जलवायु कार्रवाई

जलवायु परिवर्तन लक्ष्य प्राप्ति और जीवाश्म ईंधन उत्पादन योजनाओं के बीच गहरी खाई

संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP) और साझीदार संगठनों ने कहा है कि जलवायु महत्वाकांक्षा में बढ़ोत्तरी और कार्बन तटस्थता संकल्पों के बावजूद, देशों की सरकारें, जीवाश्म ईंधन उत्पादन, वैश्विक तापमान में बढ़ोत्तरी का लक्ष्य 1.5 डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने के लिये, ज़रूरी मात्रा से दोगुनी मात्रा में उत्पादन की योजनाओं पर काम कर रही हैं. बुधवार को जारी एक नई रिपोर्ट में यह निष्कर्ष सामने आया है. 

विश्व खाद्य दिवस: खाद्य प्रणालियों में जीवनरक्षक, रूपान्तरकारी बदलावों की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शनिवार, 16 अक्टूबर, को ‘विश्व खाद्य दिवस’ के अवसर पर जारी अपने सन्देश में, टिकाऊ विकास लक्ष्यों की प्राप्ति के लिये, खाद्य प्रणालियों में परिवर्तनशील कार्रवाई की पुकार लगाई है. उन्होंने कहा है कि इन बदलावों के ज़रिये सर्वजन के लिये बेहतर पोषण, बेहतर पर्यावरण और हर इनसान के लिये एक बेहतर ज़िन्दगी सुनिश्चित किये जा सकते हैं.

जलवायु परिवर्तन का सामना करने में व्यापार की अहम भूमिका – नई रिपोर्ट

संयुक्त राष्ट्र की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि एशिया-प्रशान्त क्षेत्र में स्थित देशों की अर्थव्यवस्थाओं को तत्काल ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जनों में कटौती करने की ज़रूरत है. ऐसा करना, सीमाओं पर कार्बन टैक्स में बढ़ोत्तरी की सम्भावना के मद्देनज़र, व्यापार प्रतिस्पर्धात्मकता बनाए रखने के नज़रिये से अहम होगा. 

व्यापार एवँ विकास पर यूएन सम्मेलन – निर्बल देशों के लिये समर्थन बढ़ाने का आहवान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने व्यापार एवँ विकास पर यूएन के एक सम्मेलन को सम्बोधित करते हुए, कोविड-19 से पुनर्बहाली को टिकाऊ व समावेशी बनाने पर बल दिया है. बारबेडॉस की राजधानी ब्रिजटाउन में सोमवार को 'UNCTAD15' सम्मेलन की शुरुआत हुई है जिसमें यूएन प्रमुख ने कर्ज संकट पर पार पाने के लिये चार-सूत्री कार्रवाई योजना को पेश किया है. 

बहुपक्षवाद है साझा चुनौतियों से निपटने का एकमात्र रास्ता – यूएन महासभा प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासभा प्रमुख अब्दुल्ला शाहिद ने महासभा के 76वें सत्र के दौरान वार्षिक उच्चस्तरीय खण्ड के समापन के बाद, शुक्रवार को अपनी पहली प्रैस वार्ता में बहुपक्षवाद को साझा चुनौतियों से निपटने का एकमात्र रास्ता बताया है.

महत्वाकांक्षी जलवायु कार्रवाई के लिये 'समय बीता जा रहा है'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने यूएन के वार्षिक जलवायु सम्मेलन (कॉप26) से चन्द हफ़्ते पहले, देशों से कार्बन उत्सर्जन घटाने और जलवायु कार्रवाई के लिये वित्त पोषण सुनिश्चित करने का आहवान किया है. यूएन प्रमुख ने गुरूवार को इटली के मिलान शहर में सम्मेलन से पहले तैयारियों के तहत आयोजित मंत्रिस्तरीय बैठक को सम्बोधित करते हुए यह बात कही है.

भारत: संयुक्त राष्ट्र के साथ 17 युवा जलवायु कार्यकर्ता एकजुट

भारत में संयुक्त राष्ट्र कार्यालय ने जलवायु परिवर्तन पर स्थानीय नेतृत्व को प्रदर्शित करने के इरादे से ‘We The Change’ (‘हम ही बदलाव हैं’) नामक अपनी जलवायु मुहिम शुरू करने की घोषणा की है. इस अभियान के तहत, संयुक्त राष्ट्र के वार्षिक जलवायु सम्मेलन (कॉप26) से कुछ हफ्तों पहले,  भारत के 17 युवा जलवायु कार्यकर्ताओं द्वारा विकसित जलवायु समाधानों को रेखांकित किया जाएगा. 

सर्वजन के लिये स्वच्छ व किफ़ायती ऊर्जा - संगठित प्रयासों की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने स्वच्छ व हरित ऊर्जा भविष्य में निवेश की अहमियत पर बल देते हुए, देशों की सरकारों से अन्तरराष्ट्रीय सहयोग को मज़बूती प्रदान करने और समावेशी व न्यायोचित ऊर्जा सुलभता की दिशा में आगे बढ़ने के लिये समर्थन का आहवान किया है. 

अन्तरराष्ट्रीय शान्ति व सुरक्षा के लिये महत्वाकांक्षी जलवायु कार्रवाई की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरश ने आगाह किया है कि जलवायु त्रासदियों से विश्व का कोई भी क्षेत्र अछूता नहीं है और जलवायु परिवर्तन के दुष्प्रभावों को टालने के लिये समय तेज़ी से बीता जा रहा है. 

जलवायु कार्रवाई के लिये महत्वपूर्ण संकल्पों का स्वागत 

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने विश्व की दो सबसे बड़ी अर्थव्यवस्थाओं द्वारा, जलवायु कार्रवाई के लिये अहम संकल्प लिये जाने का स्वागत किया है. न्यूयॉर्क में यूएन महासभा के 76वें उच्चस्तरीय सत्र की जनरल डिबेट के दौरान मंगलवार को ये घोषणाएँ की गई हैं.