021

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

ऑडियो -
19'7"

भारत में 'नई मंज़िल' से महिला सशक्तिकरण

विश्व बैंक की ऋण सहायता से भारत सरकार का अल्पसंख्यक कल्याण मन्त्रालय ‘नई मंज़िल’ नामक एक अनूठा महिला सशक्तिकरण कार्यक्रम चला रहा है. इसके तहत उन महिलाओं को  शिक्षा पूरी करने का अवसर व कौशल प्रशिक्षण देकर आत्मनिर्भर बनने में मदद की जा रही है जो  किन्हीं कारणों से शिक्षा पूरी नहीं कर पाती हैं. विश्व बैंक की वरिष्ठ शिक्षा विशेषज्ञ मार्गेराइट क्लार्क और शिक्षा सलाहकार प्रद्युम्न भट्टाचार्जी का संयुक्त ब्लॉग.