बहुपक्षवाद

यूएन प्रमुख और रूसी राष्ट्रपति के बीच बहुपक्षवाद की अहमियत पर चर्चा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश और रूस के राष्ट्रपति व्लादीमीर पुतिन ने गुरुवार को आपसी बातचीत के दौरान बहुपक्षवाद को बढ़ावा देने हेतु, नए सिरे से संकल्प लिये जाने की अहमियत पर चर्चा की है. यूएन प्रमुख, रूस सरकार के निमंत्रण पर फ़िलहाल मॉस्को में हैं जहाँ उनकी अन्य वरिष्ठ अधिकारियों से भी मुलाक़ात होगी.

जटिल दुनिया में बहुपक्षवाद – सुरक्षा परिषद की महत्वपूर्ण भूमिका

संयुक्त राष्ट्र महासभा अध्यक्ष ने सदस्य देशों से आग्रह किया है कि कोविड-19 वैक्सीन को, हर एक स्थान पर, हर किसी के लिये उपलब्ध कराने के लिये पहले  से कहीं ज़्यादा प्रयास किये जाने होंगे. यूएन महासभा प्रमुख वोल्कान बोज़किर ने सचेत किया है कि भलाई की नीयत होने और बाँह में असल में वैक्सीन लगी होने की तुलना नहीं की जा सकती.  

म्याँमार संकट ख़त्म करने में आसियान की अहम भूमिका रेखांकित

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने एशिया के नेतृत्वकर्ताओं से, म्याँमार में रक्तरंजित संकट का शान्तिवूर्ण समाधान तलाश करने के लिये प्रयास बढ़ाने का आहवान किया है. ध्यान रहे कि ये संकट फ़रवरी में, सेना द्वारा लोकतान्त्रिक सरकार का तख़्तापलट किये जाने के बाद पैदा हुआ है. 

यूनेस्को सर्वे के अनुसार, अगले दशक में, जलवायु परिवर्तन शीर्ष चुनौती

संयुक्त राष्ट्र के शैक्षिक, वैज्ञानिक और सांस्कृतिक संगठन – यूनेस्को ने ‘2030 में विश्व की स्थिति’ नामक सर्वे की रिपोर्ट प्रकाशित की है जिसके अनुसार, जलवायु परिवर्तन और जैव-विविधता के नुक़सान को, इस दशक के दौरान सबसे बड़ी चुनौती के रूप में देखा जा रहा है.

म्यूनिख सम्मेलन: महासचिव ने कहा - 2021, प्रगति के मार्ग पर लौटने का साल

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने आगाह किया है कि विश्व के समक्ष जलवायु, स्वास्थ्य, आर्थिक विषमता सहित अन्य चुनौतियाँ पहले से ज़्यादा जटिल और विकराल होती जा रही हैं, जिनका सामना, एकजुटता और अन्तरराष्ट्रीय सहयोग के ज़रिये ही किया जा सकता है. यूएन प्रमुख ने शुक्रवार को ‘म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन’ को, सम्बोधित करते हुए, चार अहम क्षेत्रों में कार्रवाई का ख़ाका पेश करते हुए कहा कि वर्ष 2021 में दुनिया को फिर से टिकाऊ विकास के मार्ग पर वापिस आना होगा. 

जर्मनी: बहुपक्षवाद के लिये प्रतिबद्धता पर यूएन प्रमुख का आभार

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि जर्मनी, चुनौतियों से भरे वर्ष 2020 के दौरान पूरे समय, एक भरोसेमन्द, दरियादिल और बहुपक्षवाद का एक असाधारण दोस्त रहा है. यूएन प्रमुख ने गुरूवार को, बर्लिन में राष्ट्रीय संसद की इमारत में, पत्रकार वार्ता में ये बात कही है. 

75वाँ सत्र: नेपाल ने कहा, असाधारण दौर से गुज़रती दुनिया में बहुपक्षवाद है कुंजी

नेपाल के प्रधानमन्त्री केपी शर्मा ओली ने संयुक्त राष्ट्र महासभा के 75वें सत्र को सम्बोधित करते हुए कहा है कि मानवता को शान्ति व समृद्धि की दिशा में आगे ले जाने के लिये सहयोग व एकजुटता की भावना बेहद अहम है. उन्होंने कहा कि बहुपक्षीय सहयोग को बढ़ावा देने और संयुक्त राष्ट्र को मज़बूत बनाने का दायित्व सदस्य देशों पर है.

महासभा सत्र: कोविड-19 भावी चुनौतियों की आहट-वैश्विक एकजुटता का आहवान

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने मंगलवार को यूएन महासभा के ऐतिहासिक और अभूतपूर्व 75वें सत्र को सम्बोधित करते हुए विश्वव्यापी महामारी कोविड-19 पर क़ाबू पाने के लिये वैश्विक एकजुटता की अपील की है, और महामारी के दौरान वैश्विक युद्धविराम की अपील दोहराई है.  साथ ही उन्होंने बदलती दुनिया के अनुरूप वैश्विक संस्थाओं में परिवर्तन करने और बहुपक्षवाद को बढ़ावा देने की पुकार लगाई है. 

यूएन75: उपलब्धियों पर गर्व, मौजूदा चुनौतियों से निपटने का संकल्प

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने संयुक्त राष्ट्र की स्थापना की 75वीं वर्षगाँठ के अवसर पर सोमवार को न्यूयॉर्क में आयोजित एक विशेष कार्यक्रम में ज़ोर देकर कहा कि एक बेहतर दुनिया के निर्माण के लिये इस विश्व संगठन से लोगों को बहुत उम्मीदें हैं. यूएन प्रमुख ने सदस्य देशों के प्रतिनिधियों को ध्यान दिलाया कि न्यायसंगत, सहनशील और टिकाऊ विश्व का निर्माण करने के लिये बहुपक्षवाद एक आवश्यकता है.

यूएन चार्टर: चुनौतीपूर्ण दौर में संयुक्त राष्ट्र के मज़बूत स्तम्भ की 75वीं वर्षगाँठ

दशकों पहले युद्ध की विभीषिका और बर्बादी झेल रही दुनिया में संयुक्त राष्ट्र चार्टर ने नियम आधारित व्यवस्था, शन्ति और आशा का संचार करने में अहम भूमिका निभाई थी. यूएन चार्टर पर हस्ताक्षर के 75 वर्ष पूरे होने पर महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा कि मौजूदा समय में वैश्विक महामारी, विषमता व हिंसा की चुनौतियों के बीच चार्टर के मूल्यों और शान्तिपूर्ण सहअस्तित्व की अवधारणा की प्रासंगिकता बनी हुई है.