आमिना जे मोहम्मद

टिकाऊ विकास के लिये वित्त की ज़रूरत पहले से कहीं ज़्यादा, उप प्रमुख आमिना मोहम्मद

सुंयुक्त राष्ट्र की उप प्रमुख आमिना जे मोहम्मद ने सोमवार को कहा है कि संसाधन सम्पन्न और संसाधन वंचित लोगों के बीच अविश्वास की बढ़ती खाई के वातावरण में, टिकाऊ विकास के लिये, यथा सम्भव विभिन्न क्षेत्रों से पक्षकारों को शामिल करते हुए, वित्त का प्रबन्ध करना, इस समय पहले से कहीं ज़्यादा ज़रूरी है.

जलवायु कार्रवाई - सर्वजन को गरिमा, अवसर और समानता वाहन, आमिना जे मोहम्मद

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद का कहना है कि जलवायु कार्रवाई, सर्वजन के लिये, हरित व समान भविष्य की ख़ातिर, एक बदलाव वाहन बन सकती है. उन्होंने हाल ही में एक TED वार्ता में, सभी जगह के लोगों का आहवान किया कि वो अपने नेतृत्वकर्ताओं से, वैश्विक तापमान वृद्धि को सीमित करने के उनके वादों पर अमल करने की मांग करें.

'दुनिया घिरी हुई है - मानवीय सहायता अभियानों पर संकटों के तूफ़ान में'

संयुक्त राष्ट्र की उप प्रमुख आमिना जे मोहम्मद ने शुक्रवार को सुरक्षा परिषद में कहा है कि दुनिया भर में रक्त रंजित संघर्षों और अशान्त हालात में बहुत तेज़ी देखी गई है जिनके कारण मानवीय सहायता कार्यक्रम संकटों का सामना कर रहे हैं, और संघर्षों वाले क्षेत्रों में, आम आबादी को इसकी भारी क़ीमत चुकानी पड़ रही है.

दुनिया, 2030 एजेण्डा के मार्ग में, अहम पड़ाव पर, यूएन उप प्रमुख

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कहा है कि दुनिया इस समय टिकाऊ विकास एजेण्डा 2030 के लक्ष्यों को प्राप्त करने के मार्ग पर, बहुत अहम पड़ाव पर खड़ी है. यूएन उप प्रमुख ने ये बात योरोपीय संसद की उपाध्यक्ष हाएदी हउतला के साथ एक वर्चुअल वार्ता के दौरान, बुधवार को कही.

पश्चिम अफ्रीका और सहेल के लिये उप महासचिव की एकजुटता यात्रा

संयुक्त राष्ट्र की उपमहासचिव आमिना जे मोहम्मद ने पश्चिम अफ्रीका की दो पखवाड़े की यात्रा शुरू करते हुए पहले पड़ाव में सहेल क्षेत्र की यात्रा शुरू की है और वहाँ के देशों को कोविड-19 महामारी के दौरान संयुक्त राष्ट्र का समर्थन दोहराया है.

कोलम्बिया में, महिलाएँ ले जा रही हैं - शान्ति प्रक्रिया को आगे

संयुक्त राष्ट्र की उपमहासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कोलम्बिया में वर्ष 2016 में हुए ऐतिहासिक शान्ति समझौते को पूर्ण व व्यापक रूप से लागू किये जाने की अहमियत को रेखांकित किया है. यूएन उपप्रमुख ने कहा कि कोरोनावायरस संकट के मद्देनज़र टिकाऊ और सहनशील समुदायों को सामर्थ्य प्रदान करने के लिये ऐसा किया जाना आवश्यक है.

 

 

'यौन हिंसा क़तई बर्दाश्त नहीं'

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कहा है कि कोविड-19 के कारण उत्पन्न माहौल में महिलाओं और लड़कियों के ख़िलाफ़ हिंसा और उनके साथ बलात्कार के मामले बहुत तेज़ी से बढ़े हैं. पुरुषों और लड़कों को इस मुद्दे पर अपनी ज़िम्मेदारी समझनी होगी. आमिना जे मोहम्मद का वीडियो सन्देश...

'महिलाओं के बिना कोई टिकाऊ विकास व शांति नहीं'

संयुक्त राष्ट्र की उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने कहा है कि अगर दुनिया भर में आधी आबादी (महिलाओं) को अगर पीछे छोड़ दिया जाता है तो विश्व टिकाऊ विकास लक्ष्य हासिल करने के योग्य नहीं बन पाएगा. उप महासचिव ने रविवार, 8 मार्च को अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस के मौक़े पर पपुआ न्यू गिनी में ये बात कही.

सोमालिया में महिलाओं की भागीदारी

संयुक्त राष्ट्र उप महासचिव आमिना जे मोहम्मद ने अक्टूबर में हॉर्न ऑफ़ अफ्रीका क्षेत्र के देशों का दौरा किया और 23 अक्टूबर का दिन उन्होंने सोमालिया में गुज़ारा. वहाँ उन्होंने ख़ासतौर से महिलाओं की भागीदारी और उनके सशक्तिकरण का जायज़ा लिया. एक रिपोर्ट.