अफ़ीम

कोविड-19: ड्रग्स तस्करों पर अंकुश लगाने के प्रयासों में मुश्किलें

विश्व में ड्रग्स समस्या की बढ़ती जटिलताओं की वजह से इस दशक के अन्त तक टिकाऊ विकास लक्ष्य हासिल करने के प्रयासों में नए अवरोध पैदा हो रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र के ड्रग्स व अपराध रोकथाम कार्यालय – UNODC की कार्यकारी निदेशक ग़ादा वॉली ने सोमवार को सचेत किया कि कोविड-19 महामारी के दौरान हालात और विकट हो गए हैं. 

कम उम्र में शराब व तंबाकू का सेवन है बढ़ती नशाखोरी की वजह

संयुक्त राष्ट्र समर्थित ‘इंटरनेशनल नारकोटिक्स कंट्रोल बोर्ड’ (आईएनसीबी) ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट में युवाओं में नशीले पदार्थों के बढ़ते इस्तेमाल पर गहरी चिंता जताई है. रिपोर्ट के मुताबिक 16-19 आयु वर्ग में एल्कोहॉल,  तंबाकू और केनेबिस (भांग) का सेवन बालिग होने पर ग़ैरक़ानूनी नशीली दवाओं के इस्तेमाल की आशंका को बढ़ा देता है.

ड्रग्स के बढ़ते इस्तेमाल से बढ़ती समस्याएं

मादक दवाओं के इस्तेमाल से स्वास्थ्य पर पड़ने वाला प्रतिकूल असर अनुमान से कहीं ज़्यादा गंभीर और व्यापक है. मादक पदार्थों और अपराध पर संयुक्त राष्ट्र राष्ट्र कार्यालय (UNODC) की नई रिपोर्ट में यह तथ्य सामने आया है. रिपोर्ट दर्शाती है कि विश्व में मादक दवाओं और पदार्थों के इस्तेमाल से होने वाली समस्याओं से साढ़े तीन करोड़ लोग पीड़ित हैं लेकिन हर सात में से एक पीड़ित का ही उपचार हो पाता है.