के द्वारा छनित:

बाढ़

चाड में 30 वर्षों में सबसे भीषण बारिश हुई है, जिसके बाद नदियां उफ़ान पर थीं.
© UNICEF/Aldjim Banyo

विनाशकारी बाढ़ के कारण, विश्व भर में ढ़ाई करोड़ से अधिक बच्चों पर जोखिम

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने आगाह किया है कि इस वर्ष विश्व के 27 देशों में कम से कम दो करोड़ 77 लाख बच्चे भीषण बाढ़ की चपेट में आए हैं, जिससे उनके जीवन पर जोखिम मंडरा रहा है. यूएन एजेंसी ने मिस्र के शर्म अल-शेख़ में यूएन के वार्षिक जलवायु सम्मेलन (कॉप27) के दौरान यह ऐलर्ट जारी किया है.

पाकिस्तान के सिंध प्रांत में, स्वास्थ्यकर्मी, बाढ़ प्रभावितों तक मदद पहुँचाने के प्रयासों में.
© WHO

पाकिस्तान: बाढ़ प्रभावित इलाक़ों में सार्वजनिक स्वास्थ्य जोखिम बढ़ा

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने मंगलवार को कहा कि पाकिस्तान में, हाल के सप्ताहों में बाढ़ प्रभावित इलाक़ों में, वैसे तो बाढ़ का पानी घटना शुरू हो गया है, लेकिन क़रीब 80 लाख लोगों को अब भी आवश्यक स्वास्थ्य सहायता की ज़रूरत है.

पाकिस्तान में बाढ़ प्रभावित इलाक़े में कुपोषण का शिकार एक बच्चे को उसकी माँ खाना खिला रही है.
© UNICEF/Shehzad Noorani

पाकिस्तान में जलवायु तबाही, आगामी संकटों का ख़तरनाक सूचक - यूनीसेफ़

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने सचेत किया है कि पाकिस्तान में आई भीषण बाढ़ के कारण लाखों बच्चे प्रभावित हुए हैं, और इस विनाशकारी जलवायु आपदा की सबसे बड़ी क़ीमत, नाज़ुक हालात में जीवन गुज़ार रहे बच्चों को चुकानी पड़ रही है. दक्षिण एशिया में यूएन एजेंसी कार्यालय के क्षेत्रीय निदेशक जॉर्ज लारेया-ऐडजेई ने कहा कि बाढ़ से हुई तबाही भविष्य में ऐसी घटनाओं का एक चिन्ताजनक संकेत है.

नाइजीरिया के ज़्यादातर प्रान्त बाढ़ से प्रभावित हुए हैं.
© UNICEF/Vlad Sokhin

नाइजीरिया: बाढ़ से लाखों लोग ख़तरे में, बुर्कीना फ़ासो में भी खाद्य अभाव

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने नाइजीरिया में आई भीषण बाढ़ और उससे हुई भारी तबाही पर गहरा दुख व्यक्त किया है जिसमें 28 लाख से ज़्यादा लोग प्रभावित हुए हैं.

पाकिस्तान के सिन्ध प्रान्त में एक ग्रामीण लड़की, एक नल से पानी भरकर अपने घर को ले जाते हुए.
© UNICEF/Asad Zaidi

WHO: घातक हैज़ा मामले बढ़े,नवीनतम वैश्विक स्वास्थ्य जानकारी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक डॉक्टर टैड्रॉस ऐडहेनॉम घेबरेयेसस ने बुधवार को बताया है कि इस समय यूगाण्डा में इबोला का सामना करने में वहाँ की सरकार को समर्थन दिया जा रहा है और योरोप में कोविड-19 महामारी के मामलों में कुछ चिन्ताजनक बढ़ोत्तरी देखी गई है.

पाकिस्तान के सिन्ध प्रान्त में बाढ़ से प्रभावित एक रिहायशी इलाक़ा.
© UNICEF/Asad Zaidi

पाकिस्तान: तबाही की ‘दूसरी लहर’ आने की आशंका, 81 करोड़ डॉलर की सहायता अपील

पाकिस्तान में संयुक्त राष्ट्र के वरिष्ठ सहायता अधिकारी ने सचेत किया है कि भीषण बाढ़ से प्रभावित देश, मौत व तबाही की एक दूसरी लहर आने की आशंका का सामना कर रहा है. यूएन मानवीय राहत एजेंसियों ने बाढ़ प्रभावित लोगों तक राहत पहुँचाने के लिये, 16 करोड़ डॉलर की धनराशि की अपील को बढ़ाकर, अब 81 करोड़ 60 लाख डॉलर कर दिया है.

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री मोहम्मद शहबाज़ शरीफ़ ने यूएन महासभा के 77वें वार्षिक सत्र को सम्बोधित किया.
UN Photo/Cia Pak

पाकिस्तान: विनाशकारी बाढ़ की चपेट में आए देश के लिये, वैश्विक समर्थन की पुकार

पाकिस्तान के प्रधानमंत्री मोहम्मद शहबाज़ शरीफ़ ने यूएन महासभा के 77वें वार्षिक सत्र के दौरान उच्चस्तरीय जनरल डिबेट को सम्बोधित करते हुए कहा है कि हाल के दिनों में आई विनाशकारी बाढ़ के कारण, देश का विशाल हिस्सा अब भी जलमग्न है. इसके मद्देनज़र, उन्होंने अभूतपूर्व जलवायु तबाही के नतीजों का सामना करने के लिये वैश्विक समर्थन की पुकार लगाई है.

पाकिस्तान में बाढ़ के पानी से गुज़रती एक युवती.
UNICEF/Asad Zaidi

पाकिस्तान में भीषण बाढ़ से भारी तबाही

पाकिस्तान में भीषण बाढ़ शुरू होने के महीनों बाद भी, लाखों लोग व्यापक दायरे में प्रभावित हैं, और ये बाढ़ अभी अपना आकार कम करती नज़र नहीं आ रही है. एक वीडियो रिपोर्ट..

पाकिस्तान के सिन्ध प्रान्त में भीषण बाढ़ से जलमग्न एक गाँव.
© UNICEF/Asad Zaidi

पाकिस्तान बाढ़: ‘पानी उतरने में लग सकते हैं छह महीने'

संयुक्त राष्ट्र की राहत एजेंसियों ने मंगलवार को कहा है कि पाकिस्तान में अब भी लाखों लोग भीषण बाढ़ से प्रभावित हैं, जो अभी अपना आकार कम करती नज़र नहीं आ रही है.

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, पाकिस्तान के बाढ़ प्रभावित सिन्ध और बलूचिस्तान प्रान्तों में, प्रभावितों से उनका हाल-चाल पूछते हुए (सितम्बर 2022).
UN Photo/Eskinder Debebe

पाकिस्तान: जलवायु आपदा में भारी तकलीफ़ें, साथ ही असाधारण हौसले की मिसालें भी

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने शनिवार को दोहराते हुए कहा है कि बाढ़ से बुरी तरह प्रभावित पाकिस्तान में इस समय ज़रूरतों का दायरा बहुत विशाल है, और उन्होंने बहुत विशाल और तत्काल वित्तीय सहायता की पुकार लगाई है. उन्होंने इस जलवायु आपदा के बारे में जाकरूकता बढ़ाने के लिये, पाकिस्तान की अपनी दो दिन की यात्रा शनिवार को पूरी की है, जिस दौरान उन्होंने बाढ़ प्रभावित इलाक़ों का हवाई अवलोकन भी किया.