आसियान

यूएन महासचिव एंतोनियो गुटेरेश, कम्बोडिया की राजधानी नॉम पेन्ह में पत्रकारों से बातचीत करते हुए.
Nick Sells

आसियान: यूएन प्रमुख का एकल वैश्विक अर्थव्यवस्था की महत्ता पर ज़ोर

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कम्बोडिया की राजधानी नॉम पेन्ह में आसियान सम्मेलन के दौरान शनिवार को एक प्रैस वार्ता में कहा है कि ऐसे समय में जबकि भूराजनैतिक विभाजन, नए लड़ाई-झगड़ों को भड़काने और पुराने संघर्षों के समाधान कठिन बनाने के जोखिम उत्पन्न कर रहे हैं तो, वैश्विक अर्थव्यवस्था को दो विरोधी धड़ों में बाँटने का जोखिम मोल नहीं लिया जा सकता है.

यूएन प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश, दक्षिण-पूर्वी एशियाई देशों के संगठन - आसियान के नेताओं के साथ
© Nick Sells

‘मानवाधिकारों, स्वतंत्रताओं और मज़बूत वैश्विक अर्थव्यवस्था में, आसियान देशों की अहम भूमिका’

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने कम्बोडिया में, दक्षिण पूर्वी एशियाई देशों (ASEAN) के नेताओं के साथ एक बैठक के दौरान कहा है कि एक तरफ़ गहराते मतभेद वैश्विक शान्ति व सुरक्षा के लिये जोखिम उत्पन्न कर रहे हैं, वहीं दूसरी तरफ़ ख़तरनाक उकसावों से परमाणु तनाव बढ़ रहे हैं.

म्याँमार के यंगून शहर में शहर के बाहरी इलाक़ों में जाने के लिये लोग सर्कुलर ट्रेन में बैठे हैं.
Asian Development Bank/Lester Ledesma

म्याँमार: हिंसक घटनाओं में बढ़ोत्तरी पर चिन्ता, नए साल में युद्धविराम की पुकार

म्याँमार पर संयुक्त राष्ट्र की विशेष दूत नोइलीन हेइज़र ने कई हफ़्तों से देश में बढ़ती हिंसा के मद्देनज़र, नए वर्ष में युद्धविराम की अपील की है. इससे पहले, संयुक्त राष्ट्र में आपात राहत समन्वयक मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने कायाह प्रान्त में आम नागरिकों के विरुद्ध किये गए घातक हमलों की जाँच कराये जाने का आग्रह किया था.

म्याँमार में यंगून शहर का पुराना इलाक़ा.
Unsplash/Zuyet Awarmatik

म्याँमार में तत्काल अन्तरराष्ट्रीय जवाबी कार्रवाई की दरकार - यूएन प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने आगाह किया है कि म्याँमार संकट को विनाशकारी हालात में तब्दील ना होने देने के लिये तत्काल अन्तरराष्ट्रीय कार्रवाई की आवश्यकता है. यूएन प्रमुख ने बुधवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा में भेजी गई एक रिपोर्ट में आशंका जताई है कि सैन्य नेतृत्व की सत्ता पर मज़बूत होती पकड़ से निपटना, समय बीतने के साथ मुश्किल हो जाएगा.   

म्याँमार के लिये विशेष दूत, क्रिस्टीन श्रेनर बर्गनर.
UN Photo/Loey Felipe

म्याँमार: सुरक्षा परिषद में विशेष दूत, सामयिक समर्थन व कार्रवाई का आग्रह

म्याँमार के लिये संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश की विशेष दूत क्रिस्टिना श्रेनर बर्गनर ने देश में मौजूदा संकट के मद्देनज़र, सुरक्षा परिषद से ज़रूरी समर्थन और समय रहते कार्रवाई का आग्रह किया है.

