हुदायदाह

एक महिला, गम्भीर कुपोषण का शिकार अपने बच्चे को हुदायदाह के एक स्वास्थ्य केंद्र ले जा रही है.
UNICEF/Taha Almahbashi

यमन: सऊदी गठबन्धन की कार्रवाई में जान-माल का नुक़सान, हमलों की निन्दा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने शुक्रवार को, यमन में सऊदी-नेतृत्व वाले गठबन्धन द्वारा हवाई कार्रवाई किये जाने की निन्दा की है. इस हमले में विद्रोही हूथी लड़ाकों के क़ब्ज़े वाले साडा शहर में, एक हिरासत केन्द्र क्षतिग्रस्त होने से कम से कम 60 लोगों की मौत हुई है और 100 से ज़्यादा घायल हुए हैं.  

यमन में सालों से जारी लड़ाई से भारी नुक़सान हुआ है.
OCHA/Charlotte Cans

यमन में बंदियों की रिहाई से शांति की उम्मीदें जागी

लंबे समय से युद्ध और अशांति के दंश को झेल रहे यमन में हिंसा के संभावित अंत की उम्मीदें जागी हैं. रिपोर्टों के अनुसार हूती लड़ाकों ने सदभावना भरा रुख़ दर्शाते हुए 300 से ज़्यादा बंदी रिहा कर दिए हैं. यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने इस ख़बर का स्वागत करते हुए इससे दोनों पक्षों में फिर से बातचीत होने की संभावना बढ़ने की उम्मीद जताई है. 

लैफ़्टिनेंट जनरल अभिजीत गुहा संयुक्त राष्ट्र के शांति रक्षा अभियानों में अनेक पदों पर काम कर चुके हैं. वो संगठन के अभियानों में मिलिटरी सलाहकार की ज़िम्मेदारी भी निभा चुके हैं. (2012)
UN Photo/Mark Garten

लैफ़्टिनेंट जनरल अभिजीत गुहा हुदायदाह समझौते के मिशन प्रमुख नियुक्त

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने भारतीय मूल के सैन्य अधिकारी लैफ़्टिनेंट जनरल (रिटायर्ड) अभिजीत गुहा को यमन में हुदायदाह समझौते को सहायता देने वाले संयुक्त राष्ट्र के मिशन के प्रमुख नियुक्त किया है. उनकी नियुक्ति संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्ताव संख्या 2452 (2019) और 2481 (2019) के तहत की गई है. लैफ़्टिनेंट जनरल अभिजीत गुहा को री-डेप्लॉयमेंट कॉर्डिनेशन कमेटी (आरसीसी) का अध्यक्ष भी बनाया गया है.

 

यमन में ज़रूरतमंदों तक राहत पहुंचाने के काम में मुश्किलें पेश आ रही हैं.
UNHCR/Rashed Al Dubai

यमन में हिंसा का दंश झेल रहे हैं बच्चे

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) की प्रमुख हेनरिएटा फ़ोर ने कहा है कि यमन में विकट परिस्थितियों में फंसे डेढ़ करोड़ से ज़्यादा बच्चे जीवन बचाने की गुहार लगा रहे हैं. सुरक्षा परिषद में 15 सदस्य देशों को संबोधित करते हुए उन्होंने चार साल से चली आ रही लड़ाई को समाप्त करने के लिए ठोस प्रयासों की अपील की है.

यमन के अदन में ध्वस्त हो चुके शहर के मुख्य इलाक़े से गुज़रते बच्चे.
OCHA/Giles Clarke

यमन: हुदायदाह से सैनिक हटाने की योजना को मिली मंज़ूरी

यमन के मुख्य बंदरगाह शहर हुदायदाह और आस-पास के मोर्चों से सरकारी सुरक्षा बलों और हुती लड़ाकों को वापस बुलाने की योजना को दोनों पक्षों ने अपनी स्वीकृति दे दी है. यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने सुरक्षा परिषद को सचेत किया कि देश के अन्य हिस्सों में फ़िलहाल हिंसा में कमी आती दिखाई नहीं दे रही है. 

यमन में मानवीय राहत के लिए उच्चस्तरीय सम्मेलन के सिलसिले में पत्रकारों से बातचीत करते संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश.
UN Photo/Jean-Marc Ferré

यमन में मानवीय मदद के लिए 2.6 अरब डॉलर का संकल्प

यमन में जारी संकट से निपटने के लिए हो रहे प्रयासों के तहत दानदाता देशों ने मानवीय राहत अभियानों के लिए 2.6 अरब डॉलर की सहायता राशि प्रदान करने का संकल्प लिया है. यह धनराशि पिछले साल के मुक़ाबले 30 फ़ीसदी अधिक है जिससे यमन में विकट परिस्थितियों में रह रहे लाखों लोगों तक मानवीय राहत पहुंचाने के काम में मदद मिल सकेगी. 

सुरक्षा परिषद को जानकारी देते हुए यमन के लिए विशेष प्रतिनिधि मार्टिन ग्रिफ़िथ्स.
UN Photo/Loey Felipe

'यमन के प्रति आशावान होने का अवसर'

यमन सरकार और हूती विद्रोहियों में हुदायदाह पुन: तैनाती योजना के पहले चरण पर सहमति बनना दर्शाता है कि दोनों पक्ष स्टॉकहोम समझौते के लिए प्रतिबद्ध हैं. सुरक्षा परिषद को यह जानकारी देते हुए यमन के लिए यूएन महासचिव के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने बताया कि समझौते के अमलीकरण में उल्लेखनीय प्रगति हुई है. 

हुदायदाह शहर में राशन वितरण का इंतज़ार करती महिलाएं.
WFP/Marco Frattini

छह महीने में पहली बार पश्चिमी यमन में मदद पहुंची

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) को यमन में हिंसक संघर्ष से प्रभावित हज़ारों परिवारों तक राशन और अन्य राहत सामग्री पहुंचाने में सफलता मिल गई है. पिछले साल जुलाई के बाद यह पहली बार है जब लोगों को सहायता दी जा रही है जो शांति के लिए हो रहे प्रयासों का नतीजा है. 

यमन के लिए संयुक्त राष्ट्र महासचिव के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स सुरक्षा परिषद में जानकारी देते हुए.
UN Photo/Loey Felipe

'यमन शांति प्रक्रिया में ढिलाई नहीं बरत सकते'

संयुक्त राष्ट्र के विशेष दूत मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने सुरक्षा परिषद को यमन में हालात की जानकारी देते हुए बताया कि शांति स्थापना के प्रयासों के तहत स्थायी राजनीतिक सहमति बनाने  का मुश्किल काम अभी अधूरा है. उन्होंने सुरक्षा परिषद से मुख्य बंदरगाह शहर हुदायदाह में  संघर्षविराम को बनाए रखने के लिए पूरा समर्थन देने का आग्रह किया.