हिरोशिमा

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, हिरोशिमा में शान्ति स्मृति कार्यक्रम में शिरकत करते हुए.
UN Photo/Ichiro Mae

हिरोशिमा की धरती से वैश्विक परमाणु निरस्त्रीकरण की पुकार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने जापान के हिरोशिमा में परमाणु बम हमले की 77वीं वर्षगाँठ के अवसर पर, शनिवार को जापान में ही एक स्मृति कार्यक्रम में ज़ोर देकर कहा है कि परमाणु हथियारों से सम्पन्न देशों द्वारा एक परमाणु युद्ध की सम्भावना की बात कहना बिल्कुल अस्वीकार्य है.

ब्रिटेन में परमाणु हथियारों के विरुद्ध प्रदर्शन करते हुए प्रदर्शनकारी.
CND/Henry Kenyon

सीटीबीटी की 25वीं वर्षगाँठ – परमाणु हथियार मुक्त दुनिया का आहवान

व्यापक परमाणु परीक्षण प्रतिबन्ध सन्धि संगठन (CTBTO) के कार्यकारी सचिव रॉबर्ट फ़्लॉयड ने सोमवार को, सुरक्षा परिषद को सम्बोधित करते हुए कहा है कि हमारा लक्ष्य स्पष्ट है: परमाणु हथियारों का पूर्ण उन्मूलन. उन्होंने इस सन्धि के 25 वर्ष पूरे होने के अवसर पर सुरक्षा परिषद में आयोजित एक बैठक को सम्बोधित करते हुए यह बात कही है.  

जापान के नागासाकी शान्ति पार्क में, हाइपोसेण्टर स्मारक (यूएन फ़ोटो)
UN /Eskinder Debebe

नागासाकी: परमाणु निरस्त्रीकरण आवाज़ों के लिये यूएन का पूर्ण समर्थन

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने, 76 वर्ष पहले, 9 अगस्त को, जापान के नागासाकी शहर पर किये गए परमाणु हमले में जीवित बचे लोगों के शक्तिशाली अनुभवों और हौसले वाली आपबीतियों के प्रति फिर से अपना पूर्ण समर्थन व्यक्त व पुष्ट किया है. इन जीवित बचे लोगों द्वारा चलाई गई मुहिम की बदौलत ही, परमाणु शस्त्रों के ख़िलाफ़ ताक़तवर वैश्विक आन्दोलन चलाने में ठोस मदद मिली है.

परमाणु बम गिराए जाने के बाद झुलसा देने वाली आग से बचने का प्रयास करते घायल लोग.
UN Photo/Yoshito Matsushige

हिरोशिमा: परमाणु शस्त्र उन्मूलन के लिये, धीमी प्रगति पर गहरा क्षोभ

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने, एक परमाणु मुक्त विश्व की प्राप्ति में, इस विश्व संगठन के संकल्प को रेखांकित करते हुए, तमाम देशों की सरकारों से, इस लक्ष्य को एक वास्तविकता बनाने की ख़ातिर, प्रयास मज़बूत करने का आग्रह किया है. 

जापान के हिरोशिमा में, पमराणु बम गिराए जाने के बाद एक इमारकत का भयानक दृश्य. इस स्थल को बाद में, एक स्मारक के रूप में सहेजा गया है.
UN Photo/DB

परमाणु शस्त्र निषेध सन्धि हुई लागू, यूएन महासचिव ने बताया अहम पड़ाव

पिछले लगभग दो दशकों में, प्रथम बहुपक्षीय परमाणु निरस्त्रीकरण सन्धि, शुक्रवार को लागू हुई है जिसे, यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरश ने, विश्व को परमाणु शस्त्रों से मुक्त बनाने की दिशा में एक महत्वपूर्ण क़दम क़रार दिया है.

1945 में नागासाकी में हुए परमाणु बम हमले के मुख्य केन्द्र से लगभग 800 मीटर दूर तबाही का मन्ज़र. ये तस्वीर लगभग मध्य अक्टूबर 1945 की है.
UN Photo/Shigeo Hayashi

नागासाकी: जीवितों का साहस बने परमाणु हथियारों के उन्मूलन की प्रेरणा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव  एंतोनियो गुटेरेश ने जापान के नागासाकी शहर में परमाणु हमले के 75 वर्ष पूरे होने के अवसर पर हीमाकुशा लोगों के साहस और सहनशील नज़रिये की सराहना की है. उस परमाणु हमले में जीवित बचे लोगों को हीबाकुशा कहा जाता है. 

6 अगस्त 1945 को जापान के हिरोशिमा शहर में परमाणु बम हमले से तबाही हुई थी.
UN Photo/Eluchi Matsumoto

हिरोशिमा पर परमाणु हमले के 75 वर्ष – पीड़ितों ने चुना 'उम्मीद और मेलमिलाप' का मार्ग

75 वर्ष पहले 6 अगस्त 1945 को जापान के हिरोशिमा शहर में परमाणु बम हमले में जान-माल की भारी तबाही हुई थी जिससे प्रभावित हुए लोगों की स्मृति में गुरुवार को जापान में शान्ति स्मृति समारोह का आयोजन किया गया. संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने इस समारोह में पीड़ितों को श्रृद्धांजलि अर्पित की.  महासचिव ने इस अवसर पर आगाह करने के अन्दाज़ में कहा कि परमाणु शस्त्रों से सुरक्षा मज़बूत नहीं बल्कि और भी कमज़ोर होती है.

परमाणु बम गिराए जाने के बाद झुलसा देने वाली आग से बचने का प्रयास करते घायल लोग.
UN Photo/Yoshito Matsushige

विश्व को परमाणु बम के ख़तरे से बचाने की पुकार

हिरोशिमा पर परमाणु बम हमले में मारे गए लोगों को श्रृद्धांजलि देते हुए संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने ध्यान दिलाया है कि मानवता को परमाणु युद्ध की एक बड़ी क़ीमत चुकानी पड़ी है. हिरोशिमा पर बम गिराए जाने के 74 साल पूरे होने पर विश्व को परमाणु हथियारों से मुक्त करने की पुकार लगाई गई है.

UN Dan Powell

शांति का प्रतीक है परमाणु हमलों से प्रभावितों की आवाज़

  • महासचिव ने नागासाकी और हिरोशिमा परमाणु बम हमलों के प्रभावितों का हौसला बढ़ाया, कहा उनकी आवाज़ है शान्ति के लिए असल सन्देश
  • इंडोनेशिया में भूकम्प से जान-माल की भारी तबाही, हज़ारों लोगों ने घर और गाँव छोड़े
  • इसराइल द्वारा फ़लस्तीनी क्षेत्र ग़ाज़ा में ईंधन आपूर्ति पर रोक से बने आपात हालात
  • वेनेज़ुएला में राजनैतिक संकट और महंगाई के बीच बड़ी संख्या में लोग पहुँच रहे हैं ब्राज़ील
ऑडियो
11'14"