बाल देखभाल

थाईलैण्ड का नोन्ग बुआ लम्फू प्रान्त, जहाँ एक बाल देखभाल केन्द्र पर हुए भयावह हमले में बड़ी संख्या में मौत हुई है.
Unsplash/Robert Eklund

थाईलैंड: बाल केन्द्र पर घातक हमले की अन्तरराष्ट्रीय निन्दा

थाईलैंड के उत्तरी क्षेत्र में एक बाल देखभाल केन्द्र पर एक भयानक हमला हुआ है जिसमें अनेक बच्चों की मौत हो गई है. अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर इस हमले की कड़ी निन्दा हुई है. संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने गुरूवार को कहा कि वो इतने बड़े पैमाने पर गोलीबारी पर हतप्रभ और दुखी हैं.

कम्बोडिया में एक गर्भवती महिला एचआईवी/सिफ़लिस संक्रमण की जाँच के लिये रैपिड टैस्ट किट का इस्तेमाल करते हुए.
© UNICEF/Antoine Raab

माँ से बच्चे को एचआईवी व सिफ़लिस संक्रमण – रोकथाम के लिये सस्ते परीक्षण उपलब्ध

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने कहा है कि माताओं से बच्चों में होने वाले एचआईवी व सिफ़लिस संक्रमण की रोकथाम के लिये, अब एक डॉलर से भी कम क़ीमत वाली दोहरी परीक्षण किट उपलब्ध हैं. अनेक देशों में गर्भवती महिलाओं के लिये, आसानी से इस्तेमाल की जाने वाली इस टैस्ट किट की उपलब्धता बढ़ाने के प्रयास किये जा रहे हैं. 

लीबिया के एक हिरासत केंद्र में निजेर का एक 14 वर्षीय प्रवासी बच्चा.
© UNICEF/Alessio Romenzi

कोविड-19: हिरासत केन्द्रों से रिहा हुए 45 हज़ार बच्चे, ‘अनुकूल न्याय समाधान सम्भव’

वैश्विक महामारी कोविड-19 की शुरुआत से अब तक, 45 हज़ार से अधिक बच्चे, हिरासत केन्द्रों से रिहा किये गए हैं और अब या तो वे अपने परिवार के साथ या किसी अन्य उपयुक्त माहौल में जीवन जी रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने अपने नए विश्लेषण में, बच्चों को हिरासत में रखे जाने पर रोक लगाने का आहवान करते हुए, नाबालिगों के लिये न्याय प्रक्रिया में सुधार की मांग की है.  

विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP) फ़लस्तीनी क्षेत्र ग़ाज़ा में ग़रीब और खाद्य असुरक्षित परिवारों को इलैक्ट्रॉनिक खाद्य वाउचर मुहैया कराता है जिनके ज़रिये वो स्थानीय स्तर पर पदार्थ ख़रीद सकते हैं.
WFP/Wissam Nassar

कोविड-19: धनी देशों में बच्चों के लिये पर्याप्त वित्तीय समर्थन का अभाव 

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने कड़े शब्दों में कहा है कि कोविड-19 महामारी के दौरान धनी देशों द्वारा बच्चों के लिये आबंटित वित्तीय संसाधनों का स्तर पूर्ण रूप से अपर्याप्त है. बाल निर्धनता पर शुक्रवार को जारी एक रिपोर्ट में यह बात कही गई है. 

चीन के एक प्री-स्कूल में बच्चे पढ़ाई कर रहे हैं.
© UNICEF/Nyan Zay Htet

कोविड-19: बाल देखभाल संस्थानों पर भारी असर, करोड़ो बच्चे प्रभावित

 संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) का नया अध्ययन दर्शाता है कि वैश्विक महामारी कोविड-19 के कारण विश्व भर में चार करोड़ से ज़्यादा बच्चों को शुरुआती पढ़ाई-लिखाई से वंचित होना पड़ा है. महामारी से बचाव के ऐहतियाती उपायों के मद्देनज़र - औपचारिक स्कूली शिक्षा की शुरुआत से ठीक पहले वाले साल (प्री-स्कूल वर्ष) में बाल देखभाल संस्थानों और आरम्भिक शिक्षा केन्द्रों के बन्द होने के कारण यह अवरोध पैदा हुआ है.