एशिया-प्रशांत

कुछ महिला उद्यमियों की एक बैठक
© UN ESCAP

एशिया प्रशान्त: कार्यबल को निर्धनता से निकालने के लिये, नए अभियान की ज़रूरत

एशिया और प्रशान्त के लिये संयुक्त राष्ट्र आर्थिक एवं सामाजिक आयोग (ESCAP) की नई रिपोर्ट दर्शाती है कि इस क्षेत्र में कामकाजी उम्र के लोग, उपयुक्त व शिष्ट रोज़गार के अवसर न मिलने के कारण, और वैश्विक महामारी या आर्थिक मन्दी जैसे झटके झेलने के कारण दबाव में हैं और अत्यधिक संवेदनशील हालात में जीवन गुज़ार रहे हैं.

श्रीलंका के गाँवों में घरों रौशनी के लिए सौर ऊर्जा का ख़ूब इस्तेमाल हो रहा है (अक्तूबर 2007)
World Bank/Dominic Sansoni

सभी के लिए सौर ऊर्जा की उपलब्धता बढ़ाने और दूरगामी इलाक़ों पर ख़ास ध्यान देने पर ज़ोर

पर्यावरण सुधार की दिशा में प्रयासों के तहत सौर ऊर्जा में भारी निवेश की हिमायत करने और उसके उपाय तलाश करने के लिए हाल ही में बैंकाक में एक महत्वपूर्ण परिचर्चा हुई.  परिचर्चा में शिरकत करने वाले  पक्षों के प्रतिनिधियों ने और ज़्यादा सौर क्षमता हासिल करने के लिए वित्तीय संसाधन उपलब्ध कराने के लिए और ज़्यादा अंतरराष्ट्रीय सहयोग बढ़ाने पर ज़ोर दिया.

टिकाऊ विकास पर छठी एशिया-प्रशांत फ़ोरम के उद्घाटन सत्र में उपमहासचिव अमीना मोहम्मद.
ESCAP/Diego Montemayor

टिकाऊ विकास की राह में एशिया-प्रशांत का 'निर्णायक नेतृत्व'

एशिया-प्रशांत क्षेत्र के देशों को टिकाऊ विकास के 2030 एजेंडा को पूरा करने और सशक्तिकरण, समावेशिता व समानता सुनिश्चित करने के लिए ठोस और साहसिक कदमों की ज़रूरत है. बैंकॉक में एक बैठक के दौरान संयुक्त राष्ट्र उपमहासचिव अमीना मोहम्मद ने कहा कि क्षेत्रीय देश इस दिशा में निर्णायक नेतृत्व का प्रदर्शन कर रहे हैं.