बाल अधिकार

विश्व भर में क़रीब 24 करोड़ बच्चे हैं विकलांग, बुनियादी ज़रूरतें पूरी कर पाना चुनौतीपूर्ण

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि विश्व भर में 24 करोड़ बच्चे, यानि हर 10 में से एक बच्चा - विकलांगता की अवस्था में रह रहे हैं और स्वास्थ्य, शिक्षा व संरक्षण समेत बाल कल्याण के अधिकतर पैमानों पर, आम बच्चों की तुलना में बहुत पीछे हैं. 

'बीटीएस' और यूनीसेफ़ की साझा मुहिम के चार साल – बच्चों में आत्म-सम्मान व आत्म-प्रेम को बढ़ावा

दक्षिण कोरिया के लोकप्रिय पॉप संगीत समूह, बीटीएस और संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनीसेफ़) की एक मुहिम के ज़रिये दुनिया भर में बच्चों में आत्म-प्रेम (self-love) और आत्म-देखभाल (self-care) के सकारात्मक सन्देश को पहुँचाया जा रहा है.

एसडीजी प्राप्ति के लिये संयुक्त राष्ट्र को सशक्त बनाने की ज़रूरत

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने, दुनिया की अनमोल वैश्विक परिसम्पत्तियों की रक्षा और साझा आकांक्षाओं को पूरा करने की ख़ातिर, तत्काल कार्रवाई का आहवान करते हुए, टिकाऊ विकास लक्ष्यों के नए पैरोकारों के नामों की घोषणा की है.

ऑडियो -
13'1"

यमन: युद्ध के कारण जारी, बच्चों की बेतहाशा तकलीफ़ों को रोका जाना होगा

बच्चे व सशस्त्र संघर्षों की स्थित पर, यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश की विशेष प्रतिनिधि वर्जीनिया गाम्बा  की एक ताज़ा रिपोर्ट में कहा गया है कि यमन में जारी संघर्ष में, वर्ष 2019 और 2020 के दौरान, लड़ाई तेज़ होने के कारण, लगभग 2600 बच्चे हताहत हुए हैं.

कोविड-19 के डेढ़ साल बाद भी, करोड़ों बच्चों के लिये स्कूल हैं बन्द

कोविड-19 महामारी की शुरुआत के 18 महीनों बाद भी, दुनिया के छह देशों में सात करोड़ से अधिक छात्रों के लिये स्कूल, अब भी लगभग पूरी तरह से बन्द हैं. संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने शिक्षा में आए इस व्यवधान से निपटने के लिये देशों की सरकारों से स्कूलों को जल्द से जल्द खोलने का आहवान किया है. 

अफ़ग़ानिस्तान संकट: सितम्बर के अन्त तक खाद्य भण्डार ख़त्म होने की आशंका

संयुक्त राष्ट्र के एक शीर्ष अधिकारी ने बुधवार को चेतावनी जारी की है कि अफ़ग़ानिस्तान में खाद्य भण्डार इसी महीने के अन्त तक समाप्त हो सकते हैं. इसके मद्देनज़र, उन्होंने अन्तरराष्ट्रीय समुदाय से देश के लिये समर्थन बढ़ाने की पुकार लगाई है. 
 

अफ़ग़ानिस्तान: ‘पीड़ित बच्चों को उनके हाल पर नहीं छोड़ा जा सकता’

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने क्षोभ जताया है कि बच्चों को अफ़ग़ानिस्तान में हिंसा और असुरक्षा की भारी क़ीमत चुकानी पड़ रही है. मौजूदा हालात में उन्हें बेघर होने, स्कूलों व मित्रों से दूर होने के लिये मजबूर कर दिया है, साथ ही वे बुनियादी स्वास्थ्य सेवाओं से भी वंचित हैं.

यूनीसेफ़ - जलवायु परिवर्तन है बाल अधिकारों का भी संकट

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि मध्य अफ़्रीका गणराज्य, चाड, नाइजीरिया, गिनी और गिनी-बिसाउ सहित 33 देशों में बच्चों पर जलवायु परिवर्तन से व्यापक रूप से प्रभावित होने का ख़तरा मंडरा रहा है. 

अफ़ग़ानिस्तान में बाल अधिकार हनन के मामलों में ‘स्तब्धकारी तेज़ी’

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने अफ़ग़ानिस्तान में बच्चों के अधिकार हनन के गम्भीर मामलों में आई तेज़ी पर स्तब्धता जताई है. ख़बरों के अनुसार देश में पिछले 72 घण्टों में 27 बच्चों की मौत हुई है और 136 घायल हुए हैं. 

दक्षिण सूडान: आज़ादी के 10 वर्ष बाद भी बच्चों के लिये निराशा व हताशा के हालात

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष - यूनीसेफ़ ने मंगलवार को कहा है कि दक्षिण सूडान द्वारा आज़ादी हासिल करने के 10 वर्ष बाद भी, अब और ज़्यादा बच्चों को, पहले से कहीं ज़्यादा मानवीय सहायता की सख़्त ज़रूरत है.