वैश्विक परिप्रेक्ष्य मानव कहानियां

यूक्रेन: रूस द्वारा किया गया हमला, आमजन की पीड़ा का 'एक और उदाहरण'

यूक्रेन में क्षतिग्रस्त बिजली सबस्टेशनों में से एक.
© UNDP/Oleksandr Ratushniak
यूक्रेन में क्षतिग्रस्त बिजली सबस्टेशनों में से एक.

यूक्रेन: रूस द्वारा किया गया हमला, आमजन की पीड़ा का 'एक और उदाहरण'

शान्ति और सुरक्षा

यूक्रेन में मानवीय राहत मामलों के लिए संयुक्त राष्ट्र समन्वयक, डेनिज़ ब्राउन ने रूस द्वारा दोनेत्स्क क्षेत्र के कोस्टिएनतिनिव्का नगर के एक व्यस्त बाज़ार समेत अन्य इलाक़ों में हुए हमलों की कठोर निन्दा की है. 

कोस्टिएनतिनिव्का में हुए हमले में बच्चों सहित कई आम नागरिक मारे गए हैं और अनेक अन्य घायल हुए हैं. इसे हाल के महीनों में हुए सबसे घातक हमले के रूप में देखा जा रहा है. 

अन्य रूसी हमलों में ज़ैपोरिझझिया क्षेत्र में स्कूल और घर क्षतिग्रस्त हुए हैं और ओडेसा क्षेत्र में बन्दरगाह सुविधाओं और अनाज भंडारण के बुनियादी ढाँचों को नुक़सान पहुँचा है.

Tweet URL

यूक्रेन में मानवीय सहायता के लिए यूएन की शीर्ष अधिकारी डेनिज़ ब्राउन ने बुधवार को क्षोभ प्रकट करते हुए इन सिलसिलेवार हमलों की ख़बरों पर गहरा शोक जताया. उन्होंने कहा कि एक बार फिर से यूक्रेन के विभिन्न क्षेत्रों में बड़े पैमाने पर जान-माल की हानि हुई है. 

“यह यूक्रेन के लिए वास्तव में एक बहुत दुखद दिन है. यह अत्यन्त त्रासदीपूर्ण और अस्वीकार्य घटना, रूस के आक्रमण से उपजी उस पीड़ा का एक और उदाहरण है, जिसका दंश देश भर के नागरिक भुगत रहे हैं.” 

यूएन की वरिष्ठ अधिकारी द्वारा जारी वक्तव्य में रेखांकित किया गया है कि ऐसे समय में, जब विश्व के निर्धनतम देशों में लाखों लोग भूख से जूझ रहे हैं, यूक्रेनी बन्दरगाहों पर बार-बार होने वाले हमले, किसानों को उनकी आजीविका के साधनों और दुनिया को भोजन की उपलब्धता से वंचित कर रहे हैं.

हज़ारों लोग हताहत

संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय (OHCHR) के अनुसार, 24 फरवरी 2022 को यूक्रेन पर रूसी आक्रमण होने के बाद से 27 अगस्त, 2023 तक, देश में 26 हज़ार 717 नागरिक हताहत हुए हैं. 

नौ हज़ार 511 आम लोगों की मौत हुई है और 17 हज़ार 206 लोग घायल हुए हैं.

इनमें यूक्रेन के नियंत्रण वाले और रूस द्वारा क़ाबिज़, दोनों इलाक़ों में हताहत शामिल हैं. 

यूएन मानवाधिकार कार्यालय हताहतों का वास्तविक आँकड़ा इससे कहीं अधिक होने की आशंका जताई है, चूँकि गहन लड़ाई वाले इलाक़ों से जानकारी मिलने में देरी हुई है और अभी तक अनेक रिपोर्टों का सत्यापन नहीं हो पाया है. 

अन्तरराष्ट्रीय क़ानून का सम्मान

यूएन समन्वयक, डेनिज़ ब्राउन ने अपने वक्तव्य में ध्यान दिलाया है अन्तरराष्ट्रीय मानवतावादी क़ानून के तहत आम लोगों व नागरिक प्रतिष्ठानों की सुरक्षा सुनिश्चित की जानी होगी. 

“जानबूझकर आम लोगों या नागरिक प्रतिष्ठानों पर निशाना साधना, या जानबूझकर, ये जानते हुए भी हमला करना कि इससे आम लोगों को अत्यधिक नुक़सान होगा, एक युद्ध अपराध की श्रेणी में आता है.”

उनके अनसार, अन्तरराष्ट्रीय मानवतावादी क़ानून का सम्मान किया जाना होगा और यूक्रेन के लोगों के लिए, इस विनाशकारी क्रूरता पर तत्काल विराम लगाए जाने की ज़रूरत है.