महिला अधिकार

ईरान की तथाकथित नैतिकता पुलिस की हिरासत में 22 वर्षीय महसा अमिनी की मौत के बाद स्वीडन के स्टॉकहोम में प्रदर्शनकारी एकत्र हुए.
Unsplash/Artin Bakhan

ईरान: विरोध प्रदर्शनों में बच्चों की मौतों व उन्हें बन्दी बनाए जाने पर चिन्ता

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) ने ईरान में पिछले एक महीने से जारी विरोध प्रदर्शनों के दौरान, सुरक्षा बलों की हिंसक कार्रवाई में बच्चों की मौत होने और उन्हें हिरासत में लिये जाने के मामलों पर गहरी चिन्ता जताई है.

एक 12 वर्षीय लड़का अफ़ग़ानिस्तान के एक पश्चिमी प्रान्त - उरुज़गान में केले बेचते हुए.
© UNICEF

अफ़ग़ानिस्तान के साथ सम्पर्क व बातचीत ज़रूरी, अन्यथा बिखराव का जोखिम

अफ़ग़ानिस्तान के लिये, संयुक्त राष्ट्र महासचिव के विशेष उप प्रतिनिधि मार्कस पॉटज़ेल ने सुरक्षा परिषद को देश में हालात से अवगत कराते हुए बताया कि यदि तालेबान, सभी अफ़ग़ान नागरिकों के अधिकारों का सम्मान करने और अन्तरराष्ट्रीय समुदाय के साथ रचनात्मक ढंग से सम्पर्क व बातचीत में विफल रहा, तो देश का भविष्य अनिश्चित है. 

ईरान में 22 वर्षीय महिला महसा अमीनी की, हिजाब सम्बन्धी विवाद में मौत होने के बाद, स्वीडन में भी विरोध प्रदर्शन हुए हैं.
Unsplash/Artin Bakhan

ईरान: हिजाब प्रदर्शनकारियों पर हिंसक बल प्रयोग की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र के मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय ने मंगलवार को कहा है कि ईरान में अधिकारियों को हाल ही में पुलिस हिरासत में मौत का शिकार होने वाली महिला महसा अमीनी के लिये न्याय की मांग करने वाले प्रदर्शनकारियों के अधिकारों का पूर्ण सम्मान करना होगा.

यौन हिंसा से बची रोहिंग्या शरणार्थी महिलाएं उन 800,000 से अधिक रोहिंग्याओं में सबसे अधिक हाशिए पर हैं, जिन्हें अगस्त के बाद से म्यांमार से बांग्लादेश भेज दिया गया था.
यूनिसेफ/ब्रायन सोकोली

रोहिंज्या संकट के पाँच साल: अन्तराष्ट्रीय समुदाय से पीड़ितों के लिये एकजुटता से काम जारी रखने की अपील

संघर्षों की स्थितियों में यौन हिंसा पर यूएन प्रमुख की विशेष प्रतिनिधि प्रमिला पैटन ने रोहिंज्या संकट के पाँच वर्ष पूरे होने के अवसर पर अन्तराष्ट्रीय समुदाय से रोहिंज्या लोगों के साथ एकजुटता जारी रखने का आहवान किया है. उन्होंने साथ ही यौन हिंसा के पीड़ितों के लिये न्याय व जवाबदेही से सम्बन्धित प्रयासों का दायरा बढ़ाने का आग्रह भी किया है.

एक दस वर्षीय लड़की अपने परिवार को FGM/C प्रैक्टिशनर के रूप में प्रशिक्षित करने की योजना का पता चलने के बाद घर से भाग गई। वह अब पोर्ट लोको, सिएरा लियोन में यूनिसेफ के एक सुरक्षित घर में रहती है और स्कूल जा रही है.
यूनिसेफ/ओलिवियर एसेलिन

FGM: सियेरा लियोन - महिला जननांग विकृति एक यातना - दण्डमुक्ति पर रोक की पुकार

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने सियेरा लियोन में महिला जननांग विकृति (FGM) को रोकने और दोषियों को दण्डित करने के लिए कड़े क़दम उठाने का आहवान किया है.

