महिलाएँ व लड़कियाँ

हालिम्ज़ की शादी 14 साल की उम्र में हुई थी. वह अपने भाइयों के विपरीत कभी स्कूल नहीं गई, और कहती हैं कि चाड में उनके गांव में बाल विवाह गरीबी के मुख्य कारणों में से एक है.
UNICEF/UN014189/Sang Mooh

लड़कियों के बेहतर भविष्य के लिए, 2030 तक बाल विवाह का उन्मूलन ज़रूरी

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनीसेफ़) ने क्षोभ प्रकट किया है कि बाल विवाह को मानवाधिकारों का उल्लंघन क़रार दिए जाने के बाद भी यह समस्या अब भी व्याप्त है. यूएन एजेंसी ने इस चुनौती से निपटने के लिए समन्वित, वैश्विक कार्रवाई पर बल दिया है ताकि वर्ष 2030 तक बाल विवाह के मामलों का उन्मूलन के लक्ष्य को साकार किया जा सके.

इक्वाडोर की राजधानी क्वीटो में एक महिला, लैंगिक हिंसा के विरोध में निकाले गये मार्च में हिस्सा ले रही है.
© UN Women/Johis Alarcón

जलवायु परिवर्तन, महिलाओं व लड़कियों के विरुद्ध हिंसा का जोखिम बढ़ने की एक वजह

संयुक्त राष्ट्र की एक स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ ने बुधवार को चेतावनी जारी की है कि जलवायु परिवर्तन और पर्यावरण क्षरण के कारण, विश्व भर में महिलाओं व लड़कियों के प्रति हिंसा का जोखिम बढ़ रहा है.

यूक्रेन के कीयेफ़ के नज़दीक बूचा में एक माँ अपनी बेटी के साथ हिंसा से बचकर निकल रही है.
© UNDP/Oleksandr Ratush

यूक्रेन युद्ध: महिलाओं व बच्चों पर गहरा असर, यौन हिंसा व तस्करी का जोखिम

संयुक्त राष्ट्र एजेंसियों के शीर्ष अधिकारियों ने सोमवार को सुरक्षा परिषद की एक बैठक में सदस्य देशों को आगाह किया है कि यूक्रेन में पिछले छह हफ़्तों से अधिक समय से जारी युद्ध का महिलाओं और लड़कियों पर भीषण असर हुआ है और एक पीढ़ी के बर्बाद हो जाने का जोखिम है. 

मैक्सिको में महिलाएँ, अपनी पीड़ित बेटियों के लिये न्याय की माँग कर रही हैं.
Primavera Diaz

लिंग-आधारित हिंसा, एक ‘अदृश्य आपात स्थिति’ – रोकथाम उपायों पर चर्चा

संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष महिला अधिकारियों का कहना है कि दुनिया भर में घरों, कार्यस्थलों, रास्तों - सड़कों और ऑनलाइन माध्यमों पर महिलाओं व लड़कियों के लिये लिंग-आधारित हिंसा का शिकार होने का जोखिम बहुत ज़्यादा है. उन्होंने गुरूवार को आयोजित एक चर्चा के दौरान चिन्ता जताई कि कोविड-19 महामारी के दौरान यह समस्या और गहराई है.   

यमन में एक युवा फ़ाउण्डेशन की सह-संस्थापक ओला अलघबरी, महिला सशक्तिकरण के लिये प्रयासरत हैं.
Heba Naji

शान्ति प्रक्रियाओं में महिला नेतृत्व व उनकी सार्थक भागीदारी पर बल

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने गुरूवार को सुरक्षा परिषद को सम्बोधित करते हुए कहा है कि विश्व की आधी आबादी को, अन्तरराष्ट्रीय शान्ति व सुरक्षा विषयों से दूर नहीं रखा जा सकता. यूएन प्रमुख ने उन चुनौतियों से निपटने व खाईयों को पाटने पर ज़ोर दिया है, जो महिलाओं व लड़कियों की आवाज़ को बराबरी देने से रोकती हैं.

शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिये विश्व बैन्क के एक कार्यक्रम के तहत अफ़ग़ानिस्तान में लड़कियाँ जीव-विज्ञान पढ़ रही हैं.
World Bank/Ishaq Anis

महिलाओं और लड़कियों का विज्ञान से है नाता – यूएन प्रमुख 

बहुत सी महिला वैज्ञानिकों को, वैश्विक महामारी कोविड-19 के दौरान प्रयोगशालाएँ बन्द होने और सम्बन्धियों की देखभाल करने की बढ़ी ज़िम्मेदारियाँ सम्भालने सहित, अनेक चुनौतियों का सामना करना पड़ा है. संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने गुरुवार, 11 फ़रवरी, को ‘विज्ञान में महिलाओं व लड़कियों के अन्तरराष्ट्रीय दिवस’ पर विज्ञान और प्रौद्योगिकी में, लैंगिक समानता को आगे बढ़ाने की पुकार लगाई है. 

होण्डुरस के स्कूलों में लड़कियों को यौन तस्करी के लिये निशाना बनाये जाने के मामले सामने आये हैं.
UNICEF/Adriana Zehbrauskas

कोरोनावायरस संकट काल में सोशल मीडिया पर तस्करी के मामलों में उछाल

संयुक्त राष्ट्र की समिति ने सोशल मीडिया कम्पनियों से आग्रह किया है महिलाओं व लड़कियों की तस्करी का अन्त किये जाने के लिये ‘बिग डेटा’ और ‘आर्टिफ़िशियल इन्टैलीजेंस’ की मदद ली जानी होगी. विशेषज्ञों के मुताबिक कोविड-19 महामारी के दौरान ऑनलाइन माध्यमों पर पीड़ितों को तस्करी के जाल में फँसाये जाने की घटनाओं में बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है.