जल सुलभता

हेती की राजधानी पोर्त-ओ-प्रान्स का एक दृश्य.
UNDP Haiti/Borja Lopetegui Gonzalez

हेती: ईंधन संकट व हैज़ा का प्रकोप, राहत के लिये मानवीय गलियारे की अपील

संयुक्त राष्ट्र और साझीदार संगठनों ने हेती में बढ़ते संकट के बीच एक मानवीय राहत गलियारा खोले जाने का आग्रह किया है. ग़ौरतलब है कि देश में बदतर आर्थिक हालात, असुरक्षा और जानलेवा हैज़ा के प्रकोप के बीच, हथियारबन्द गुटों ने मुख्य ईंधन टर्मिनल तक जाने का रास्ता अवरुद्ध किया हुआ है.

पश्चिमोत्तर सीरिया में विस्थापितों के लिये बनाये गए शिविर में, एक बच्ची टैण्कर से जल भर रही है.
© UNICEF/Khaled Akacha

युद्ध प्रभावित देशों में स्वच्छ जल की क़िल्लत, हिंसा से ज़्यादा घातक

हिंसक संघर्ष से प्रभावित इलाक़ों में, जल आपूर्ति व साफ़-सफ़ाई सेवा केंद्रों पर हमलों और उससे जल सुलभता प्रभावित होने के कारण लाखों बच्चों के जीवन के लिये संकट पैदा हो रहा है. यह ख़तरा इन इलाक़ों में जारी हिंसा व लड़ाई से कहीं अधिक गम्भीर है. संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने मंगलवार को जारी एक नई रिपोर्ट में कड़े शब्दों में कहा है कि जल आपूर्ति पर हमला, बच्चों पर हमला है.

कॉक्सेस बाज़ार में कोविड-19 के फैलाव की रोकथाम के लिए नियमित रूप से हाथ धोने की व्यवस्था की गई है.
© UNHCR

जल और स्वच्छता के मानवाधिकारों की प्राप्ति के लिये तेज़ प्रयासों की पुकार

संयुक्त राष्ट्र ने पीने के लिये जल और साफ़-सफ़ाई की समुचित व्यवस्था को दस वर्ष पहले मानवाधिकारों के रूप में पहचान दी थी लेकिन आज भी अरबों लोगों को ये बुनियादी सेवाएँ उपलब्ध नहीं है. संयुक्त राष्ट्र के एक स्वतन्त्र मानवाधिकार विशेषज्ञ ने चेतावनी जारी करते हुए आगाह किया है कि इन ज़रूरी सेवाओं के अभाव से कोविड-19 महामारी जैसी चुनौतियाँ और बड़ी त्रासदी का सबब बन सकती हैं.