दुनिया की प्रमुख महिला अधिकार कार्यकर्ताओं में से एक, महबूबा सेराज, काबुल में संयुक्त राष्ट्र महिला संस्था, यूएनवीमेन के साथ, मानवीय संकट के लिये महिला-केन्द्रित कार्रवाई लागू करने के मुद्दे पर आयोजित एक बैठक में भाग लेते हुए.
UN Women/Olguta Anghel

आपबीती: 'हम ही उम्मीद हैं, और हम ही अफ़ग़ानिस्तान को एकजुट रखने वाली शक्ति हैं’

विश्व की प्रमुख महिला अधिकार कार्यकर्ताओं में से एक महबूबा सेराज ने अफ़ग़ानिस्तान में अगस्त 2021 में तालेबान के अधिग्रहण के बाद, देश के हालात पर नज़र रखने व समाज कल्याण के लिये काम करने हेतु, देश में बसे रहने का फ़ैसला किया.

अफ़ग़ानिस्तान में आए भीषण भूकम्प में, सात वर्षीया आयशा का पूरा परिवार ख़त्म हो गया.
© UNICEF/Ali Nazari

अफ़ग़ानिस्तान: महिला अधिकारों की चिन्ताजनक स्थिति, दृढ़ समर्थन व सहायता की पुकार

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय उच्चायुक्त (OHCHR) मिशेल बाशेलेट ने अफ़ग़ानिस्तान में महिलाओं व लड़कियों के मानवाधिकारों की बिगड़ती स्थिति पर क्षोभ व्यक्त करते हुए, उनकी सहायता के लिये तत्काल, दृढ़ कार्रवाई की पुकार लगाई है. उन्होंने चेतावनी जारी करते हुए कहा कि यदि जल्द हालात नहीं बदले, तो देश में महिलाओं का भविष्य और अधिक अंधकामरय हो जाने की आशंका है.

अफ़ग़ानिस्तान के हेरात में एक खाद्य वितरण केन्द्र पर, कुछ महिलाएँ खाद्य सामग्री प्राप्त करते हुए.
© UNICEF/Sayed Bidel

अफ़ग़ान प्रशासन से गम्भीर मानवाधिकार चुनौतियों से निपटने का आग्रह

अफ़ग़ानिस्तान में मानवाधिकारों की स्थिति पर संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञ रिचर्ड बैनेट ने देश में मानवाधिकारों के लिये उत्पन्न गम्भीर चुनौतियों और आर्थिक व मानवीय संकट पर चिन्ता व्यक्त की है. उन्होंने तालेबान प्रशासन से कथनी और करनी के बीच की दूरी ख़त्म करके, एक ऐसा रास्ता अपनाने का आग्रह किया है जिससे महिलाओं व लड़कियों समेत सभी अफ़ग़ान नागरिकों के लिये स्थिरता व स्वतंत्रता सुनिश्चित की जा सके.

इण्डोनेशिया के बोन ज़िले में बाल संरक्षण मामलों की यूनीसेफ़ प्रमुख मिलेन किडाने.
© UNICEF/UN0602687/Wilander

यूएन में पूर्ण लैंगिक समता प्राप्त करने की दिशा में ठोस प्रगति, महासचिव

मानवाधिकारों पर आधारित और नए सिरे से पुनर्जीवित एक सामाजिक अनुबन्ध के लिये लैंगिक समानता व महिलाओं के अधिकार, दोनों अति-आवश्यक हैं. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मंगलवार को महिला नेतृत्वकर्ताओं को बढ़ावा देने के इरादे से आयोजित एक चर्चा के दौरान यह बात कही है.

बांग्लादेश में महिलाएँ, एक आजीविका कार्यक्रम के ज़रिये अपने परिवार की खाद्य सुरक्षा सुनिश्चित कर रही हैं.
© WFP/Sayed Asif Mahmud

महिला सशक्तिकरण में निवेश, शान्ति व समृद्धि के लिये व्यापक लाभ

महिला सशक्तिकरण के लिये प्रयासरत यूएन संस्था – यूएन वीमैन की कार्यकारी निदेशक सीमा बहाउस ने कहा है कि महिलाओं के आर्थिक सशक्तिकरण में निवेश करके, शान्ति व समृद्धि की दिशा में विशाल प्रगति को साकार किया जा सकता है. उन्होंने मंगलवार को सुरक्षा परिषद को सम्बोधित करते हुए सचेत किया कि जिन देशों में महिलाएँ, कार्यस्थलों से दूर व आर्थिक रूप से वंचित हैं, उनके युद्धग्रस्त होने की आशंका अधिक होती है.