बांग्लादेश

बांग्लादेश: 'सौर घर प्रणाली कार्यक्रम' साबित हुआ नया विकास वाहक

विश्व बैंक (World Bank) ने अन्य साझीदारों के साथ मिलकर, बांग्लादेश में घरों तक बिजली पहुँचाने के लिये 'सौर ऊर्जा घर प्रणाली' (SHS) कार्यक्रम को वित्तीय पोषण प्रदान किया, जिससे देश की विकास प्रक्रिया में अहम सहयोग मिला है. इस कार्यक्रम के ज़रिये, दूर-दराज़ के क्षेत्रों में समुदायों तक बिजली पहुँचाने वाले एक 'ऑफ़-ग्रिड सौर बाज़ार' के निर्माण के लिये सार्वजनिक और निजी क्षेत्र के बीच भागीदारी को समर्थन दिया गया. 

 

रोहिंज्या शरणार्थी शिविर में भीषण आग

बांग्लादेश के कॉक्सेस बाज़ार के कुटुपलाँग शिविर में, 22 मार्च को भीषण आग लगने से, कम से कम 15 लोगों की मौत हुई और 560 से ज़्यादा घायल हुए. महाशिविर में आग लगने से 45 हज़ार से ज़्यादा लोग विस्थापित हुए हैं, जिनमें अधिकतर लोग, पड़ोसी देश म्याँमार से शरण लेने वाले रोहिंज्या शरणार्थी हैं. एक वीडियो रिपोर्ट.

बांग्लादेश: यूएन एजेंसियों के आग उपरान्त सहायता प्रयास तेज़

संयुक्त राष्ट्र की एजेंसियों ने बांग्लादेश के दक्षिणी हिस्से में स्थित कुटुपलाँग शरणार्थी शिविर में, 22 मार्च को लगी भीषण आग के बाद बेघर हुए हज़ारों रोहिंज्या शरणार्थी परिवारों की मदद के लिये प्रयास तेज़ कर दिये हैं.

दक्षिण एशिया में, समुद्री प्लास्टिक प्रदूषण से निपटने का संकल्प - ब्लॉग

प्लास्टिक के अनुमानतः 5.2 खरब टुकड़े पहले से ही महासागर को प्रदूषित कर रहे हैं, और इस मात्रा में प्रत्येक वर्ष, 80 लाख टन की बढ़ोत्तरी होती है. इस समस्या से निपटने के लिये दक्षिण एशियाई देशों ने साथ मिलकर इसका समाधान करने की ठानी है. इस बारे में विस्तृत जानकारी के लिये विश्व बैंक की क्षेत्रीय एकीकरण मामलों की निदेशिका सेसली फ्रूमेन, दक्षिण एशियाई सतत विकास के क्षेत्रीय निदेशक जॉन रूमे और पवन पाटिल का ब्लॉग.

बांग्लादेश: कुटुपलाँग शरणार्थी महाशिविर में भीषण आग लगने से भारी तबाही

बांग्लादेश के कॉक्सेस बाज़ार में, कुटुपलाँग शिविर में, विनाशकारी आग लगने के बाद, संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायताकर्मी घटनास्थल पर राहत और बचाव कार्यों में सक्रिय हैं और आग से प्रभावित हज़ारों रोहिंज्या शरणार्थियों की मदद कर रहे हैं. कॉक्सेस बाज़ार बाज़ार, दुनिया का सबसे बड़ा शरणार्थी शिविर है.

दक्षिण एशिया: महामारी के कारण जच्चा-बच्चा मौतों में तीव्र बढ़ोत्तरी

संयुक्त राष्ट्र की विभिन्न एजेंसियों ने कहा है कि दक्षिण एशिया में, कोविड-19 के कारण, स्वास्थ्य सेवाओं में उत्पन्न हुए गम्भीर व्यवधान के परिणामस्वरूप, वर्ष 2020 के दौरान, जच्चा-बच्चा की अतिरिक्त दो लाख 39 हज़ार मौतें हुई हैं.

अंडमान समुद्र में मुसीबत में फँसे रोहिंज्या शरणार्थियों की तुरन्त मदद की अपील

संयुक्त राष्ट्र शरणार्थी एजेंसी (UNHCR) ने उन रोहिंज्या शरणार्थियों के समूह की खोजबीन करने का आहवान किया है जो अंडमान समुद्र में, लगभग एक सप्ताह से फँसे हुए हैं यानि वो सुरक्षित ठिकाने की तलाश में भटक रहे हैं.

डिजिटल प्रवासन: शरणार्थियों व प्रवासियों के लिये आर्थिक जीवनरेखा

कोविड-19 महामारी के कारण, एक तरफ़ तो वैश्विक अर्थव्यवस्था को भीषण झटका लगा है, वहीं ऑनलाइन वाणिज्य में कुछ उछाल देखा गया है. संयुक्त राष्ट्र के समर्थन से, दुनिया भर में एक ऐसा ऑनलाइन कार्यक्रम चलाया गया है जिसमें, शरणार्थियों और प्रवासियों को ऐसे उपकरण और ग्राहक मुहैया कराने में मदद की जा रही है जिनकी उन्हें, अपने कारोबार शुरू करने और अपनी आजीविकाएँ बेहतर बनाने के लिये, ज़रूरत है.

दक्षिण एशिया में कृषि मुहिम

संयुक्त राष्ट्र का अन्तरराष्ट्रीय कृषि विकास कोष (IFAD), ग़रीबी और भुखमरी समाप्त करने के लिये, 40 से अधिक वर्षों से, सरकारों के साथ मिलकर, दूर-दूराज़ के गाँवों तक पहुँच बनाने की कोशिशों में सक्रिय है. संगठन का कहना है कि दक्षिण एशिया उनके मिशन के लिये बेहद महत्वपूर्ण है. संगठन, इस समय, बाँग्लादेश, भूटान, भारत, मालदीव, नेपाल और श्रीलंका में काम कर रहा है ताकि कृषि और ग्रामीण अर्थव्यवस्था को बदलने में मदद मिल सके, और ग्रामीण आजीविका में सुधार हो सके – और कोई भी पीछे न रह जाए. एक वीडियो रिपोर्ट...

बांग्लादेश में निर्धन बच्चों और युवाओं को शिक्षा व कौशल प्रशिक्षण

बांग्लादेश सरकार ने विश्व बैंक के साथ 60 लाख 50 हज़ार डॉलर केएक वित्तपोषण समझौते पर हस्ताक्षर किये हैं, जिसके तहत निर्धन बस्तियों में रहने वाले लगभग 39 हज़ार बच्चों को प्राथमिक शिक्षा पूरी करने और कॉक्सेस बाज़ार के पढ़ाई बीच में छोड़ने वाले 8 हज़ार 500 युवाओं को व्यावसायिक प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा.