वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

के द्वारा छनित:

बाढ़

अमेरिका में कोलोराडो नदी की एक तस्वीर.
UN News/Anton Uspensky

जलीय चक्र में बढ़ता असन्तुलन, बेहतर निगरानी व्यवस्था का आग्रह

विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) ने अपनी एक रिपोर्ट में आगाह किया है कि जलवायु परिवर्तन और मानव गतिविधियों के परिणामस्वरूप, जलीय चक्र असन्तुलित होता जा रहा है और बाढ़ व सूखे समेत चरम मौसम की घटनाएँ गम्भीर रूप धारण कर रही हैं. इसके मद्देनज़र इस रिपोर्ट में वैश्विक जल संसाधनों की विस्तृत समीक्षा प्रस्तुत की गई है और जल संसाधनों के बेहतर प्रबन्धन पर ज़ोर दिया गया है.. 

लीबिया में बाढ़ की व्यापक तबाही का शिकार हुए एक स्थान पर कुछ बच्चे खेलते हुए.
© UNICEF/Mostafa Alatreb

लीबिया बाढ़: त्रासदी अभी ख़त्म नहीं हुई है, यूनीसेफ़

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने गुरूवार को कहा है कि लीबिया में 10 सितम्बर को चक्रवात डेनियल की दस्तक से उफ़नी बाढ़ के कारण 16 हज़ार से अधिक बच्चों को विस्थापित होना पड़ा है. संगठन ने मनौवैज्ञानिक देखभाल की तात्कालिकता की ज़रूरत को रेखांकित किया है.

पूर्वोत्तर लीबिया में बाढ़ के कारण 43 हज़ार से अधिक लोग विस्थापित हुए हैं.
© USAR Spain

लीबिया: बाढ़ आपदा में जीवित बचे लोगों के लिए मनोसामाजिक समर्थन ज़रूरी

संयुक्त राष्ट्र मानवीय राहतकर्मियों ने चेतावनी जारी की है कि लीबिया में हज़ारों नागरिकों के लिए बाढ़ प्रभावित इलाक़ों में इस आपदा के बाद, दैनिक जीवन में मानसिक तनाव व बेचैनी से जूझना एक बड़ी चुनौती बन गया है.

अन्तरराष्ट्रीय प्रवासन संगठन, लीबिया में बाढ़ प्रभावित तक राहत पहुँचाने के लिए, रैड क्रेसेन्ट को सामग्री प्रदान कर रहा है.
IOM MENA

विश्व घटनाक्रम: लीबिया में बाढ़ राहत प्रयास, सीरिया में राहत चौकी खोले जाने का स्वागत

संयुक्त राष्ट्र राहतकर्मियों का कहना है कि लीबिया में बाढ़ प्रभावित इलाक़ों में मानवीय राहत पहुँचाने के लिए प्रयास जारी हैं. वहीं, सीरिया में सरकार के साथ सहमति के बाद एक सीमा चौकी को खोला गया है, जिससे पश्चिमोत्तर क्षेत्र में सहायता सामग्री को भेजना सम्भव होगा.

लीबिया में विनाशकारी बाढ़ के बाद, डेरना में राहत कार्यों को आगे बढ़ाया जा रहा है.
© UNHCR/Ahmed Al Houdiri

लीबिया: विनाशकारी बाढ़ के बाद, प्रभावित समुदायों तक सहायता पहुँचाने के प्रयास

लीबिया में संयुक्त राष्ट्र मानवीय राहतकर्मी अभूतपूर्व बाढ़ की चपेट में आए इलाक़ों में प्रभावित समुदायों तक अति-आवश्यक सहायता पहुँचाने के कार्य में जुटे हैं. अब तक इस आपदा में 11 हज़ार से अधिक लोगों की मौत होने की पुष्टि हो चुकी है, जबकि 10 हज़ार से अधिक लोग लापता बताए गए हैं.

लीबिया के बन्दरगाह शहर डेरना में बाढ़ से बड़े पैमाने पर तबाही हुई है.
© UNICEF/Abdulsalam Alturki

आपदा प्रभावित मोरक्को और लीबिया में, मानवीय सहायता व समर्थन प्रयासों में तेज़ी

मानवीय राहत मामलों में संयोजन के लिए संयुक्त राष्ट्र अवर महासचिव मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने दुख व्यक्त किया है कि दो बड़ी आपदाओं से जूझ रहे मोरक्को और लीबिया में प्रभावित परिवार अकल्पनीय पीड़ा का सामना कर रहे हैं. उन्होंने भरोसा दिलाया कि पीड़ितों व ज़रूरतमन्दों तक राहत पहुँचाने के लिए संगठित प्रयास किए जा रहे हैं. 

लीबिया का उत्तरपूर्वी क्षेत्र बाढ़ग्रस्त है.
© National Meteorological Centre, Libya

लीबिया: ‘ऐतिहासिक स्तर’ की बाढ़ में हज़ारों लोगों की मौत, राहत कार्रवाई तेज़

संयुक्त राष्ट्र की मानवीय सहायता एजेंसियों ने मंगलवार को जिनीवा में संवाददाताओं को बताया कि पूर्वी लीबिया में सप्ताहान्त में भारी वर्षा के बाद आई विनाशकारी बाढ़ और जानोमाल के नुक़सान से उत्पन्न विपदा से निपटने के लिए, राहतकर्मी और साझीदार राहत कार्रवाई में लगे हैं.

2022 की बाढ़ में क्षतिग्रस्त, अपने घर की दीवार पर बैठी युवा लड़कियाँ.
© UNICEF/A. Sami Malik

पाकिस्तान: बाढ़ का पानी उतरने के बाद भी, बच्चों की तकलीफ़ें बरक़रार

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनीसेफ़) ने शुक्रवार को चेतावनी दी है कि पाकिस्तान में पिछले साल आई विनाशकारी बाढ़ से उबरने व पुनर्बहाली प्रयासों के लिए पर्याप्त वित्त पोषण की कमी के कारण, लाखों बच्चे अब भी मानवीय सहायता पर निर्भर हैं. 

पाकिस्तान के सिंध प्रान्त में बाढ़ के बाद मलेरिया और अन्य बीमारियाँ बढ़ रही हैं.
© UNICEF/Saiyna Bashir

पाकिस्तान: मॉनसून मौसम में भीषण वर्षा से भारी तबाही

संयुक्त राष्ट्र की आपदा राहत मामलों की एजेंसी – OCHA ने कहा है कि पाकिस्तान में, 25 जून से 30 जुलाई तक मॉनसून मौसम में हुई लगातार भारी बारिश के कारण, 179 लोगों की मौत हो गई है और 264 लोगों को दार्घकालिक की चोटें पहुँची हैं.

एक महिला और उसकी बच्ची, बारिश में स्वयं को बचाकर चलते हुए.
© ESCAP/Armin Hari

WMO: अत्यन्त चरम मौसम से, वृहद जलवायु कार्रवाई की ज़रूरत रेखांकित

संयुक्त राष्ट्र के विश्व मौसम विज्ञान संगठन (WMO) ने शुक्रवार को कहा है कि उत्तरी गोलार्द्ध में, चिलचिलाती तापमान वृद्धि ने बड़े हिस्सों को अपने चपेट में ले रखा है, और बेतहाशा बारिश से उत्पन्न हुई विनाशकारी बाढ़ों ने ज़िन्दगियों और आजीविकाओं को बाधित कर दिया है, तो ऐसे में और अधिक कार्रवाई की तत्काल ज़रूरत उजागर होती है.