बेरूत

यूएन महासचिव ने लेबनान की राजधानी बेरूत के बन्दरगाह पर जाकर, विस्फोट पीड़ितों को अपने श्रृद्धासुमन अर्पित किये.
UN Photo/Eskinder Debebe

बेरूत विस्फोट की अन्तरराष्ट्रीय जाँच कराने की पुकार

संयुक्त राष्ट्र के स्वतंत्र मानवाधिकार विशेषज्ञों ने जिनीवा स्थित मानवाधिकार परिषद से, दो वर्ष पहले लेबनान की राजधानी बेरूत में हुए भीषण विस्फोट की अन्तरारष्ट्रीय जाँच कराने की मांग की है ताकि उस विस्फोट में हताहत हुए लोगों के लिये न्याय सुनिश्चित किया जा सके.

लेबनान में संसदीय चुनाव के दौरान एक मतदान केंद्र.
Boutros Frangieh

लेबनान: समावेशी सरकार के तुरन्त गठन का आग्रह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने लेबनान में रविवार को हुए संसदीय चुनावों के बाद, देश के राजनैतिक नेताओं से तत्काल एक समावेशी सरकार गठित किये जाने की अपील की है. यूएन प्रमुख ने कहा है कि सरकार गठन से, संकटों में घिरे देश में सुधारों को लागू कर पाना और पुनर्बहाली के मार्ग पर आगे बढ़ पाना सम्भव होगा.

यूएन महासचिव ने लेबनान की राजधानी बेरूत के बन्दरगाह पर जाकर, विस्फोट पीड़ितों को अपने श्रृद्धासुमन अर्पित किये.
UN Photo/Eskinder Debebe

बेरूत बन्दरगाह विस्फोट: 'लेबनान की जनता को सच जानने का अधिकार'

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने अपनी लेबनान यात्रा के दूसरे दिन, सोमवार को बेरूत बन्दरगाह का दौरा किया जहाँ पिछले वर्ष एक भीषण विस्फोट से बड़े पैमाने पर तबाही हुई थी. यूएन प्रमुख ने स्मारक स्थल जाकर, इस हादसे के पीड़ितों को अपने श्रृद्धासुमन अर्पित किये, और ध्यान दिलाया कि लेबनान की जनता को इस हादसे की सच्चाई जानने का अधिकार है.

लेबनान की राजधानी बेरूत में, घरेलू कामकाजी जिनमें ज़्यादातर अन्य देशों से आए आप्रवासी और महिलाएँ हैं.
UN Photo

लेबनान के संकट ने घरेलू कामकाजियों की तकलीफ़ें बढ़ाई हैं

बीस वर्ष पहले, नस्लवाद के ख़िलाफ़ आवाज़ बुलन्द करने के लिये, दक्षिण अफ़्रीका के डरबन में अपनाए गए कार्रवाई कार्यक्रम व घोषणा-पत्र (DDPA) के दो दशक गुज़र जाने के बाद भी, नस्लभेद अपने सभी रूपों में आज भी मौजूद है, बल्कि कुछ स्थानों पर तो ये और बदतर हुआ है. संक्षिप्त में इसे डरबन घोषणा-पत्र कहा जाता है.

लेबनान में, बिजली आपूर्ति में बाधा उत्पन्न होने के कारण, ज़रूरी स्वास्थ्य सेवाएँ भी प्रभावित हुई हैं.
© UNICEF Lebanon

लेबनान: ईंधन व बिजली आपूर्ति में बाधा से, 'मानवीय त्रासदी' की आशंका

लेबनान में, संयुक्त राष्ट्र की शीर्ष सहायता अधिकारी नजत रोश्दी ने आगाह करते हुए कहा है कि देश में, आशंकित मानवीय त्रासदी को टालने के लिये, ईंधन व बिजली की भरोसेमन्द व तत्काल आपूर्ति की सख़्त ज़रूरत है.

