अकाल

इथियोपिया में विस्थापितों के लिये बनाए गए एक शिविर में रहने के लिये पहुँची एक महिला.
© UNFPA Ethiopia/Paula Seijo

हॉर्न ऑफ़ अफ़्रीका में सूखा: महिलाओं व लड़कियों की मदद के लिये 11.3 करोड़ डॉलर की अपील

संयुक्त राष्ट्र जनसंख्या कोष (UNFPA) ने बुधवार को कहा है कि हॉर्न अफ़्रीका क्षेत्र में सूखा - समुदायों को प्रभावित कर रहा है, मगर महिलाओं व लड़कियों को अस्वीकार्य स्तर की बहुत भारी क़ीमत अदा करनी पड़ रही है. यूएन जनसंख्या कल्याण एजेंसी ने क्षेत्र की सूखा प्रभावित महिलाओं व लड़कियों की ज़रूरतें पूरी करने की ख़ातिर, 11 करोड़ 37 लाख डॉलर की रक़म जुटाने की अपील भी जारी की है.

यूनिसेफ सोमालिया कुपोषित बच्चों को पोषण संबंधी हस्तक्षेप सेवाएं प्रदान करता है.
UNICEF/Ismail Taxta

सोमालिया: गम्भीर कुपोषण का शिकार बच्चों के लिये अभूतपूर्व संकट

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (UNICEF) ने मंगलवार को एक चेतावनी जारी करते हुए कहा है कि सोमालिया में गम्भीर कुपोषण का शिकार हज़ारों लड़कों व लड़कियों पर मौत का जोखिम मंडरा रहा है. इसके मद्देनज़र, यूनीसेफ़ ने दानदाताओं से देश में ज़रूरतमन्द समुदायों तक राहत पहुँचाने के लिये अपना समर्थन बढ़ाने का आग्रह किया है.

सोमालिया में युद्ध व सूखा के हालात के कारण, देश के अनेक हिस्सों में खाद्य सामान की भारी क़िल्लत हो गई है.
© WFP/Kevin Ouma

‘भुखमरी की सूनामी’ से, बहुत से अकाल पड़ने की आशंका

संयुक्त राष्ट्र के आपदा राहत मामलों के प्रमुख मार्टिन ग्रिफ़िथ्स ने गुरूवार को सुरक्षा परिषद में बताया है कि संघर्ष जनित अकालों और व्यापक दायरे वाली खाद्य असुरक्षा के जोखिम लगातार बढ़ रहे हैं. ऐसे में उन्होंने सुरक्षा परिषद से इन आपस में गुँथे हुए संकटों का सामना करने और प्रभावित क्षेत्रों में टिकाऊ शान्ति स्थापना की दिशा में काम करने का आग्रह किया है.

सोमालिया के मोगादीशु के एक अस्पताल में कुपोषण का शिकार एक बच्चा.
© UNICEF/Omid Fazel

सोमालिया: अकाल का जोखिम बढ़ा, यूएन एजेंसियों की 'गम्भीर मोड़' की चेतावनी

संयुक्त राष्ट्र के मानवीय सहायता कार्यों के उच्च स्तरीय समन्वय फ़ोरम ने आगाह किया है कि सोमालिया एक ऐसे अति गम्भीर मोड़ पर पहुँच गया है जहाँ लाखों लोग अकाल के तत्काल जोखिम का सामना कर रहे हैं.

इथियोपिया में एक महिला अपने एक वर्ष के बच्चे के साथ जो गम्भीर कुपोषण का शिकार है.
© UNICEF/Ismail Taxta

वैश्विक भुखमरी संकट, प्रति मिनट, एक बच्चे को धकेल रहा है गम्भीर कुपोषण में

संयुक्त राष्ट्र बाल कोष – यूनीसेफ़ ने चेतावनी भरे अन्दाज़ में कहा है कि वैश्विक भुखमरी संकट, हर एक मिनट में एक बच्चे को गम्भीर कुपोषण में धकेल रहा है जिससे उन बच्चों के अस्तित्व के लिये जोखिम बढ़ रहा है. यूएन बाल एजेंसी की यह चेतावनी ऐसे समय में आई है जब कुछ देशों के नेता, जी7 सम्मेलन के लिये तैयारियाँ कर रहे हैं.

