वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

पाकिस्तान: सुरक्षा परिषद ने की 'जघन्य व कायरतापूर्ण' आतंकी हमलों की निन्दा

पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रान्त की राजधानी का एक इलाक़ा. (फ़ाइल फ़ोटो)
UNICEF/Asad Zaid
पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रान्त की राजधानी का एक इलाक़ा. (फ़ाइल फ़ोटो)

पाकिस्तान: सुरक्षा परिषद ने की 'जघन्य व कायरतापूर्ण' आतंकी हमलों की निन्दा

शान्ति और सुरक्षा

संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने पाकिस्तान के बलूचिस्तान प्रान्त में बुधवार को हुए बम धमाकों की कठोर निन्दा की है, जिनमें कम से कम 26 आम नागरिकों के मारे जाने और 45 के घायल होने का समाचार है.

यूएन सुरक्षा परिषद के सदस्य देशों ने बलूचिस्तान के पिशिन और क़िला सैफ़ुल्लाह में हुए दो बम हमलों को जघन्य व कायरतापूर्ण आतंकी हमले क़रार दिया है. 

समाचार माध्यमों के अनुसार, ये हमले पाकिस्तान में 8 फ़रवरी को निर्धारित संसदीय चुनाव की पूर्वसंध्या पर उम्मीदवारों के कार्यालय के नज़दीक हुए, जिन्हें मोटरसाइकिल में विस्फोटकों के ज़रिये अंजाम दिया गया.

सुरक्षा परिषद ने इन हमलों के पीड़ितों के परिवारजन, पाकिस्तान सरकार के प्रति अपनी गहरी संवेदना व्यक्त की है और घायलो के जल्द से जल्द स्वस्थ होने की कामना की है.

सदस्य देशों ने फिर दोहराया है कि आतंकवाद अपने सभी रूपों और अभिव्यक्तियों में, अन्तरराष्ट्रीय शान्ति व सुरक्षा के लिए सबसे गम्भीर ख़तरों में से है.

उन्होंने इन जघन्य आतंकी कृत्यों के दोषियों, संगठनकर्ताओं, वित्त पोषकों और प्रायोजकों की जवाबदेही तय किए जाने और उन्हें न्याय के कटघरे में लाने की आवश्यकता को रेखांकित किया है. 

सदस्य देशों ने आग्रह किया कि अन्तरराष्ट्रीय क़ानून और प्रासंगिक सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों के तहत सभी दायित्वों का निर्वहन और पाकिस्तान की सरकार व अन्य सम्बद्ध प्रशासनिक एजेंसियों के साथ सक्रियता से सहयोग किया जाना होगा.

सुरक्षा परिषद ने कहा है कि किसी भी प्रकार का आतंकी कृत्य आपराधिक है और उसे न्यायोचित नहीं ठहराया जा सकता है, भले ही उसकी कोई भी वजह हो, और उसे कहीं भी, कभी भी, किसी के द्वारा भी अंजाम दिया गया हो.