कोरोनावायरस

भारत के ओडीसा प्रदेश में, कोविड-19 की वैक्सीन का टीका लगाए जाते हुए.
© UNICEF/Priyanka Parashar

कोविड-19: 2022 में 10 लाख मौतों का 'त्रासद पड़ाव'

विश्व स्वास्थ्य संगठन – WHO के मुखिया डॉक्टर टैड्रॉस ऐडहेनॉम घेबरेयेसेस ने गुरूवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी से वर्ष 2022 के दौरान अब तक दस लाख लोगों की मौत हो चुकी है – जोकि एक त्रासद पड़ाव है और इसमें से, इस त्रासदी में से, ज़्यादा से ज़्यादा लोगों को इसकी वैक्सीन का टीका लगाने का रास्ता निकलना चाहिये.

यूक्रेन की राजधानी कीयेव में एक स्वास्थ्यकर्मी निजी बचाव परिधान व उपकरणों (PPE) के साथ.
© UNICEF/Evgeniy Maloletka

कोविड-19 की टीकाकरण रणनीति में, स्वास्थ्यकर्मियों और वृद्धजन को प्राथमिकता देने के लिये संशोधन

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को कहा है कि कोविड-19 से निपटने की वैक्सीन का दुनिया भर में टीकाकरण होना वैसे तो, इतिहास में सबसे त्वरित गति का अभियान रहा है, मगर अब भी दुनिया भर में बहुत से लोग, इस बीमारी के जोखिम से महफ़ूज़ नहीं हैं. संगठन ने शुक्रवार को एक संशोधित टीकाकरण रणनीति की घोषणा भी की है.

न्यूयॉर्क सिटी के मैनहैटन इलाक़े की एक व्यस्त सड़क लोगों की भीड़
Unsplash/Yoav Aziz

कोविड-19: वायरस का अब भी मुक्त फैलाव, महामारी ख़त्म होने से अभी बहुत दूर

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के मुखिया डॉक्टर टैड्रॉस ऐडहेनॉम घेबरेयेसस ने मंगलवार को कहा है कि कोविड-19 के बढ़ते मामलों से, पहले से कठिनाइयों का सामना कर रही स्वास्थ्य प्रणालियों और कर्मचारियों पर ना केवल और ज़्यादा दबाव बढ़ रहा है, बल्कि “मौतों का बढ़ता रुझान” भी पनप रहा है.

यूगाण्डा में एक स्वास्थ्य केन्द्र पर, एक नर्स एक महिला को कोविड वैक्सीन का टीका लगाते हुए.
© UNICEF/Zahara Abdul

कोविड-19: बीए.4 और बीए.5 वैरिएण्ट्स के कारण संक्रमण मामलों में 20% वृद्धि

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख ने कहा है कि लगभग 110 देशों में कोविड-19 संक्रमण के मामले फिर से उभार पर हैं जिनके लिये BA.4 और BA.5 वैरिएण्ट ज़िम्मेदार हैं. ये संक्रमण वृद्धि कुल मिलाकर 20 प्रतिशत तक दर्ज की गई है, और विश्व के छह में से तीन क्षेत्रों में मौतों की संख्या में भी वृद्धि दर्ज की गई है.

इण्डोनेशिया के सिकारांग में एक इलैक्ट्रॉनिक्स फ़ैक्टरी में काम करते हुए एक महिला.
© ILO/Asrian Mirza

वैश्विक रोज़गार व कामकाज पुनर्बहाली, पीछे की ओर पलटी, ILO

संयुक्त राष्ट्र की श्रम एजेंसी (ILO) ने सोमवार को कहा है कि दुनिया भर में रोज़गार और कामकाज बाज़ार में पुनर्बहाली पीछे की और जा रही है जिसके लिये कोविड-19 और अन्य अनेक तरह के संकट ज़िम्मेदार हैं जिन्होंने देशों के भीतर और देशों के बीच, विषमताएँ बढ़ा दी हैं.

युगाण्डा के कम्पाला शहर का एक दृश्य.
IMF/Esther Ruth Mbabazi

कोरोनावायरस के नए रूप व प्रकारों को नज़रअन्दाज़ नहीं करने की चेतावनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने आगाह किया है कि विश्व भर में कोविड-19 संक्रमण मामलों और मृतक संख्या में आई कमी का अर्थ यह नहीं है कि वैश्विक महामारी का जोखिम कम हो गया है. 

कोलम्बिया के एक इलाक़े में कोविड-19 से बचाव के लिये टीकाकरण टीम.
PAHO/Nadege Mazars

कोविड-19 संक्रमण की नई लहर का मतलब, महामारी अभी ख़त्म होने से दूर है

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार को कहा है कि देशों और दवा बनाने वाली कम्पनीयों को, सर्वजन को, सर्वत्र वैक्सीन मुहैया कराने के लिये, बेहतर रूप में मिलजुल कर काम करना होगा, ऐसा केवल धनी देशों में करने से काम नहीं चलेगा.

भारत के राजस्थान प्रदेश में एक महिला मास्क पहनते हुए.
© UNICEF/Vinay Panjwani

कोविड-19: एक तिहाई दुनिया अभी पहले टीके से भी वंचित

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के प्रमुख ने बुधवार को कहा है कि दुनिया भर की लगभग एक तिहाई आबादी को अभी कोविड-19 से बचाव की वैक्सीन का पहला टीका भी नहीं लगा है जिसमें तमाम अफ़्रीका की लगभग 83 प्रतिशत आबादी भी शामिल है, जोकि चौंका देने वाली संख्या है.