लैंगिक समानता

महासागर संरक्षण में महिलाओं की बड़ी भूमिका

विश्व महासागर दिवस पर जारी अपने संदेश में संयुक्त राष्ट्र शैक्षिक, वैज्ञानिक तथा सांस्कृतिक संगठन (UNESCO) की प्रमुख ऑड्री अज़ोले ने कहा है कि महासागरों के संरक्षण के लिए कार्रवाई के हर स्तर पर “हमें विविधता और लैंगिक समावेशन सुनिश्चित करना चाहिए.” इससे महासागरों को बचाने में अभिनव समाधानों को बढ़ावा देने में मदद मिलेगी.

लैंगिक समानता पर 'उत्कृष्ट' कार्य के लिए ब्राज़ीलियाई शांतिरक्षक को सम्मान

मध्य अफ़्रीका गणराज्य में लैंगिक मुद्दों पर सलाहकारों और संपर्क बिंदुओं के नेटवर्क को तैयार करने में अहम भूमिका निभाने वालीं ब्राज़ील की एक यूएन शांतिरक्षक को विशेष पुरस्कार के लिए चुना गया है. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, नौसेना अधिकारी लेफ़्टिनेंट कमांडर मार्सिया अंड्राजे ब्रागा को 'यूएन मिलिट्री जेंडर एडवोकेट ऑफ़ द इयर' अवॉर्ड से सम्मानित करेंगे.

'राजनीतिक ताक़त में कमी' झेल रही हैं महिलाएं

संयुक्त राष्ट्र महासभा की अध्यक्ष मारिया फ़र्नान्डा एस्पिनोसा ने कहा है कि दुनिया भर में महिलाओं को मिलने वाली राजनीतिक भागीदारी की प्रक्रिया में प्रगति का चक्र हाल के सालों में पीछे खिसक रहा है. न्यूयॉर्क में  महिलाओं की स्थिति पर आयोग के 63वें सत्र के दौरान सत्ता में महिलाओं की भागीदारी विषय पर चर्चा हुई. 

महिला अधिकारों पर वार्षिक बैठक में बुनियादी सेवाओं पर ज़ोर

लैंगिक समानता और महिला अधिकारों पर चर्चा के नज़रिए से अहम 'कमीशन ऑन द स्टेट्स ऑफ़ वीमेन' का 63वां सत्र न्यूयॉर्क में शुरू हो गया है. पहले दिन हुई चर्चा में महिलाओं और लड़कियों को ज़रूरत पर आधारित और मानवाधिकारों के अनुरूप, मूलभूत सामाजिक सुरक्षा मुहैया कराने की अपील की गई है.

'ऐतिहासिक अन्यायों को चुनौती देनी होगी'

निर्णय लेने वाले पदों पर महिलाओं की संख्या बढ़ाना बेहद ज़रूरी है और सदियों से चले आ रहे अन्यायों को रोकना भी. अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2019 के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने बताया कि यूएन में वरिष्ठ पदों पर लैंगिक बराबरी हासिल करने में सफलता मिली है. 

'वैश्विक प्रगति के लिए अहम है' महिला सशक्तिकरण

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर अपने संदेश में कहा है कि महिला सशक्तिकरण और लैंगिक समानता, वैश्विक प्रगति के लिए आवश्यक हैं.  महिलाओं और लड़कियों द्वारा किए जाने वाले अभिनव प्रयास लैंगिक समानता हासिल करने के लक्ष्य में बड़ी भूमिका निभा सकते हैं. 

अभिनव प्रयासों से खुल सकता है समानता का रास्ता

इस वर्ष अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस की विषय वस्तु “समान सोचें, स्मार्ट बनाएं, बदलाव के लिए अन्वेषण (इनोवेशन) करें” है. दुपहिया साइकिल से लेकर इंटरनेट तक, ऐसे कई साधनों ने महिलाओं के जीवन में बड़ा बदलाव लाने में अहम भूमिका निभाई है.  

टिकाऊ विकास लक्ष्य-5: लैंगिक समानता

लैंगिक असमानता, मानव इतिहास में अन्‍याय का एक सबसे निरन्‍तर और व्‍यापक रूप है. महिलाओं और लड़कियों को शिक्षा, स्वास्थ्य, कामकाज और राजनीतिक और आर्थिक प्रक्रिया में समान प्रतिनिधित्व दुनिया में बड़ा बदलाव लाने में अहम भूमिका निभा सकता है.  2030 टिकाऊ विकास एजेंडे का पांचवा लक्ष्य  महिलाओं के प्रति हर तरह के भेदभाव और हिंसा का अंत करने तथा उन्हें आर्थिक संसाधनों पर समान अधिकार सुनिश्चित करने पर केंद्रित है. 

 

मानवाधिकारों को चुनौतियां कई लेकिन उम्मीद कायम

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मानवाधिकार परिषद को संबोधित करते हुए कहा है कि दुनिया के कई हिस्सों में आम जन के अधिकार ख़तरे में हैं. इसके बावजूद उन्होंने आशा का दामन नहीं छोड़ा है क्योंकि सामाजिक न्याय के लिए हो रहे सशक्त आंदोलन प्रगति लाने में सफल भी हो रहे हैं. 

बहुपक्षवाद को बढ़ावा देने पर ही आधारित है यूएन का काम

संयुक्त राष्ट्र महासभा की अध्यक्ष मारिया फ़र्नान्डो एस्पिनोसा ने कहा है कि दुनिया में बहुपक्षीय और क़ानून आधारित व्यवस्था तभी मज़बूत बन सकती है जब यूएन में नई ऊर्जा का संचार किया जाए. सदस्य देशों को अपनी प्राथमिकताओं के बारे में जानकारी देते हुए उन्होंने कि यही उनकी पहली प्राथमिकता है.