लड़ाई

यमन: गृह युद्ध जल्दी ख़त्म होने के आसार नहीं नज़र आते

मध्य पूर्व क्षेत्र के लिये संयुक्त राष्ट्र के एक वरिष्ठ अधिकारी ख़ालेद ख़ैरी ने सोमवार को सुरक्षा परिषद को बताया है कि यमन में, सम्बद्ध पक्षों के बीच, गृहयुद्ध समाप्त करने के लिये किसी राजनैतिक समझौते पर कोई सहमति नहीं बन सकी है. ध्यान रहे कि यमन में, गृहयुद्ध सातवें वर्ष में दाख़िल हो गया है.

टीगरे में लाखों प्रभावितों तक सहायता पहुँचाने के लिये निर्बाध पहुँच की दरकार

संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने इथियोपिया के युद्धग्रस्त इलाक़े टीगरे में सहायता अभियान फिर से शुरू कर दिये हैं. उस क्षेत्र में पिछले सप्ताह लड़ाई भड़कने के बाद सहायता अभियान रोकने पड़े थे, हालाँकि यूएन एजेंसी ने शुक्रवार को आगाह भी किया है कि वहाँ सम्पूर्ण मानवीय सहायता कार्य करने के रास्ते में “गम्भीर चुनौतियाँ” दरपेश हैं.

यूनीसेफ़ की चेतावनी, फ़िलहाल टीगरे में संकट का कोई अन्त नज़र नहीं आ रहा

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने मंगलवार को कहा है कि इथियोपिया के टीगरे क्षेत्र में, लगभग छह महीने पहले संघर्ष छिड़ने के बाद, बड़े पैमाने पर आम लोगों का उत्पीड़न किये जाने की, बहुत परेशान करने वाली ख़बरें लगातार आ रही हैं.

कोविड के कारण, बच्चों को संघर्षों में इस्तेमाल करने के ख़तरे को मिला ईंधन

संयुक्त राष्ट्र और योरोपीय संघ के वरिष्ठ अधिकारियों ने चिन्ता व्यक्त करते हुए कहा है कि बच्चों के कोरोनावायरस महामारी के प्रभाव के कारण, सशस्त्र गुटों और सशस्त्र बलों के हत्थे चढ़ जाने का जोखिम और भी ज़्यादा बढ़ गया है. शुक्रवार, 12 फ़रवरी को मनाए जाने वाले, 'बाल सैनिकों के इस्तेमाल के विरुद्ध अन्तरराष्ट्रीय दिवस' पर, ये चिन्ता व्यक्त की गई है.

यमन: अदन हवाई अड्डे पर हुए हमले की तीखी भर्त्सना

यमन के लिये संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने बुधवार को अदन हवाई अड्डे पर हुए घातक हमले की तीखी भर्त्सना की है. इस हमले में कम से कम 26 लोगों के मारे जाने, और 50 से ज़्यादा के घायल होने की ख़बरें हैं.

यमन: 'अन्धाधुन्ध मानवाधिकार उल्लंघन, युद्धापराध के दायरे में आ सकते हैं'

संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञों ने सुरक्षा परिषद और व्यापक अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से युद्धग्रस्त देश यमन में मानवाधिकार उल्लंघन के अतार्किक और निर्बाध उल्लंघन के मामलों पर यह कहते हुए रोक लगाने का आहवान किया है कि अत्याचारों ने पूरे देश को अपनी चपेट में ले लिया है.