गरीबी

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 22 अक्टूबर 2021

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

यूएन प्रमुख की पुकार - आधी आबादी यानि महिलाओं को नहीं रखा जा सकता, अन्तरराष्ट्रीय शान्ति और सुरक्षा से बाहर.

तापमान वृद्धि डेढ़ डिग्री सेल्सियस तक सीमित रखने के रास्ते से बहुत भटकी हुई है दुनिया.

ऑडियो -
9'59"

सम्पूर्ण अफ़्रीका में जलवायु परिवर्तन का जोखिम बढ़ा: रिपोर्ट

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) और साझीदार संगठनों द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है कि अफ़्रीका में वर्ष 2020 के दौरान, खाद्य असुरक्षा, ग़रीबी और विस्थापन में, जलवायु परिवर्तन बहुत बड़ी हद तक ज़िम्मेदार रहा है.

एकजुट होकर करना होगा, भुखमरी का मुक़ाबला, यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि वैश्विक स्तर पर अकुशल खाद्य उत्पादन, दरअसल भुखमरी में भारी वृद्धि के साथ-साथ, कार्बन उत्सर्जन के एक तिहाई हिस्से और जैव विविधता के 80 प्रतिशत नुक़सान के लिये ज़िम्मेदार है. उन्होंने सभी देशों से टिकाऊ विकास की रफ़्तार बढ़ाने के लिये, खाद्य प्रणालियों में व्यापक बदलाव करने का आग्रह किया है.

संघर्ष, जलवायु परिवर्तन और कोविड-19 के कारण, ज़्यादा लोग भुखमरी की चपेट में

संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न एजेंसियों ने सोमवार को चेतावनी भरे शब्दों कहा है कि दुनिया भर में संघर्ष, जलवायु परिवर्तन और कोविड-19 महामारी के प्रभावों के कारण, भुखमरी आसमान छूने वाली रफ़्तार से बढ़ रही है और दुनिया भर में हर 5 में से एक यानि लगभग 20 प्रतिशत बच्चे नाटेपन के शिकार हैं. 

संकट में से अवसर: महामारी से उबरने के उपायों पर चर्चा के लिये उच्च स्तरीय यूएन फ़ोरम

दुनिया भर से अनेक देशों की सरकारों, कारोबारों और सिविल सोसायटी की हस्तियाँ, टिकाऊ विकास पर इस वर्ष के उच्च स्तरीय राजनैतिक फ़ोरम में शिरकत करने की तैयारी कर रही हैं जो मंगलवार 6 जुलाई को शुरू हो रहा है. इसमें कोविड-19 महामारी के प्रभाव से उबरने के रास्तों पर चर्चा होगी. साथ ही इस जानलेवा स्वास्थ्य संकट को एक ज़्यादा टिकाऊ वैश्विक अर्थव्यवस्था की तरफ़ प्रमुख मोड़ देने के लिये, एक अवसर में तब्दील करने पर भी बातचीत होगी.

खनिज संसाधनों से प्राप्त लाभों को सर्वजन तक पहुँचाने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि प्रकृति की रक्षा सुनिश्चित करते हुए, खनिज संसाधनों से हासिल होने वाले लाभों को, भावी पीढ़ियों और समाज में हर किसी तक पहुंचाना हमारा साझा दायित्व है. यूएन प्रमुख ने टिकाऊ विकास के लिये निष्कर्षण उद्योगों (Extractive industries) में रूपान्तरकारी बदलाव के मुद्दे पर आयोजित एक गोलमेज़ चर्चा को सम्बोधित करते हुए यह बात कही है. 

रमदान: वैश्विक महामारी से सबसे ज़्यादा प्रभावितों की मदद करने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) ने रमदान का पवित्र महीना शुरू होने के अवसर पर उन लाखों शरणार्थियों और अपने देशों के भीतर ही विस्थापित हुए लोगों को और ज़्यादा सहायता व समर्थन दिये जाने का आग्रह किया है जो कोविड-19 महामारी से, सबसे ज़्यादा प्रभावित हुए हैं.

डीआरसी: बढ़ती गम्भीर भुखमरी के हालात से आबादियाँ बेहाल

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता पदाधिकारियों ने मंगलवार को आगाह करते हुए कहा है कि काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य (डीआरसी) में भुखमरी का स्तर रिकॉर्ड ऊँचाई पर पहुँच गया है और देश में हर तीन में से एक व्यक्ति भुखमरी का सामना करने को मजबूर है.

दुनिया, 2030 एजेण्डा के मार्ग में, अहम पड़ाव पर, यूएन उप प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कहा है कि दुनिया इस समय टिकाऊ विकास एजेण्डा 2030 के लक्ष्यों को प्राप्त करने के मार्ग पर, बहुत अहम पड़ाव पर खड़ी है. यूएन उप प्रमुख ने ये बात योरोपीय संसद की उपाध्यक्ष हाएदी हउतला के साथ एक वर्चुअल वार्ता के दौरान, बुधवार को कही.

भुखमरी और कोविड-19: ताकि कोई भी पीछे न छूट जाए

भारत और मालदीव के लिये यूएन शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) मिशन के प्रमुख, ऑस्कर मुंडिया और भारत में विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) के प्रतिनिधि और देश निदेशक, बिशोउ पराजुली का मानना है कि कोविड-19 महामारी से सबक़ सीखकर, खाद्य सुरक्षा का दायरा बढ़ाना चाहिये, ताकि भविष्य में भुखमरी की महामारी से बचा जा सके.