वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

इसराइली बस्तियों से, फ़लस्तीनी राष्ट्र की सम्भावना ‘व्यवस्थित’ रूप में क्षीण

इसराइल द्वारा क़ाबिज़ फ़लस्तीनी क्षेत्र पश्चिमी तट के उत्तरी इलाक़े में, एक यहूदी बस्ती - हालामिश.
Photo: UNICEF/Mouhssine Ennaimi
इसराइल द्वारा क़ाबिज़ फ़लस्तीनी क्षेत्र पश्चिमी तट के उत्तरी इलाक़े में, एक यहूदी बस्ती - हालामिश.

इसराइली बस्तियों से, फ़लस्तीनी राष्ट्र की सम्भावना ‘व्यवस्थित’ रूप में क्षीण

शान्ति और सुरक्षा

मध्य-पूर्व शान्ति प्रक्रिया के लिए संयुक्त राष्ट के विशेष समन्वयक ने इसराइल के क़ब्ज़ा वाले - पूर्वी येरूशेलम सहित पश्चिमी तट पर इसराइली बस्तियों के ‘लगातार’ विस्तार पर गहरी चिन्ता व्यक्त की है.

टॉर वैनेसलैंड ने न्यूयॉर्क स्थित सुरक्षा परिषद में बुधवार को राजनयिकों को बताया कि  पिछले तीन महीनों में, 10 हज़ार से अधिक आवासीय इकाइयों का विस्तार किया गया है.

वरिष्ठ दूत ने कहा, "बस्तियाँ इसराइली क़ब्ज़े को और मज़बूत करती हैं, हिंसा भड़काती हैं, अपनी भूमि एवं संसाधनों तक फ़लस्तीनियों की पहुँच के रास्ते में बाधा डालती हैं, और दो-देशों के समाधान के हिस्से के रूप में, फ़लस्तीनी राष्ट्र की सम्भावना को व्यवस्थित रूप से नष्ट करती हैं."

उन्होंने कहा, "मैं इसराइल सरकार से अन्तरराष्ट्रीय क़ानून के तहत अपने दायित्वों के अनुरूप, समस्त आवासीय गतिविधियों को रोकने और तुरन्त चौकियों को गिराने करने का आहवान करता हूँ."

यह नियमित ब्रीफिंग, सुरक्षा परिषद के दिसम्बर 2016 में पारित किए गए प्रस्ताव 2334 पर जानकारी के लिए आयोजित की गई, जिसके तहत इसराइल से फ़लस्तीन की भूमि पर नई बस्तियों का निर्माण बन्द करने की मांग की गई थी.

हिंसा में वृद्धि

टॉर वैनेसलैंड ने इसराइली क़ब्ज़े वाले पश्चिमी तट और इसराइल में विशाल स्तर पर बढ़ती हिंसा पर भी चिन्ता व्यक्त की. 

उन्होंने घातक हथियारों के बढ़ते उपयोग पर ख़ेद व्यक्त किया, ख़ासतौर पर घनी आबादी वाले क्षेत्रों में. दोनों तरफ़ के लोगों के हताहत होने की ख़बरें हैं. प्रदर्शनों, झड़पों, सुरक्षा अभियानों और हमलों में, बच्चों समेत अनेक फ़लस्तीनी मारे गए या घायल हुए है.साथ ही, सुरक्षा बलों के सदस्यों सहित, इसराइली भी हताहत हुए हैं.

टॉर वैनेसलैंड ने तनाव कम करने हेतु शीघ्रता से क़दम उठाने का आहवान किया.

उन्होंने कहा, “मैं आतंक के कृत्यों सहित नागरिकों के ख़िलाफ़ हिंसा के सभी रूपों की निन्दा करता हूँ. ऐसे कृत्यों को कभी भी उचित नहीं ठहराया जा सकता और सभी को इसकी निन्दा करनी चाहिए. अपराधियों को जवाबदेह ठहराकर, शीघ्रता से न्याय के कटघरे में लाया जाना चाहिए. ”

वित्तपोषण की कमी

टॉर वैनेसलैंड ने इसके अतिरिक्त फ़लस्तीनी शरणार्थियों के लिए संयुक्त राष्ट्र राहत और कार्य एजेंसी (UNRWA)  और विश्व खाद्य कार्यक्रम (WFP)  समेत, संयुक्त राष्ट्र मानवीय एजेंसियों का राहत कार्य प्रभावित करने वाले वित्तपोषण की कमी का उल्लेख करते हुए, सदस्य देशों से अधिक सहायता प्रदान करने का आहवान किया.

UNRWA को गाज़ा में 12 लाख फ़लस्तीनियों के लिए दिसम्बर तक खाद्य सहायता बरक़रार रखने के लिए, तत्काल साढ़े 7 करोड़ डॉलर की आवश्यकता है, जबकि डब्ल्यूएफ़पी को अधिकृत फ़लस्तीनी क्षेत्रों (OPT) में सहायता प्रयासों के लिए 3 करोड़ 20 लाख डॉलर की ज़रूरत होगी.

राजनैतिक प्रक्रिया

विशेष समन्वयक ने ब्रीफ़िंग के अन्त में कहा कि संघर्ष के मूल मुद्दों को हल करने के लिए वैध राजनैतिक प्रक्रिया से बेहतर कोई विकल्प नहीं है.

उन्होंने दशकों के संघर्ष के हल के लिए फ़लस्तीनियों और इसराइलियों, दोनों का समर्थन करने की अपनी प्रतिबद्धता दोहराते हुए कहा कि दो देशों - इसराइल और 1967 से पहले की तर्ज़ पर सुरक्षित एवं मान्यता प्राप्त सीमाओं के अन्तर्गत, एक स्वतंत्र, लोकतांत्रिक, व्यवहार्य एवं सम्प्रभु फ़लस्तीनी राष्ट्र के दृष्टिकोण की खोज में, शान्तिपूर्ण तरीक़े से एक साथ रहना शामिल है.”