महासभा

कोविड-19: पुनर्बहाली सर्वजन के लिये मानवाधिकार सुनिश्चित करने का ‘ऐतिहासिक अवसर’

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सचेत किया है कि कोविड-19 महामारी के दौरान दुनिया भर में मानवाधिकारों को नुक़सान पहुँचा है, लेकिन महामारी से पुनर्बहाली की प्रक्रिया, यथास्थितिवाद को पीछे छोड़ने और सर्वजन के लिये गरिमा सुनिश्चित करने का एक अवसर है. यूएन प्रमुख ने वर्ष 2020 में मानवाधिकारों को बढ़ावा देने के लिये कार्रवाई किये जाने की पुकार लगाई, जिसके एक वर्ष बाद महासभा में, उन्होंने देशों के प्रतिनिधियों को सम्बोधित किया है.

एंतोनियो गुटेरेश, महासचिव के दूसरे कार्यकाल के लिये उम्मीदवार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सोमवार को पुष्टि की है कि यूएन प्रमुख के तौर पर अपने दूसरे कार्यकाल के लिये वह उम्मीदवारी पेश करेंगे. महासचिव के पद पर अगला पाँच-वर्षीय कार्यकाल जनवरी 2022 में शुरू होना है. 

कोविड-19: सटीक निर्णयों से निकलेगा सभी के लिये सम्मानजनक जीवन का रास्ता

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कहा है कि कोविड-19 महामारी का सामना करने के लिये इस समय लिये गए महत्वपूर्ण निर्णय ही तमाम लोगों के लिये सम्मानजनक जीवन का रास्ता प्रशस्त करेंगे. उन्होंने स्वास्थ्य महामारी का मुक़ाबला करने के प्रयासों की समीक्षा करने के लिये, यूएन महासभा के दो दिवसीय सत्र के अन्तिम दिन शुक्रवार को ये बात कही.

यूएन न्यूज़-हिन्दी बुलेटिन, 4 दिसम्बर 2020

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...
-------------------------------------------------------------------

ऑडियो -
20'48"

कोविड-19: विशेष सत्र में महामारी की समीक्षा

संयुक्त राष्ट्र के सदस्य देशों ने, गुरुवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के विशेष सत्र में, दुनिया भर में स्वास्थ्य महामारी कोविड-19 के कारण हुई तबाही, उसका मुक़ाबला करने के सर्वश्रेष्ठ उपायों पर ग़ौर करने, और आगे बढ़ने का रास्ता निकालने के उपायों पर विचार किया.

यूएन महासभा का 75वाँ सत्र: एक झरोखा

हर वर्ष विश्व नेता न्यूयॉर्क शहर के मैनहैटन इलाक़े में पूर्वी नदी पर स्थित यूएन महासभा भवन में इकट्ठा होकर विश्व को सम्बोधित करते रहे हैं. वर्ष 2020 में कोविड-19 महामारी के कारण, सदस्य देशों के नेताओं ने अपने वीडियो भाषण पहले से ही रिकॉर्ड कराए जिन्हें महासभा हॉल में दिखाया गया. एक झरोखा... 

संयुक्त राष्ट्र महासभा की महत्वपूर्ण झलकियाँ

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने महासभा में आम बहस के दौरान कहा कि कोविड19 महामारी ने वार्षिक बैठक का स्वरूप भले ही बदल दिया हो, लेकिन इसे पहले से कहीं अधिक महत्वपूर्ण बना दिया है. वहीं, महासभा अध्यक्ष, वोल्कान बोज़किर ने बहुपक्षवाद के प्रति प्रतिबद्धता और मज़बूत करने पर ज़ोर दिया.

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन 2 अक्टूबर 2020

2 अक्टूबर 2020 के बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...
-------------------------------------------------------------------

ऑडियो -
26'50"

अभूतपूर्व रहा, महासभा का 75वाँ सत्र

यूएन महासभा का 75वाँ सत्र, इस विश्व संगठन के इतिहास के किसी अन्य सत्र से बिल्कुल अलग था क्योंकि कोविड-19 महामारी के कारण सभी देशों और सरकार के प्रमुखों ने इस बार पहले से रिकॉर्ड किये हुए वीडियो सन्देशों के ज़रिये जनरल डिबेट में शिरकत की.

हालाँकि इस सत्र और जनरल डिबेट का प्रमुख मुद्दा कोविड महामारी रहा, जिसमें ज़्यादातर प्रतिभागियों ने स्वीकार किया कि विश्व परस्पर रूप से जुड़ा है और इसके लिये बहुपक्षीय समाधानों की आवश्यकता है. इसी सन्दर्भ में, कई देशों ने स्वास्थ्य के अलावा जलवायु कार्रवाई, शान्ति, मानव अधिकारों और टिकाऊ विकास जैसी चुनौतियों के लिये संयुक्त राष्ट्र के अधिकाधिक उपयोग पर ज़ोर दिया... (वीडियो)

यूएन वार्षिक रिपोर्ट: कोविड-19 से उबरने का पैमाना आर्थिक के बजाय मानवीय होना चाहिये

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने गुरुवार को संगठन के कामकाज पर आधारित वार्षिक रिपोर्ट जारी की है. यूएन की स्थापना के 75 वर्ष पूरे होने के ऐतिहासिक अवसर पर पेश की गई इस रिपोर्ट में यूएन प्रमुख ने एक समावेशी व टिकाऊ दुनिया के निर्माण का संकल्प लिये जाने की अहमियत पर बल दिया है.