म्याँमार के उत्तरी क्षेत्र में, आन्तरिक विस्थापितों के लिये एक शिविर (फ़ाइल फ़ोटो).
UNICEF/Minzayar Oo

म्याँमार में 'तबाहीपूर्ण हालात', सैन्य नेतृत्व की जवाबदेही तय किये जाने की माँग

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार उच्चायुक्त कार्यालय (OHCHR) की प्रमुख  मिशेल बाशेलेट ने चेतावनी जारी की है कि म्याँमार में बड़े पैमाने पर ख़ूनख़राबा रोकने और मानवीय संकट को गहराने से बचाने के लिये, वहाँ तेज़ होती हिंसा को रोका जाना होगा. उन्होंने क्षोभ जताते हुए कहा कि महज़ चार महीनों में, म्याँमार एक नाज़ुक लोकतंत्र से मानवाधिकारों के लिये त्रासदी बन गया है, और मौजूदा संकट के लिये सैन्य नेतृत्व की जवाबदेही तय की जानी होगी.

म्याँमार में, 1 फ़रवरी 2021 को सेना द्वार तख़्तापलट के बाद शुरू हुए राजनैतिक संकट ने भी खाद्य असुरक्षा की स्थिति को और कठिन बना दिया है.
Unsplash/Gayatri Malhotra

म्याँमार: ‘क्रूर दमनात्मक कार्रवाई’ पर विराम के कोई आसार नहीं

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय (OHCHR) ने आगाह किया है कि ऐसे समय जब दुनिया की नज़रें, म्याँमार में शान्तिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के विरुद्ध दमनात्मक कार्रवाई पर टिकी हैं, देश में सैन्य नेतृत्व ने, अपनी ही जनता के ख़िलाफ़ मानवाधिकारों के अन्य उल्लंघनों को अंजाम देना जारी रखा है. यूएन प्रवक्ता ने म्याँमार में, सैन्य तख़्ता पलट के 100 दिन पूरे होने पर  कहा कि विरोध-प्रदर्शन कर रहे लोगों को दबाने की कार्रवाई में कमी आने के कोई संकेत नहीं हैं.

म्याँमार के यंगून में मायन्गोन टाउनशिप.
Thiri Myat

म्याँमार में हिंसा तत्काल रोकनी होगी - यूएन एजेंसियाँ

म्याँमार में संयुक्त राष्ट्र की टीम ने देश में आम नागरिकों के विरुद्ध हिंसा पर विराम लगाए जाने की अपनी पुकार फिर दोहराई है. म्याँमार में, एक फ़रवरी को, सैन्य तख़्तापलट के बाद व्यापक स्तर पर विरोध-प्रदर्शन हो रहे हैं, और सुरक्षा बलों की कार्रवाई में अब तक बड़ी संख्या में प्रदर्शनकारियों की मौत हुई है. 

म्याँमार की पूर्व राजधानी और व्यावसायिक केन्द्र यंगून के एक बाहरी इलाक़े में नज़र आता एक पगोड़ा.
Unsplash/Kyle Petzer

म्याँमार: शान्तिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के ख़िलाफ़ हिंसा की कड़े शब्दों में निन्दा

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने म्याँमार में शान्तिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के विरुद्ध हिंसा की कठोर शब्दों में निन्दा की है और चिकित्साकर्मियों, नागरिक समाज, श्रम संगठनों व पत्रकारों पर लगाई गई पाबन्दियों पर गहरी चिन्ता जताई है. फ़रवरी महीने में सेना द्वारा सत्ता पर क़ब्ज़ा जमाने के बाद से ही म्याँमार में व्यापक स्तर पर देश के अनेक शहरों में विरोध-प्रदर्शन जारी हैं.

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने थाईलैंड की राजधानी बैंकाक में आसियान सम्मेलन को संबोधित करने के बाद प्रेस से भी बातचीत की. (3 नवंबर 2019)
UN Economic and Social Commission for Asia and the Pacific (ESCAP)

आसियान देशों को भी डटकर करना होगा जलवायु संकट का मुक़ाबला - महासचिव

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि आसियान संगठन के दस में से चार सदस्य देश जलवायु परिवर्तन के परिणामों से सबसे ज़्यादा प्रभावित हैं, इसलिए उन्होंने बैंकाक में हुए आसियान सम्मेलन में पूरी दुनिया में दरपेश जलवायु संकट का सामना डटकर करने का आग्रह किया.