सूडान में एक पशुपालक अपने मवेशियों के साथ.
© FAO/Raphy Favre

अनेकानेक संकटों ने लाखों लोगों को अत्यन्त गम्भीर खाद्य असुरक्षा के गर्त में धकेला

संयुक्त राष्ट्र की एक रिपोर्ट में आगाह किया गया है कि यूक्रेन युद्ध ने वैश्विक खाद्य पदार्थों व ऊर्जा मूल्यों में वृद्धि को बहुत तेज़ कर दिया है जिससे दुनिया भर में आर्थिक स्थिरता पर नकारात्मक असर पड़ रहा है.

सूडान में अपने मवेशियों के साथ एक पशुपालक.
© FAO/Raphy Favre

FAO: सूडान में किसानों को मदद में तेज़ी, पूर्वी अफ़्रीका में भुखमरी का जोखिम

संयुक्त राष्ट्र के खाद्य और कृषि संगठन (FAO) ने सोमवार को कहा है कि वो सूडान में अपने सहायता अभियान तेज़ कर रहा है जहाँ लगभग एक करोड़ 9 लाख लोगों, यानि कुल आबादी के क़रीब 30 प्रतिशत हिस्से को, इस वर्ष जीवनरक्षक सहायता की ज़रूरत होगी. ये संख्या पिछले एक दशक में सबसे ज़्यादा है.

गिनी में एक महिला सहकारी संस्था ने मोरिंगा के पेड़ लगाए हैं, जिससे भूमि क्षरण से बचने के साथ-साथ पूरक आहार भी प्राप्त होता है.
UN Women/Joe Saade

खाद्य असुरक्षा, समाजों में अस्थिरता व हिंसक संघर्षों के भड़कने की वजह

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने ध्यान दिलाया है कि विश्व में, अल्पपोषण से पीड़ित लगभग 60 फ़ीसदी आबादी, हिंसा प्रभावित इलाक़ों में रहती है और इससे कोई देश अछूता नहीं है. यूएन प्रमुख ने ‘हिंसक संघर्ष व खाद्य सुरक्षा’ के मुद्दे पर गुरूवार को सुरक्षा परिषद में आयोजित एक चर्चा को सम्बोधित करते हुए क्षोभ व्यक्त किया कि जब युद्ध होता है, तो लोगों को भूख की मार झेलनी पड़ती है.

एक पाँच वर्षीय बच्ची मैडागास्कर में दोपहर का भोजन कर रही है.
© WFP/Sitraka Niaina Raharinaiv

खाद्य असुरक्षा हालात चिन्ताजनक, बुनियादी कारणों से निपटने पर बल

संयुक्त राष्ट्र और साझीदारों की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि अचानक खाद्य असुरक्षा का सामना कर रहे लोगों की संख्या में, चिन्ताजनक ढँग से वृद्धि जारी है और पीड़ितों तक तत्काल जीवनरक्षक खाद्य व आजीविका सहायता पहुँचाने के लिये तत्काल प्रयास किये जाने होंगे.

भारत में किसी स्थान पर एक महिला अपने बच्चे के साथ, एक झुग्गी झोंपड़ी इलाक़े में.
© UNICEF/Prashanth Vishwanathan

यूक्रेन युद्ध का असर दुनिया भर में सभी पर, गुटेरेश

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख एंतोनियो गुटेरेश ने खाद्य, ऊर्जा और वित्त पर वैश्विक संकट प्रतिक्रिया समूह (GCRG) द्वारा जारी किया जाने वाला प्रथम नीति-पत्र (Policy Brief) प्रस्तुत किया है. उन्होंने यह समूह, दुनिया के बेहद कमज़ोर हालात वाले लोगों पर यूक्रेन में युद्ध के प्रभावों का अध्ययन करने के लिये गठित किया है.