दक्षिण सूडान

दक्षिण सूडान: लोगों को जबरन भुखमरी में धकेलना 'हो सकता है युद्धापराध'

दक्षिण सूडान के विभिन्न इलाक़ों में जातीय और राजनैतिक कारणों से लोगों को जानबूझकर भुखमरी का शिकार बनाने और महिलाओं व पुरुषों के ख़िलाफ़ यौन हिंसा के मामले सामने आए हैं. संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद द्वारा गठित एक आयोग ने अपनी नई रिपोर्ट में कहा है कि ऐसे मामले युद्धापराध के दायरे में परिभाषित हो सकते हैं, लेकिन गंभीर हालात के बीच दक्षिण सूडान में राजनैतिक कुलीन वर्ग आम लोगों की पीड़ाओं से बेपरवाह है.

दक्षिण सूडान: एक भारतीय पशु चिकित्सक ने बदल दी उनकी दुनिया

वर्षों तक अंतर-जातीय संघर्ष का दंश झेलने वाले दक्षिण सूडान के बोर इलाक़े में पशु उद्योग तबाही के कगार पर पहुंच गया था लेकिन अब भारतीय शांतिरक्षकों की मेहनत से वहां आए सकारात्मक बदलाव महसूस किया जा सकता है. भारतीय शांतिरक्षक लैफ़्टिनेंट-कर्नल रिचमार्क फ़र्नांडीज़ दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNMISS) के साथ एक पशु चिकित्सक के रूप में काम करते हुए स्थानीय मवेशियों की अच्छी सेहत सुनिश्चित कर रहे हैं.

भारतीय सैनिकों की पदक परेड

दक्षिण सूडान में संयुक्त राष्ट्र के शांति मिशन में सेवाएँ दे रहे भारतीय सैनिकों के असाधारण काम को सम्मानित करने के लिए एक पदक परेड आयोजित की गई. इसमें 13 इंडियन हॉरिज़ोन्टल मिलिट्री इंजीनियर कंपनी और इंडियन लेवल-2 फ़ील्ड अस्पताल के सैनिकों ने मालाकल में एक शानदार परेड में हिस्सा लिया. कुछ झलकियाँ...

दक्षिण सूडान: डर के माहौल में चुनौतियों को समझने की कोशिश

दक्षिण सूडान के लासू में हिंसक वारदातों के बढ़ने से स्थानीय जनता के सामने पेश आ रही चुनौतियों को समझने और उनके समाधान तलाश करने के लिए एक प्रतिनिधिमंडल ने इलाक़े का दौरा किया है. इस प्रतिनिधिमंडल में संयुक्त राष्ट्र मिशन (UNMISS) के फ़ोर्स कमांडर ब्रिगेडियर शैलेश तिनाइकर और दक्षिण सूडान में भारत के राजदूत एसडी मूर्ति शामिल थे.

'युद्धापराध' माना जा सकता है दक्षिण सूडान में मानवाधिकारों का हनन

दक्षिण सूडान में जारी मानवाधिकार हनन के मामलों के चलते हज़ारों लोग घर छोड़ने के लिए मजबूर हुए हैं. इससे चिंतित मानवाधिकार आयोग ने स्थानीय प्रशासन और अन्य पक्षों से पांच महीने पहले शांति समझौते पर नए सिरे से हुई सहमति का सम्मान करने और उसे लागू करने का आग्रह किया है.