कोरोना वायरस

कोविड-19: अफ़्रीका में संक्रमण मामलों व मृतक संख्या में तेज़ उछाल

अफ़्रीकी देशों में कोविड-19 महामारी के संक्रमण मामलों और उससे हो रही मौतों की संख्या में तीव्र गति से बढ़ोत्तरी दर्ज की गई है. अफ़्रीका में यूएन स्वास्थ्य एजेंसी के क्षेत्रीय कार्यालय के मुताबिक़ सप्ताह-दर-सप्ताह आधार पर 43 प्रतिशत ज़्यादा मौतें हुई हैं और देशों को ऑक्सीजन व गहन देखभाल के लिये बिस्तरों की क़िल्लत से जूझना पड़ रहा है. 

महामारी का एक और असर, बाल टीकाकरण में गिरावट

संयुक्त राष्ट्र की दो एजेंसियों ने कहा है कि कोविड-19 महामारी ने बच्चों को विभिन्न बीमारियों से बचाने के लिये बचपने में किये जाने वाले टीकाकरण को दरकिनार कर दिया है और वर्ष 2020 के दौरान दुनिया भर में लगभग 2 करोड़ 30 लाख बच्चे नियमित टीकाकरण से वंचित रह गए.

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 9 जुलाई 2021

9 जुलाई 2021 के साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

ऑडियो -
9'58"

कोविड-19: डेल्टा वेरिएंट ने 98 देशों में दी दस्तक, ‘ख़तरनाक’ पड़ाव पर दुनिया 

विश्व स्वास्थ्य संगठन के महानिदेशक टैड्रॉस एडेहनॉम घेबरेयेसस ने आगाह किया है कि कोरोनावायरस के डेल्टा नामक वेरिएंट के मामले अब अनेक देशों में तेज़ी से बढ़ रहे हैं और महामारी के विरुद्ध लड़ाई में दुनिया अब एक ख़तरनाक दौर में प्रवेश कर रही है. उन्होंने टीकाकरण प्रयासों में तेज़ी लाये जाने की पुकार लगाई है. 

कोविड-19: डेल्टा वेरिएंट की चपेट में अफ़्रीका, योरोपीय देशों पर भी मंडराता ख़तरा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने चिन्ता जताते हए कहा है कि अफ़्रीका में हर तीन सप्ताह में कोविड-19 संक्रमण के मामलों की संख्या दोगुनी हो रही है. वायरस का डेल्टा नामक एक प्रकार (वेरिएंट) अब तक 16 देशों में फैल चुका है और सबसे ज़्यादा संक्रमण संख्या वाले पाँच में से तीन देशों में मौजूद है.

कोविड-19: WHO ने तेज़ी से फैल रहे 'डेल्टा' वेरिएंट पर जताई चिन्ता

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने अनेक देशों में ज़्यादा तेज़ी से फैलने वाले कोविड-19 के डेल्टा वेरिएंट (प्रकार) के बढ़ते प्रकोप पर चिन्ता जताई है. यूएन एजेंसी ने आगाह किया है कि इन नए प्रकारों को उभरने से रोकने के लिये वायरस फैलाव पर क़ाबू पाना ज़रूरी है.

कोविड-19: बचाव उपायों के कारगर पालन का अभाव, वायरस के लिये फैलने का मौक़ा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि कोविड-19 महामारी के 18 महीने बीत जाने के बावजूद, सार्वजनिक स्वास्थ्य और सामाजिक उपायों का असरदार ढँग से इस्तेमाल नहीं किया जा रहा है.

कोविड-19: लगातार सातवें हफ़्ते संक्रमण मामलों में गिरावट दर्ज

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि पिछले सात हफ़्तों से कोरोनावायरस संक्रमण के मामलों में लगातार गिरावट दर्ज की गई है, हालांकि मृतक संख्या में गिरावट की रफ़्तार कम है. डेढ़ वर्ष में वैश्विक महामारी के दौरान यह पहली बार है जब इतनी लम्बी अवधि तक संक्रमितों की संख्या में कमी नज़र आई है. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी ने जी-7 समूह के देशों द्वारा वैक्सीन को साझा किये जाने की घोषणा का स्वागत किया है, मगर दोहराया है कि इन ख़ुराकों को जल्द से जल्द वितरित किया जाना होगा.

 

कोविड-19: महामारी के दो अलग-अलग रास्ते, वैक्सीन विषमता चिन्ताजनक

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने क्षोभ ज़ाहिर करते हुए कहा है कि टीकाकारण की ऊँची दर वाले देशों में पाबन्दियों को हटाने की तैयारी हो रही है, जबकि बहुत से देशों में ख़तरनाक हालात बरक़रार हैं. कोविड-19 वैक्सीन के वितरण में पसरी विसंगति के कारण संक्रमण का फैलाव जारी है, और इन हालात में वायरस का एक ऐसा रूप उभरने का जोखिम भी बढ़ रहा है जो अब तक के उपचारों को बेअसर बना सकता है.

महामारी की चपेट में एशिया-प्रशान्त - 'तत्काल, मज़बूत समर्थन की दरकार'

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) ने सचेत किया है कि एशिया-प्रशान्त क्षेत्र में कोविड-19 महामारी के फैलाव के बीच कोरोनावायरस वैक्सीन की क़िल्लत है, जिसके लिये आपूर्ति को बेहतर बनाया जाना होगा. इसके मद्देनज़र, कोविड-19 वैक्सीन की न्यायसंगत सुलभता के लिये स्थापित की गई, 'कोवैक्स' पहल को तत्काल, मज़बूत समर्थन प्रदान किये जाने का आहवान किया गया है. साथ ही, टीकाकरण मुहिम के दौरान, शरणार्थियों व शरण की तलाश कर रहे लोगों का ख़याल रखने की बात कही गई है.