एचआईवी

एचआईवी ग्रस्त लोगों को सशक्त बनाने से ख़त्म होगी ये बीमारी

एचआईवी - एड्स के ख़िलाफ़ लड़ाई में संयुक्त राष्ट्र के प्रयासों की अगुवाई कर रही एजेंसी यूएनएड्स ने कहा है कि एचआईवी के संक्रमित लोगों को जब उनकी ख़ुद की देखभाल करने के प्रयासों में सक्रिय भागीदारी करने का मौक़ा मिलता है तो संक्रमण के नए मामले कम होते हैं और ऐसी स्थिति में ज़्यादा संख्या में संक्रमित लोगों को इलाज की सुविधा हासिल होती है.

​​​​​​​एड्स का दैत्य निगल जाता है हर दिन 320 बच्चों व किशोरों को

दुनिया भर में हर साल हर दिन क़रीब 320 बच्चे और किशोर युवा एड्स से संबंधित बीमारियों का शिकार हो जाते हैं. संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने एचआईवी और एड्स के बारे में एक वैश्विक संक्षिप्त रिपोर्ट जारी की है जिसके अनुसार साल 2018 में हर घंटा लगभग 13 बच्चों और युवाओं की जान एड्स की वजह से चली गई.

टीबी संक्रमण में कमी, मगर बीमारी का विकराल रूप बरक़रार

संयुक्त राष्ट्र विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि वर्ष 2018 में तपेदिक (टीबी) बीमारी के कारण 15 लाख लोगों की मौत हुई जो दर्शाता है कि इस बीमारी से निपटना अब भी एक बड़ी चुनौती बना हुआ है. यूएन एजेंसी ने अपनी नई रिपोर्ट में इस बीमारी के उन्मूलन के लिए ज़्यादा संसाधन निवेश किए जाने और राजनैतिक समर्थन की आवश्यकता को रेखांकित किया है.

एचआईवी संक्रमण से 'मुक्त' हुआ मरीज़, यूएन एजेंसी 'उत्साहित'

एड्स के अंत के लिए वैश्विक स्तर पर प्रयासों की अगुवाई कर रही संयुक्त राष्ट्र एजेंसी यूएनएड्स (UNAIDS) ने कहा है कि इलाज के बाद एक मरीज़ के 'एचआईवी संक्रमण से मुक्त' होने की ख़बर उत्साहजनक है लेकिन इस बीमारी को पूरी तरह जड़ से उखाड़ने के लिए अभी एक लंबा रास्ता तय करना है.  

बेअसर एंटीबायोटिक्स दवाओं से उपजी चिंता

  • एंटीबायोटिक्स दवाओं के बेअसर होने और सरकारों की कोताही से दौड़ी चिन्ता की लहर
  • एचआईवी-एड्स के मरीज़ों को नहीं मिल रहा है सही इलाज, भेदभाव बहुत गहरा
  • दुनिया भर में विकलांगों के लिए और ज़्यादा बुनियादी सुविधाएँ मुहैया कराने की पुकार
ऑडियो -
11'3"