Skip to main content

चीन

ल्हासा में एक धार्मिक आयोजन के दौरान दो तिब्बती बुज़ुर्ग.
© Unsplash/Aden Lao

चीन: 'रोज़गार कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम', तिब्बत की सांस्कृतिक पहचान के लिए ख़तरा

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने गुरूवार को अपने एक संयुक्त वक्तव्य में आगाह किया है कि चीन के तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र में ‘श्रमिक स्थानांतरण’ और ‘व्यवसाय एवं रोज़गार कौशल’ प्रशिक्षण कार्यक्रमों (vocational training) से तिब्बत की सांस्कृतिक पहचान पर ख़तरा है, और इससे जबरन श्रम कराए जाने की परिस्थितियाँ उपज सकती हैं.

यूएन के अनुमान दर्शाते हैं कि भारत की आबादी में वृद्धि अगले अनेक दशकों तक जारी रह सकती है.
Unsplash/Andrea Leopardi

भारत, विश्व की सर्वाधिक आबादी वाला देश बनने के नज़दीक

संयुक्त राष्ट्र में जनसंख्या सम्बन्धी डेटा मामलों के प्रमुख जॉन विल्मॉथ ने सोमवार को पत्रकारों से बातचीत के दौरान बताया कि भारत, आगामी दिनों में, चीन को पीछे छोड़ कर विश्व में सर्वाधिक आबादी वाला देश बन जाने के क़रीब पहुँच गया है.

कोविड-19 महामारी के दौरान काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य में एक व्यक्ति को वैक्सीन दिए जाने की तैयारी की जा रही है.
© UNICEF/Gwenn Dubourthoumieu

कोविड-19: चीन से पारदर्शी ढंग से डेटा साझा किए जाने का आग्रह

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने चीन से फिर आग्रह किया है कि कोविड-19 बीमारी के स्रोत का पता लगाने के लिए, सम्बन्धित डेटा को पारदर्शी ढंग से साझा किए जाने की ज़रूरत है.

तिब्बत स्वायत्त क्षेत्र के बरखोर में बच्चे को लिए हुए एक महिला.
© UNICEF/Palani Mohan

चीन: तिब्बती बच्चों को हान संस्कृति में जबरन आत्मसात किए जाने की कोशिशों पर चिन्ता

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने सोमवार को चेतावनी जारी की है कि चीन में अल्पसंख्यक तिब्बती समुदाय के क़रीब 10 लाख बच्चों को उनके परिवारों से अलग करके सरकार द्वारा संचालित आवासीय स्कूलों में रखा गया है. यूएन विशेषज्ञों के अनुसार ऐसा प्रतीत होता है कि चीन सरकार की इस नीति की मंशा तिब्बत के लोगों को सांस्कृतिक, धार्मिक व भाषाई तौर पर जबरन हान संस्कृति में आत्मसात करना है.

चीन के शेनज़ेन प्रान्त में एक दादी अपने पोती के साथ. (फ़ाइल)
© Unsplash/Joshua Fernandez

कोविड-19: चीन में संक्रमण मामलों में वृद्धि पर चिन्ता, डेटा निरन्तर साझा किये जाने पर बल

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने बुधवार को, वर्ष 2023 में अपनी पहली पत्रकार वार्ता में, चीन में कोविड-19 संक्रमण मामलों में उछाल पर चिन्ता व्यक्त की है, और स्थानीय स्वास्थ्य प्रशासन द्वारा निरन्तर जानकारी मुहैया कराए जाने की अहमियत को रेखांकित किया है.

चीन के मकाऊ में कोविड-19 की रोकथाम करने वाली वैक्सीन का टीकाकरण कराता एक व्यक्ति.
Macau Photo Agency

कोविड-19: चीन में संक्रमण मामलों में उछाल, WHO विशेषज्ञों की अहम बैठक

चीन में कोविड-19 संक्रमण मामलों में तेज़ उछाल के समाचारों के बीच, संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी (WHO) के विशेषज्ञों की मंगलवार को एक बैठक हो रही है, जिसमें आगे की रणनीति पर चर्चा की जाएगी.  

© UNICEF/Shehzad Noorani

यूएन न्यूज़ हिन्दी बुलेटिन, 23 दिसम्बर 2022

इस साप्ताहिक बुलेटिन की सुर्ख़ियाँ...

  • अफ़ग़ानिस्तान के विश्वविद्यालयों में महिलाओं के पढ़ने पर पाबंदी लगाये जाने के आदेश की निन्दा
  •  वैश्विक स्वास्थ्य के लिये चुनौतीपूर्ण रहा 2022, चीन में कोविड-19 मामलों में उछाल से उभरी चिन्ता
  • वर्षान्त प्रैस वार्ता में, यूएन प्रमुख ने व्यावहारिक व विश्वसनीय समाधानों की लगाई पुकार
  • म्याँमार में 'मानवाधिकारों के व्यवस्थागत हनन' को रोकने के लिये, सुरक्षा परिषद का प्रस्ताव नाकाफ़ी
  • और,सर्वाइकल कैंसर से रक्षा के लिये, अधिक संख्या में महिलाओं को जीवनरक्षक वैक्सीन मिलने की आशा
ऑडियो
10'38"
चीन के शेनज़ेन प्रान्त में कोरोनावायरस संक्रमण के उछाल के बीच सड़कों पर भीड़.
Man Aihua

चुनौतीपूर्ण रहा 2022; चीन में कोविड-19 मामलों में उछाल से उभरी चिन्ता

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि चीन में वैश्विक महामारी कोविड-19 संक्रमण मामलों के सिलसिले में गम्भीर बीमारी की रिपोर्टों का प्राप्त होना जारी है, और वहाँ उपजी स्थिति चिन्ताजनक है.

चीन गणराज्य के विदेश मंत्री वांग यी, यूएन महासभा के 77वें सत्र की जनरल डिबेट को सम्बोधित करते हुए. (24 सितम्बर 2022)
UN Photo/Laura Jarriel

चीन अशान्त दौर में ‘आशान्वित’, ‘एकल चीन’ नीति की पुष्टि भी

यूएन महासभा के 77वें सत्र की उच्चस्तरीय जनरल डिबेट में शनिवार को चीन का प्रतिनिधित्व विदेश मंत्री वांग यी ने करते हुए कहा है कि दुनिया में मौजूदा दौर उथल-पुथल भरा और रूपान्तरकारी है, उसके बावजूद, “आशान्वित होने के कारण” मौजूद हैं.

चीन की राजधानी बीजिंग का एक दृश्य.
Unsplash/Li Yang

चीन: शिंजियांग में गम्भीर मानवाधिकार उल्लंघनों का हल निकालने का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र के 40 से अधिक स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने बुधवार को कहा है कि चीन को अपने शिंजियांग उवीगर स्वायत्र क्षेत्र (XUAR) में मानवाधिकारों के गम्भीर उल्लंघनों का समाधान निकालना होगा, और अन्तरराष्ट्रीय समुदाय भी इस मुद्दे पर अपनी आँखें बन्द नहीं कर सकता.