एसडीजी

इण्टरव्यू: यूएन महासभा के 76वें सत्र के मौक़े पर, महासचिव एंतोनियो गुटेरेश

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने यूएन न्यूज़ को दिये एक विस्तृत इण्टरव्यू में अनेक मुद्दों पर बातचीत की है और विश्व नेताओं से, "बेख़याली से जागने, अपने देशों के भीतर और विदेश में अपनी राह तुरन्त बदलने, और एकजुट होने" की पुकार लगाई है. यूएन प्रमुख ने कहा है, “हमारे पास जो संस्थान हैं, उनके पास कोई शक्तियाँ नहीं हैं. और कभी-कभी जब उनके पास शक्तियाँ होती भी हैं, जैसाकि सुरक्षा परिषद के मामले में है, तो उनमें उन शक्तियों का इस्तेमाल करने की कोई ख़ास इच्छा नहीं होती है.”

इण्टरव्यू वीडियो ...

अफ़ग़ानिस्तान: यूनीसेफ़ का ज़ोर, लड़कियों को तालीम से वंचित ना रखा जाए

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने अफ़ग़ानिस्तान से मिली इन ख़बरों का स्वागत किया है कि वहाँ शनिवार से सैकण्डरी स्कूल खोले जा रहे हैं. कोविड-19 के कारण, कई महीनों से ये स्कूल बन्द थे. मगर, यूनीसेफ़ ने ज़ोर देकर ये भी कहा है कि लड़कियों को, स्कूलों से बाहर नहीं रखा जाए, यानि उन्हें भी स्कूलों में जाकर शिक्षा हासिल करने का मौक़ा दिया जाए.

यूएन महासभा का 76वाँ सत्र, पाँच प्रमुख बातें जो चर्चा में रहेंगी

संयुक्त राष्ट्र महासभा का 76वाँ सत्र, 14 सितम्बर को शुरू हो गया है, और यह 2020 के पूर्ण वर्चुअल सत्र से बहुत अलग होगा. यूएन महासभा के 76वें सत्र पर भी कोविड-19 की परछाई तो रहेगी, लेकिन यह देशों के नेताओं को (कुछ को व्यक्तिगत रूप से) सामने नज़र आ रही वैश्विक चुनौतियों को सम्बोधित करने से नहीं रोक पाएगी. यहाँ प्रस्तुत हैं ऐसे पाँच तथ्य, जो आपको 2021 की "हाइब्रिड" महासभा के बारे में जानकारी के लिये महत्वपूर्ण होंगे.

यूएन भविष्य: गुटेरेश की पुकार, विशाल सोचने की ज़रूरत

वर्ष 2020 में संयुक्त राष्ट्र की 75वीं वर्षगाँठ मनाने के दौरान, संगठन के भविष्य के बारे में प्रमुख आन्तरिक चर्चाएँ हुईं, और द्वितीय विश्व युद्ध के बाद के इसके शुरुआती दिनों से अलग, एकदम नई दिशा बनाने पर आम सहमति हुई. इन चर्चाओं का परिणाम था ‘हमारा साझा एजेण्डा’ नामक एक नई ऐतिहासिक रिपोर्ट, जिसे संयुक्त राष्ट्र महासचिव ने शुक्रवार को जारी किया है. ये एजेण्डा, वैश्विक सहयोग के भविष्य के लिये उनका दृष्टिकोण दर्शाता है.

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन 30 जुलाई 2021

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

ऑडियो -
12'1"

खाद्य प्रणालियों में बदलाव, कोविड संकट में भी आशा की किरण

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कहा है कि एक टिकाऊ और समृद्ध ग्रह तभी हासिल हो सकता है जब हम सभी एक साथ मिलकर और एकजुटता के साथ काम करें. उन्होंने एक प्रमुख वैश्विक खाद्य सुरक्षा सम्मेलन की समाप्ति के अवसर पर ये बात कही है.

एकजुट होकर करना होगा, भुखमरी का मुक़ाबला, यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि वैश्विक स्तर पर अकुशल खाद्य उत्पादन, दरअसल भुखमरी में भारी वृद्धि के साथ-साथ, कार्बन उत्सर्जन के एक तिहाई हिस्से और जैव विविधता के 80 प्रतिशत नुक़सान के लिये ज़िम्मेदार है. उन्होंने सभी देशों से टिकाऊ विकास की रफ़्तार बढ़ाने के लिये, खाद्य प्रणालियों में व्यापक बदलाव करने का आग्रह किया है.

ECOSOC के नए अध्यक्ष - कॉलेन विक्सेन, परिषद की प्रासंगिकता रेखांकित

संयुक्त राष्ट्र की आर्थिक व सामाजिक परिषद (ECOSOC) के नए अध्यक्ष कॉलेन विक्सेन केलापिले ने शुक्रवार को कहा है कि दुनिया भर में, कोविड-19 महामारी का मुक़ाबला करने के प्रयासों में दिशा-निर्देश व जानकारी मुहैया कराने के एक रास्ते के रूप में, विकास को बढ़ावा देने में, इस परिषद की भूमिका और भी ज़्यादा अहम हो गई है. उन्होंने शुक्रवार को ही ये पद संभाला है.

महामारी के दौर में हुए शिक्षा नुक़सान का आकलन करने और स्कूल फिर खोलने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र की दो एजेंसियों और उनके साझीदार संगठनों ने मंगलवार को कहा है कि कोविड-19 महामारी के कारण स्कूल बन्द होने से छात्रों की शिक्षा का जो नुक़सान हुआ है उसकी भरपाई के लिये लगभग एक तिहाई देशों में अभी तक कोई उपचारात्मक कार्यक्रम लागू नहीं किये गए हैं.

कोविड के कारण आय ख़त्म होने के दौर में, बढ़ती क़ीमतें बनीं भुखमरी की दोस्त

संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने गुरूवार को चेतावनी भरे शब्दों में कहा है कि दुनिया भर में कोविड-19 महामारी के प्रभावस्वरूप रोज़गार व आमदनियों के ख़त्म होने और खाद्य पदार्थों की आसमान छूती क़ीमतों के कारण, करोड़ों परिवारों को, भरपेट भोजन नहीं मिल पा रहा है.