लेबनान

लेबनान में यूनीसेफ़ कर्मचारी हैज़ा से बचाव के लिये स्थानीय स्तर पर जागरूकता प्रसार अभियान में जुटे हैं.
© UNICEF/Fouad Choufany

लेबनान में हैज़ा संक्रमण का प्रकोप, WHO ने किया सावधान

लेबनान में पिछले तीन दशकों में पहली बार हैज़ा का प्रकोप सामने आया है और ये बीमारी तेज़ी से पूरे देश में फैल रही है. विश्व स्वास्थ्य संगठन - WHO) ने मंगलवार को आगाह किया है कि देश में अब तक एक हज़ार 400 से अधिक मामलों की पुष्टि हो चुकी है और 17 लोगों की मौत हुई है.

भूमध्य सागर में, सीरिया का एक तटीय शहर - तारतूस.
© Unsplash/Ali Ahmed

सीरिया तट के निकट नाव डूबने से, कम से कम 70 लोगों की मौत

संयुक्त राष्ट्र के विभिन्न एजेंसियों के प्रमुखों ने कहा है कि ख़बरों के अनुसार, भूमध्य सागर में सीरिया तट के निकट, एक अन्य नाव डूबने से, 71 प्रवासियों के शव बरामद किये गए हैं. उन्होंने इस घटना को “बिल्कुल त्रासद” क़रार देते हुए, एक ऐसी अन्तरराष्ट्रीय कार्रवाई की मांग की जिसमें अपना घर छोड़ने वाले लोगों की परिस्थितियों को बेहतर बनाने के प्रयास शामिल हों.

लेफ्टिनेंट कर्नल चंदन सिंह लेबनान (UNIFIL) में संयुक्त राष्ट्र अंतरिम बल के एकमात्र पशु चिकित्सक हैं और उनकी सेवाओं की अत्यधिक मांग है.
यूनिफिल

लेबनान: एक भारतीय शान्तिरक्षक की सेवाओं की वृहद मांग

लेबनान में संयुक्त राष्ट्र के अन्तरिम बल (UNIFIL) में सेवारत भारत के एक शान्तिरक्षक लैफ़्टिनैण्ट कर्नल चन्दन सिंह वहाँ एकमात्र पशु चिकित्सक हैं और उनकी सेवाओं की वृहद मांग है.

यूएन महासचिव ने लेबनान की राजधानी बेरूत के बन्दरगाह पर जाकर, विस्फोट पीड़ितों को अपने श्रृद्धासुमन अर्पित किये.
UN Photo/Eskinder Debebe

बेरूत विस्फोट की अन्तरराष्ट्रीय जाँच कराने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने जिनीवा स्थित मानवाधिकार परिषद से, दो वर्ष पहले लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण विस्फोट की अन्तरारष्ट्रीय जाँच कराने की मांग की है ताकि उस विस्फोट में हताहत हुए लोगों के लिये न्याय सुनिश्चित किया जा सके.

काला सागर अनाज निर्यात के तहत, यू्क्रेन के अनाज का लगभग 26 हज़ार टन भण्डार लेकर पहला जहाज़ को, लेबनान में अपनी की तरफ़ बढ़ने के लिये मंज़िल के लिये, हरी झण्डी मिल गई है.
© UNOCHA

यूक्रेन के अनाज निर्यात जहाज़ - रज़ोनी को मंज़िल के लिये हरी झण्डी

काला सागर अनाज निर्यात समझौते के अन्तर्गत यूक्रेन का लगभग 26 टन अनाज लेकर रवाना हुआ – रज़ोनी नामक व्यासायिक जहाज़, तुर्की के इस्तान्बूल में निर्धारित निरीक्षण के लिये कुछ समय रुकने के बाद, बुधवार को अपनी मंज़िल लेबनान के लिये रवाना हो गया है.

लेबनान में हर 10 में से नौ सीरियाई शरणार्थी अत्यधिक निर्धनता में जीवन गुज़ार रहे हैं.
© WFP/Edmond Khoury

लेबनान: स्थानीय परिवारों व शरणार्थियों की सहायता के लिये 3.2 अरब डॉलर की योजना

लेबनान की सरकार, संयुक्त राष्ट्र और साझीदार संगठनों ने सोमवार को देश में मौजूदा आर्थिक संकट और पड़ोसी देश सीरिया में गृहयुद्ध के दुष्प्रभावों से निपटने के लिये, तीन अरब 20 करोड़ डॉलर की सहायता अपील जारी की है.

लेबनान में अभूतपूर्व संकट के कारण बड़ी संख्या में परिवार अपनी बुनियादी ज़रूरतों को भी पूरा नहीं कर पा रहे हैं.
© UNICEF/Fouad Choufany

लेबनान: बदहाल सामाजिक-आर्थिक हालात, 'नाज़ुक डोर से बंधा' आम लोगों का जीवन

लेबनान में संयुक्त राष्ट्र की रैज़ीडेण्ट कोऑर्डिनेटर और मानवीय राहत मामलों की समन्वयक नजत रोश्दी ने कहा है कि स्थानीय आबादी की आजीविकाएँ बर्बाद व आशाएँ धूमिल हो चुकी हैं और देश एक नाज़ुक डोर से लटक रहा है. उन्होंने देश के समक्ष मौजूद चुनौतियों के मद्देनज़र और बिगड़ती स्थिति से निपटने के लिये, आपात राहत योजना की अवधि बढ़ाए जाने की घोषणा की है.  

लेबनान में संसदीय चुनाव के दौरान एक मतदान केंद्र.
Boutros Frangieh

लेबनान: समावेशी सरकार के तुरन्त गठन का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने लेबनान में रविवार को हुए संसदीय चुनावों के बाद, देश के राजनैतिक नेताओं से तत्काल एक समावेशी सरकार गठित किये जाने की अपील की है. यूएन प्रमुख ने कहा है कि सरकार गठन से, संकटों में घिरे देश में सुधारों को लागू कर पाना और पुनर्बहाली के मार्ग पर आगे बढ़ पाना सम्भव होगा.

लेबनान के दक्षिणी हिस्से में, घाना की महिला शान्तिरक्षक, एक गश्त पर जाने के लिये निकलते हुए.
UNIFIL

यूनीफ़िल: शान्तिरक्षा में लैंगिक सम्वेदनशीलता को बढ़ावा

लेबनान में संयुक्त राष्ट्र का अन्तरिम बल (UNIFIL  यूनीफ़िल मिशन), लैंगिक सम्वेदनशील आवास मुहैया कराने और वहाँ तैनात महिला शान्ति रक्षकों के लिये बेहतर कामकाजी हालात बनाने में संसाधन निवेश के ज़रिये, एक नई पहल का लाभ उठाकर, संयुक्त राष्ट्र का इस तरह का पहला शान्तिरक्षा मिशन बनने की राह पर है.

लेबनान में संकट के कारण बच्चे स्कूली पढ़ाई बीच में ही छोड़ने के लिये मजबूर हो रहे हैं.
© UNICEF

लेबनान: संकट छीन रहा है - युवाओं से उनका भविष्य - UNICEF 

लेबनान में हर दस में चार युवाओं को पिछले एक साल की अवधि के दौरान, भोजन, दवा और अन्य आवश्यकताओं को पूरा करने के लिये, शिक्षा पर अपने ख़र्च में कटौती करनी पड़ी है. क़रीब एक-तिहाई युवा अपनी पढ़ाई पूरी तरह से छोड़ने के लिये मजबूर हुए हैं.