वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

कॉप15

मिस्र के शर्म अल-शेख़ में कॉप27 जलवायु सम्मेलन के दौरान, प्रदर्शनकारी मुआवज़े की माँग कर रहे हैं.
UN News/Laura Quinones

2022 पर एक नज़र: वैश्विक उथलपुथल के बीच, जलवायु समझौतों के लिये यूएन के अनवरत प्रयास

विनाशकारी चरम मौसम घटनाओं के लिये मानव गतिविधियों के ज़िम्मेदार होने के ठोस साक्ष्यों के बावजूद, ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जनों में वृद्धि इस वर्ष भी जारी रही. संयुक्त राष्ट्र ने गहराते जलवायु संकट के मद्देनज़र, पर्यावरण संरक्षण को अन्तरराष्ट्रीय एजेंडा में ऊपर रखा, और महत्वपूर्ण सम्मेलनों के दौरान, वित्त पोषण, जैवविविधता व महासागरों की रक्षा के लिये प्रयासों को मज़बूती देने पर सहमति बनी.

तोते मुख्यत: उष्णकटिबंधीय और उप-उष्णकटिबंधीय क्षेत्रों में पाए जाते हैं.
Unsplash/Roberto Nickson

यूएन सम्मेलन: 30 फ़ीसदी वैश्विक जैवविविधता के सरंक्षण के लिये ‘ऐतिहासिक समझौता’

कैनेडा के माँट्रियाल में संयुक्त राष्ट्र जैवविविधता सम्मेलन (कॉप15) के समापन पर एक महत्वपूर्ण समझौते पर सहमति बनी है, जोकि इस दशक के अन्त तक विश्व में 30 प्रतिशत भूमि, तटीय इलाक़ों और अन्तर्देशीय जलक्षेत्र के संरक्षण पर लक्षित है.

ज़ाम्बिया में कुछ महिलाएँ एक हरित केन्द्र में काम कर रही हैं, जिसे सब्ज़ियों की उत्पादन क्षमता को बढ़ाने के लिये बनाया गया है. (फ़ाइल 2015)
ILO/Marcel Crozet

प्रकृति-आधारित समाधानों के लिये न्यायसंगत नीतियाँ, दो करोड़ रोज़गारों का सृजन सम्भव

संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट के अनुसार, प्रकृति को समर्थन देने और जलवायु परिवर्तन, आपदा जोखिम, खाद्य असुरक्षा व अन्य विशाल चुनौतियों से निपटने पर केन्द्रित नीतियों में निवेश के माध्यम से, दो करोड़ रोज़गार सृजित किये जा सकते हैं.

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश (दाएँ) कैनेडा के माँट्रियाल में जैवविविधता को समर्पित एक संग्रहालय में प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रडो के साथ.
UN Photo/Evan Schneider

प्रकृति संरक्षण के लिये, देशों व व्यवसायों से मज़बूत कार्रवाई का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने सचेत किया है कि प्रकृति की कारगर ढँग से रक्षा सुनिश्चित करने के लिये सरकारों और निजी सैक्टर को सक्रिय प्रयास करने होंगे. यूएन प्रमुख ने कैनेडा के माँट्रियाल शहर में यूएन जैवविविधिता सम्मेलन (कॉप15) के दौरान बुधवार को पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए यह बात कही है.

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, कैनेडा के माँट्रियाल में यूएन जैव विविधता सम्मेलन कॉप15 में, युवाओं के साथ बातचीत करते हुए.
UN Photo/Evan Schneider

कॉप15: युवजन का नेतृत्व और न्याय की चाहत, ‘आशा के सर्वश्रेष्ठ संकेत’

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने मौजूदा वैश्विक वित्तीय व्यवस्था को, नैतिक दीवालिया क़रार देते हुए इसकी आलोचना की है और कैनेडा के माँट्रियाल में, यूएन जैवविविधता सम्मेलन कॉप15 के लिए एकत्र युवजन से, न्याय की ख़ातिर आगे बढ़ने की पुकार लगाई है, ताकि तमाम देश, विशेष रूप से विकासशील दुनिया को, जैव विविधता हानि को रोकने और इनसानों व प्रकृति के दरम्यान सन्तुलन बहाल करने के लिए दरकार उपकरण हासिल हो सकें.

बोलिविया के लगूना कोलोराडा में फ़्लैमिन्गोज़.
Unsplash/Tobias Jelskov

‘प्रकृति के बिना, हमारे पास कुछ भी नहीं’: यूएन जैवविविधता सम्मेलन - कॉप15 में यूएन प्रमुख की चेतावनी

जैवविविधता पर संयुक्त राष्ट्र का महत्वपूर्ण सम्मेलन (कॉप15) मंगलवार को कैनेडा के माँट्रियाल शहर में आरम्भ हुआ है, जहाँ वार्ताकार मानवीय गतिविधियों के कारण प्रकृति के चिन्ताजनक विध्वंस पर लगाम कसने के लिये नए लक्ष्य स्थापित करने पर ध्यान केन्द्रित करेंगे.यूएन प्रमुख ने जैवविविधता की रक्षा के लिये तीन अहम उपायों पर बल देते हुए आगाह किया है कि प्रकृति के बिना, मानवता के पास कुछ भी नहीं है.

पेरू के पुएर्तो माल्दोनादो में एक जंगल.
CIFOR/Marco Simola

प्रकृति के साथ समरसतापूर्ण जीवन और जैवविविधता संरक्षण के लिये संकल्प

चीन के कुनमिंग में आयोजित ‘संयुक्त राष्ट्र जैवविविधता सम्मेलन’ (कॉप15) के उच्चस्तरीय खण्ड के समापन पर कुनमिंग घोषणापत्र को पारित किया गया है. इस घोषणापत्र में सम्बद्ध पक्षों ने एक कारगर वैश्विक फ़्रेमवर्क को विकसित, पारित और लागू करने की प्रतिबद्धता व्यक्त की है, जिसका लक्ष्य वर्ष 2030 तक जैवविविधता को पुनर्बहाली मार्ग पर वापिस लाना है.