महासागर

श्रीलंका के विदेश मंत्री अली साबरी ने यूएन महासभा के 77वें सत्र के दौरान जनरल डिबेट को सम्बोधित किया.
UN Photo/Cia Pak

श्रीलंका: मज़बूत लोकतांत्रिक व्यवस्था व आर्थिक स्थिरता के लिये सुधारों की तैयारी

श्रीलंका के विदेश मंत्री अली साबरी ने यूएन महासभा के 77वें सत्र को सम्बोधित करते हुए कहा है कि देश में सामाजिक अशान्ति व विरोध प्रदर्शनों के लम्बे दौर के बाद, लोकतांत्रिक शासन व्यवस्था व दीर्घकालीन आर्थिक स्थिरता बहाल करने के लिये संस्थागत फ़्रेमवर्क को मज़बूत किया जा रहा है.

लाल सागर में प्रवाल भित्ति, विश्व में सबसे लम्बे समय से जीवित भित्तियों में हैं.
© Unsplash/Francesco Ungaro

महत्वाकाँक्षी कार्रवाई के संकल्प के साथ, यूएन महासागर सम्मेलन का समापन

पुर्तगाल के लिस्बन शहर में एक सप्ताह तक चली चर्चाओं और कार्यक्रमों के बाद, संयुक्त राष्ट्र का दूसरा महासागर सम्मेलन शुक्रवार को समाप्त हो गया. इस अवसर पर सरकारों और राष्ट्राध्यक्षों ने महासागरों की रक्षा के लिये एक नए राजनैतिक घोषणापत्र पर सहमति जताई है और महासागर संरक्षण के लिये विज्ञान आधारित, नवाचारी समाधानों को अपनाये जाने पर बल दिया है. 

अमेरिकन समोआ में एक महासागर विज्ञानी शोध कार्य में व्यस्त है.
© Ocean Image Bank/Shaun Wolfe

यूएन सम्मेलन: महासागर संरक्षण के लिये वैज्ञानिक ज्ञान की अहमियत रेखांकित

पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में, यूएन महासागर सम्मेलन का चौथा दिन वैज्ञानिक समुदाय की भूमिका पर केन्द्रित रहा, जिसमें वैज्ञनिक ज्ञान, शोध क्षमता विकास, और समुद्री टैक्नॉलॉजी के हरसम्भव उपयोग को सतत महासागर प्रबन्धन की दृष्टि से अहम बताया गया है.

विएत नाम के एक राष्ट्रीय उद्यान में कुछ मछुआरे पकड़ी गई मछलियों को एकत्र कर रहे हैं.
UNEP/Lisa Murray

समुद्री खाद्य प्रणालियों में रूपान्तरकारी बदलावों पर केन्द्रित रणनीति पर बल

पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में दूसरे संयुक्त राष्ट्र महासागर सम्मेलन में बुधवार को मत्स्य पालन व मछली उत्पादन के रिकॉर्ड स्तर और वैश्विक खाद्य सुरक्षा में उसके योगदान पर चर्चा हुई.

हमारा महासागरों के लिये सबसे बड़े ख़तरों में से एक - मानव निर्मित प्लास्टिक प्रदूषण भी है.
© Ocean Image Bank/Sören Funk

संयुक्त राष्ट्र महासागर सम्मेलन स्थल पर, एकल-प्रयोग प्लास्टिक बन्द

आशंका है कि वर्ष 2050 तक समुद्र में मछलियों की तुलना में प्लास्टिक ज़्यादा होगा - और लिस्बन में आयोजित संयुक्त राष्ट्र महासागर सम्मेलन स्थल पर, समस्त एकल-उपयोग प्लास्टिक का इस्तेमाल बन्द कर दिया गया है, ताकि सततता को बढ़ावा दिया जा सके. वीडियो फ़ीचर...

भारत सरकार के पृथ्वी विज्ञानों के लिये मंत्री डॉक्टर जितेन्द्र सिंह, पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में दूसरे यूएन महासागर सम्मेलन में शिरकत के दौरान.
UN Video/Screenshot

महासागर को लेकर भारत की चिन्ताएँ और प्राथमिकताएँ

पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में दूसरे यूएन महासागर सम्मेलन में, भारत ने भी शिरकत की है और देश के एक मंत्री डॉक्टर जितेन्द्र सिंह ने, लिस्बन में, महासागर को लेकर भारत की चिन्ताएँ और प्राथमिकताएँ गिनाई हैं. वीडियो...

हरित क्षेत्र, जलवायु परिवर्तन के ख़िलाफ़ बहुत प्रभावी प्रकृति आधारित समाधान हैं.
© Unsplash/Benjamin L. Jones

टिकाऊ नील अर्थव्यवस्था, लघु देशों और तटीय आबादी के लिये बहुत अहम

दुनिया की लगभग 40 प्रतिशत आबादी समुद्री तटवर्ती इलाक़ों में रहती है या उनके पास रहती है, तो उस आबादी की आजीविका को ध्यान में रखते हुए, लिस्बन में हो रहे यूएन महासगार सम्मेलन के दूसरे दिन, मंगलवार को, टिकाऊ महासागर आधारित अर्थव्यवस्थाओं और तटीय पारिस्थितिकियों के प्रबन्धन पर ध्यान केन्द्रित किया गया.

समुद्री कछुए की सात प्रजातियाँ, हर एक प्रशान्त में बसती हैं और 100 से ज़्यादा देशों में उनके घोसले हैं.
© Ocean Image Bank/Jordan Robin

महासागर क्यों अहम है?

ऑस्ट्रेलियाई गायक-गीतकार कोडी सिम्पसन, संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश और दुनिया भर के लोगों के साथ मिलकर यह घोषणा कर रहे हैं कि ग्रह और उसके सभी निवासियों के स्वास्थ्य के लिये, महासागर बहुत महत्वपूर्ण है.

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में आयोजित महासागर सम्मेलन को सम्बोधित किया.
UN Photo/Eskinder Debebe

यूएन महासागर सम्मेलन: समुद्रों की रक्षा के लिये चार अहम अनुशंसाएँ

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सोमवार को पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में दूसरे ‘यूएन महासागर सम्मेलन’ को सम्बोधित करते हुए, अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से समुद्रों की रक्षा व संरक्षण के लिये एकजुट होकर प्रतिबद्धता जताने का आहवान किया है.

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश, पुर्तगाल की राजधानी लिस्बन में यूएन महासागर सम्मेलन के मौक़े पर, युवा जलवायु पैरोकारों के साथ. (26 जून 2022)
UN Photo/Eskinder Debebe

युवजन ऐसी पीढ़ी जो हमारे महासागर और भविष्य की रक्षा करेगी, यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने रविवार को कहा है कि दुनिया को महासागर के स्वास्थ्य में नाटकीय गिरावट को रोकने के लिये और ज़्यादा कार्रवाई करनी होगी. उन्होंने पुर्तगाल के कारकेवेलॉस में यूएन युवजन व नवाचार फ़ोरम के लिये एकत्र युवजन से आगे आने का आग्रह भी किया क्योंकि उनकी पीढ़ी के नेतृत्वकर्ताओं की बढ़त बहुत धीमी रही है.