Skip to main content

भूख संकट

गाज़ा में UNRWA जबालिया वितरण केंद्र में एक फ़लिस्तीनी शरणार्थी महिला अपना भोजन सहायता पैकेज प्राप्त करते हुए.
© UNRWA/Mohamed Hinnawi

फ़लस्तीन: धन की क़िल्लत से, दो लाख लोग खाद्य अभाव के कगार पर

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने गुरूवार को चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि धन की भारी क़िल्लत के कारण, दो लाख से अधिक फ़लस्तीनियों को मिलने वाली सहायता में कटौती करने के लिए विवश होना पड़ सकता है.

सूडान में आगामी महीनों में 20 लाख से अधिक लोगों के भूख के गर्त में फिसलने की आशंका है.
© WFP/Peter Louis

सूडान: हिंसक टकराव के कारण, भूख के रिकॉर्ड स्तर पर पहुँचने की आशंका  

संयुक्त राष्ट्र मानवीय सहायताकर्मियों ने सूडान में हिंसक टकराव के बीच बुधवार को एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि देश में भूख, रिकॉर्ड स्तर पर पहुँचने की आशंका दिनों दिन बढ़ती जा रही है.

सिंडी मैक्केन, नवम्बर 2022 में लाओस में यूएन खाद्य राहत एजेंसी के राहत प्रयासों के दौरान.
© WFP/Lee Sipaseuth

​भूख संकट से निपटने के लिए, सहायता धनराशि जुटाना है प्राथमिकता, WFP की नई प्रमुख

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने कहा है कि अमेरिका की सिंडी मैक्केन ने वैश्विक खाद्य सुरक्षा के लिए एक बेहद अहम क्षण में संगठन की बागडोर सम्भाली है. यूएन एजेंसी के अनुसार, हिंसक टकराव, जलवायु परिवर्तन और बढ़ती उर्वरक क़ीमतों के कारण अभूतपूर्व स्तर पर लोगों को भूख संकट का सामना करना पड़ रहा है, जिसके मद्देनज़र सहायता धनराशि का तत्काल प्रबन्ध किया जाना एक प्राथमिकता है.

अलेप्पो, सीरिया के सुकारी क्षेत्र में विस्थापित परिवारों को मासिक भोजन राशन वितरित किया जाता है
© WFP/Hussam Al Saleh

सीरिया: 12 वर्षों के गृहयुद्ध व भीषण भूकम्पों के बाद, भुखमरी का बढ़ता ख़तरा

संयुक्त राष्ट्र के विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) के अनुसार, सीरिया में 12 वर्षों के गृहयुद्ध और हाल के विनाशकारी भूकम्पों के कारण, आधी से ज़्यादा आबादी 'भोजन अभाव' से जूझ रही है. यूएन खाद्य सहायता एजेंसी ने आगाह किया है कि सीरिया में लगभग एक करोड़ 21 लाख लोग, खाद्य असुरक्षित हैं, और क़रीब 30 लाख लोगों के, भुखमरी में चले जाने का जोखिम है. (वीडियो फ़ीचर)

सोमालिया के गलकायो के एक गाँव में महिलाओं का समूह पानी भरकर ला रहा है.
© UN Photo / Fardosa Hussein

हॉर्न ऑफ़ अफ़्रीका में गम्भीर भूख संकट, ‘मौत को ताक रहे हैं सवा लाख लोग’

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने शुक्रवार को आगाह किया है कि हॉर्न ऑफ़ अफ़्रीका क्षेत्र में जलवायु झटकों, हिंसक असुरक्षा और बीमारियों के कारण, एक लाख 30 हज़ार से अधिक लोगों पर मौत मंडरा रही है, जबकि पाँच करोड़ लोगों को संकट स्तर पर खाद्य असुरक्षा से जूझना पड़ रहा है.

 

काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य में खाद्य उत्पादन की अपार सम्भावनाएँ हैं, मगर हिंसक टकराव के कारण यह चुनौतीपूर्ण हो गया है.
© OCHA/Alioune NDIAYE

पोप फ़्राँसिस की डीआर काँगो यात्रा: देश में भूख संकट पर WFP ने जताई चिन्ता

पोप फ़्राँसिस अपनी तीन-दिवसीय आधिकारिक यात्रा पर काँगो लोकताँत्रिक गणराज्य (डीआरसी) में हैं, जहाँ आशा व एकजुटता के उनके सन्देश को सुनने के लिए बड़ी संख्या में लोग जुटे हैं. इस बीच, यूएन मानवीय राहतकर्मियों ने चेतावनी जारी की है कि डीआरसी, अफ़्रीका का सबसे बड़ा भूख संकट है, ज़रूरतें बढ़ती जा रही है और वित्तीय संसाधन सिकुड़ रहे हैं.

पाकिस्तान में बाढ़ प्रभावित इलाक़े में कुपोषण का शिकार एक बच्चे को उसकी माँ खाना खिला रही है.
© UNICEF/Shehzad Noorani

वैश्विक भूख संकट टालने के लिये, समन्वित कार्रवाई की पुकार

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) ने चेतावनी जारी की है कि दुनिया में भूख की मार झेल रहे लोगों की संख्या रिकॉर्ड स्तर पर पहुँचने का जोखिम उभर रहा है. वैश्विक खाद्य संकट के कारण बड़ी संख्या में लोगों के लिये खाद्य असुरक्षा हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं, जिसके मद्देनज़र, यूएन एजेंसी ने 16 अक्टूबर को 'विश्व खाद्य दिवस' से ठीक पहले, मौजूदा संकट की बुनियादी वजहों से निपटने की पुकार लगाई है.