वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

एसडीजी में निवेश के लिए, अभूतपूर्व प्रतिबद्धता की पुकार

संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में टिकाऊ विकास लक्ष्यों के आसपास चर्चा के एक सप्ताह की मेजबानी कर रहा है.
UN Photo/Mark Garten
संयुक्त राष्ट्र मुख्यालय में टिकाऊ विकास लक्ष्यों के आसपास चर्चा के एक सप्ताह की मेजबानी कर रहा है.

एसडीजी में निवेश के लिए, अभूतपूर्व प्रतिबद्धता की पुकार

एसडीजी

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंतोनियो गुटेरेश ने कहा है कि वर्ष 2030 तक एक निष्पक्षअधिक न्यायसंगत और पर्यावरणीय रूप से हरित भविष्य सुनिश्चित करने हेतु, टिकाऊ विकास लक्ष्यों (SDG) को बचाना होगा.

इसके लिए, उन्होंने 'बचाव योजना' में ठोस नीतियों, वित्तीय सहायता और निवेश की आवश्यकता पर बल दिया है.

यूएन प्रमुख ने न्यूयॉर्क स्थित मुख्यालय में टिकाऊ विकास लक्ष्यों पर केन्द्रित दो-दिवसीय शिखर बैठक के समापन पर, मंगलवार को यह बात कही.

इस बैठक के दौरान, विश्व नेताओं ने 17 लक्ष्यों के एजेंडा को साकार करने की कार्रवाई में तेज़ी लाने के इरादे से एक राजनैतिक घोषणा-पत्र पारित किया है. 

कोविड-19 महामारी और अन्य वैश्विक संकटों के प्रभावों के कारण इन लक्ष्यों पर प्रगति के पटरी से उतर जाने का ख़तरा है.

भूख, सार्वजनिक स्वास्थ्य, जैव विविधता, मज़बूत संस्थानों, पर्यावरण संरक्षण जैसे प्रदूषण शमन और शान्तिपूर्ण समुदायों से सम्बन्धित लक्ष्य फ़िलहाल लक्ष्य से भटके हुए हैं.

वादे नहीं, कार्रवाई की आवश्यकता 

यूएन प्रमुख ने कहा, “अब घोषणापत्र के शब्दों को कार्रवाई में बदलना होगा और विकास में उस स्तर पर निवेश किया जाना होगा, जैसाकि पहले कभी नहीं देखा गया.”

इस राजनैतिक घोषणापत्र में विकासशील देशों के लिए वित्त पोषण के लिए प्रतिबद्धता और एसडीजी लक्ष्यों पर प्रगति के लिए 500 अरब डॉलर के वार्षिक पैकेज के प्रस्ताव के लिए समर्थन की पुकार भी है.

महासचिव ने सदस्य देशों को शिखर बैठक से मिली गति का अधिकतम लाभ उठाने के लिए प्रोत्साहित किया और आगे के लिए एक मार्गदर्शक के रूप में "विकास कार्य सूची" पेश की.

'वास्तविक निवेश'

उन्होंने विकासशील देशों में एसडीजी प्रोत्साहन पैकेज के लिए समर्थन में बदलाव लाने के महत्व पर बल दिया. 

इस क्रम में, नेताओं के एक समूह को गठित करने का सुझाव दिया गया है, जोकि 2024 के अन्त से पहले, वित्त पोषण के लिए स्पष्ट क़दमों का ख़ाका तैयार करेगा. 

नेताओं को शिखर बैठक के दौरान ली गई प्रतिबद्धताओं को विशिष्ट नीतियों, सहायता धनराशि, निवेश रणनीतियों और ठोस कार्यों में बदलना अहम होगा. 

इसके अलावा, उन्हें छह प्रमुख एसडीजी क्षेत्रों में पहल के लिए अपना समर्थन बढ़ाना होगा. इनमें खाद्य सुरक्षा, ऊर्जा, डिजिटलीकरण, शिक्षा, सामाजिक सुरक्षा, रोज़गार के अवसर और जैव विविधता संरक्षण शामिल हैं.

यूएन प्रमुख ने सामाजिक सुरक्षा में निवेश में पर्याप्त वृद्धि के लिए तत्काल योजना शुरू करने और 2030 तक अतिरिक्त चार अरब लोगों को कवरेज देने के उद्देश्य से विश्वव्यापी प्रयास शुरू करने के लिए सक्रिय क़दम उठाने की बात कही है.