आर्थिक विषमता

फ़िलिपींस के मनीला में एक बाज़ार में विक्रेता, एक ग्राहक को सब्ज़ी बेच रहा है.
IMF/Lisa Marie David

बढ़ती महंगाई, 'हर किसी के लिये विकास के अधिकार को ख़तरा'

संयुक्त राष्ट्र की कार्यवाहक मानवाधिकार उच्चायुक्त ने आगाह किया है कि विश्व में बढ़ती महंगाई के कारण उभरती हुई और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं के लिये चुनौती पैदा होने की आशंका है. कार्यवाहक उच्चायुक्त नाडा अल-नशीफ़ ने गुरूवार को जिनीवा में मानवाधिकार परिषद को सम्बोधित करते हुए चेतावनी भरे शब्दों कहा कि यह संकटों का एक ऐसा संगम है, जिससे सभी के लिये ख़तरा पैदा हो रहा है.

यूएन मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बाशेलेट, काँगो लोकतांत्रिक गणराज्य में पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए. (फ़ाइल)
49442457863_32ee9886a6_k.jpg

मानवाधिकार के मोर्चे पर बड़ी चुनौतियाँ - 'नए सामाजिक अनुबन्ध' का आहवान

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार मामलों की प्रमुख मिशेल बाशेलेट ने सदस्य देशों से, महामारी गुज़र जाने के बाद, एक ज़्यादा समावेशी पुनर्बहाली प्रक्रिया को बढ़ावा देने का आग्रह किया है.

युगाण्डा के इसीनीगिरो ज़िले में बचपन के शुरुआती दिनों में कौशल विकास पर ज़ोर दिया जा रहा है.
© UNICEF/Kalungi Kabuye

सामाजिक विकास है टिकाऊ और सुदृढ़ जगत का 'अहम स्तम्भ'

वैश्विक महामारी कोविड-19 की रोकथाम के लिये दुनिया के अनेक देशों में टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा है जिससे कोरोनावायरस संकट पर क़ाबू पाने की उम्मीद बंधी है. लेकिन संयुक्त राष्ट्र के एक उच्चस्तरीय अधिकारी ने सचेत किया है कि विकासशील देशों में बड़ी संख्या में लोगों को ये वैक्सीन जल्द मिलने की सम्भावना नहीं है और यह स्थिति पीड़ादायक है. 

भारत में डॉक्टरों और स्वास्थ्यकर्मियों को कोविड-19 से बचाव का टीका लगाया जा रहा है.
© UNICEF/Vinay Panjwani

कोविड-19: वैक्सीन टीका वितरण में 'विनाशकारी नैतिक विफलता' की चेतावनी

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के महानिदेशक टैड्रॉस एडहेनॉम घेबरेयेसस ने कहा है कि कुछ देशों में कोविड-19 वैक्सीन को पहले केवल अपने जनसमूहों को दिये जाने की प्रवृत्ति से इन जीवनदायी उपचारों की न्यायसंगत सुलभता पर जोखिम खड़ा हो गया है. यूएन स्वास्थ्य एजेंसी प्रमुख घेबरेयेसस ने सोमवार को कार्यकारी बोर्ड को सम्बोधित करते हुए कहा कि वैक्सीन टीकों से आशा का संचार हुआ है, लेकिन ये स्थिति, दुनिया में साधन-सम्पन्न और वंचितों के बीच मौजूद विषमता की दीवार में एक और ईंट बन गया है.