बेरूत बन्दरगाह पर विस्फोट का अनेक बच्चों पर गहरा मनोवैज्ञानिक असर हुआ है.
© UNICEF/Fouad Choufany

बेरूत धमाकों के एक वर्ष बाद भी कठिनाई में जीवन गुज़ार रहे परिवार - यूनीसेफ़

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने मंगलवार को एक सर्वेक्षण के नतीजे प्रकाशित किये हैं, जिनके मुताबिक़ लेबनान की राजधानी बेरूत के बन्दरगाह पर 4 अगस्त 2020 को हुए विनाशकारी धमाकों के एक वर्ष बाद, 98 फ़ीसदी परिवार ज़रूरतमन्द हालात में जीवन गुज़ार रहे हैं. 

संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम (UNDP) लेबनान में पुनर्निर्माण कार्यक्रमों को सहायता व समर्थन दे रहा है. इसमें सौर ऊर्जा परियोजनाएँ भी शामिल हैं.
UNDP Lebanon

लेबनान: बेरूत विस्फोट का एक साल, तबाही बढ़ती ही गई है

लेबनान की राजधानी बेरूत के एक भण्डार ग्रह में, 4 अगस्त  2020 को हुए एक विनाशकारी विस्फोट ने, शहर के बीचों-बीच का एक ख़ासा बड़ा इलाक़ा तबाह कर दिया था. प्रभावित इलाक़ा ऐसा नज़र आ रहा था जैसे कि वहाँ कोई युद्ध लड़ा गया हो. उस विस्फोट के दिन, और बाद के दिनों में 200 से ज़्यादा लोग मारे गए थे और हज़ारों अन्य घायल हुए. उस विस्फोट में, बहुत से लोगों की सम्पत्तियाँ व आजीविकाएँ पूरी तरह तबाह हो गई थीं.

लेबनान की राजधानी बेरूत में 4 अगस्त को हुए एक भयावह विस्फोट से हुई भीषण तबाही का एक दृश्य.
© UNOCHA

लेबनान में नेताओं को राजनीति से हटकर लोगों की बेहतरी को महत्व देना होगा

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि लेबनान में तमाम नेताओं को अगस्त में बेरूत बन्दरगाह पर हुए भीषण विस्फोट के बाद की चुनौतियों का सामना करने के लिये राजनीति को पीछे छोड़कर आम लोगों की भलाई को ऊपर रखना होगा.

4 अगस्त 2020 को हुए भीषण विस्फोट के बाद बेरूत बन्दरगाह में हुई तबाही का दृश्य
© UNOCHA

लेबनान विस्फोट: 'त्वरित कार्रवाई से ही तकलीफ़ें कम की जा सकेंगी'

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कहा है कि लेबनान को विस्फोक से उत्पन्न हुए संकट उबरने और बेहतर तरीक़े से पुनर्निर्माण करने के लिये “हम सभी को एकजुट होने की ज़रूरत होगी”. रविवार को दानदाताओं के एक वर्चुअल सम्मेलन में आमिना जे मोहम्मद ने ये पुकार लगाई.

लेबनान की राजधानी बेरूत में मंगलवार, 4 अगस्त को हुए विस्फोट में जान-माल का भारी नुक़सान किया.
© UNOCHA

लेबनान को तत्काल सहायता मुहैया कराने में लगीं यूएन एजेंसियाँ

लेबनान की राजधानी बेरूत में मंगलवार को हुए घातक बम विस्फोट हज़ारों लोग घायल हुए और लाखों लोगों को बेघर भी होना पड़ा, तबाही के स्तर को देखते हुए, संयुक्त राष्ट्र ने प्रभावितों के लिये राहत कार्य तत्काल और बहुत तेज़ी से शुरू किये. संयुक्त राष्ट्र की विशेषीकृत एजेंसियों का व्यापक नैटवर्क एक जुट होकर राजधानी बेरूत में प्रभावित लोगों की मदद करने में लग गया है ताकि लोगों को फिर से उनके पैरों पर खड़ा किया जा सके. अगर आप भी बेरूत के लोगों की मदद करने के बारे में सोच रहे हैं तो हमने यहाँ यूएन एजेंसियों द्वारा किये जा रहे सहायता व राहत कार्यों के बारे में कुछ विवरण प्रस्तुत किया है और आप चाहें तो किस तरह योगदान कर सकते हैं.